इस जानकारी को छोड़ दें

सैकेंडरी मैन्यू को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

हिंदी

नौजवानों के सवाल

टाल-मटोल करने की आदत से कैसे छुटकारा पाऊँ?

टाल-मटोल करने की आदत से कैसे छुटकारा पाऊँ?

क्या आप अपना होमवर्क और घर के काम समय पर पूरे नहीं कर पाते? सबकुछ समय पर करने के लिए आपको कुछ कदम उठाने होंगे। इस लेख से आप जान सकेंगे कि आप टाल-मटोल करना कैसे बंद कर सकते हैं, फिर चाहे

यह लेख पढ़ने के बाद देखिए कि आप  टाल-मटोल से जुड़े सवालों के क्या जवाब देते हैं, जो लेख के आखिर में दिए गए हैं।

बाइबल बताती है कि टाल-मटोल करने से क्या नुकसान होते हैं। इसमें लिखा है, “जो हवा का रुख देखता है वह बीज नहीं बोएगा और जो बादलों को ताकता है वह फसल नहीं काटेगा।”—सभोपदेशक 11:4.

ध्यान दीजिए कि क्यों कुछ लोग टाल-मटोल करते हैं और यह भी कि कैसे वे अपनी इस आदत से छुटकारा पा सकते हैं।

 आपको वह काम बहुत मुश्किल लगे।

यह सच है कि कुछ काम इतने मुश्किल होते हैं कि उन्हें करने का मन ही नहीं करता। इस बारे में कुछ बढ़िया सुझावों पर ध्यान दीजिए।

  • मुश्किल काम को थोड़ा-थोड़ा करके पूरा कीजिए। मेलीसा बताती है, “मुझे पता होता है कि मैं अपने काम में बहुत पीछे चल रही हूँ, फिर भी मैं एक वक्‍त पर एक ही काम करने की कोशिश करती हूँ।

  • फौरन शुरू कीजिए। वीर कहती है, “जैसे ही काम मिले, फौरन शुरू कीजिए। ज़्यादा कुछ नहीं तो उसे अपने कामों की सूची में जोड़ दीजिए या आपके मन में उस काम से जुड़े जो भी उपाय आते हैं, उन्हें लिख लीजिए, इससे पहले कि आप भूल जाएँ।

  • दूसरों से मदद लीजिए। हो सकता है कि एक वक्‍त पर आपके माता-पिता और शिक्षकों को भी ऐसा ही लगता हो। उनसे बात कीजिए। वे शायद आपको बताएँ कि आप वह काम कैसे कर सकते हैं और उसे पूरा करने की योजना कैसे बना सकते हैं।

सुझाव एक शेड्यूल बनाइए। इसका मतलब आपको सबकुछ व्यवस्थित तरीके से करना होगा और ठान लेना होगा कि आप शेड्यूल के मुताबिक काम भी करेंगे। इससे आपको फायदा होगा। आपका हर काम वक्‍त पर हो जाएगा।”—एब्बी।

 आपका काम करने का मन न करे।

कई बार जो काम करना होता है, उसमें कुछ बातें बहुत उबाऊ लगती हैं। ऐसे में आप क्या कर सकते हैं? नीचे दिए गए सुझावों पर ध्यान दीजिए।

  • सोचिए कि इसे करने से क्या फायदा होगा। जैसे, सोचिए कि काम पूरा होने पर आपको कितना अच्छा लगेगा। एमी कहती है, “कोई काम वक्‍त पर या उससे पहले पूरा करने पर मुझे बहुत अच्छा लगता है। फिर मैं चैन से रह पाती हूँ।

  • सोचिए कि काम टालते रहने से क्या नुकसान होगा। जब आप काम टालते रहते हैं, तब आपकी चिंता बढ़ जाती है । इसके अलावा आपको वह फायदा भी नहीं होगा, जो समय पर काम करने से होता है। बाइबल में लिखा है, “एक इंसान जो बोता है, वही काटेगा भी।”—गलातियों 6:7.

  • यह मानकर चलिए कि काम पूरा करने की तारीख से एक-दो दिन पहले ही आपको वह काम पूरा करना है। आलीस्या कहती है, “जब मैं यह मानकर चलती हूँ कि किसी काम को मुझे उसकी आखिरी तारीख से एक-दो दिन पहले ही पूरा करना है, तो इससे मुझे बहुत मदद मिलती है। मैं अपने काम की दोबारा जाँच कर पाती हूँ और मेरे एक-दो दिन बच भी जाते हैं।

सुझाव सबकुछ आपकी सोच और मन पर निर्भर करता है। खुद से कहिए कि आपको जो काम करना है, उसे आप ज़रूर करेंगे। किसी भी बात को आड़े नहीं आने देंगे। जब मैं खुद से ऐसा ही कहती हूँ, तो जो काम मुझे करना होता है, वह मैं पूरा कर पाती हूँ।”—अलेक्सिस।

 आप बहुत व्यस्त रहते हों।

नेथन कहता है, “लोग मुझे अकसर आलसी बुलाते हैं। लेकिन उनका ऐसा कहना सही नहीं है! उन्हें क्या पता कि मेरे पास कितना काम है!” अगर आपको भी ऐसा ही लगता है, तो आगे बताए सुझावों पर ध्यान दीजिए।

  • पहले आसान काम कीजिए। ऐम्बर कहती है, “एक बार किसी ने मुझसे कहा कि अगर किसी काम में पाँच मिनट से कम समय लगे, तो उसे फौरन कर देना चाहिए। जैसे, कुछ साफ करना, कपड़े सुखाना, बरतन धोना या किसी को फोन करना।

  • तय कीजिए कि कौन-सा काम पहले करना है। बाइबल में लिखा है, ‘पहचानिए कि ज़्यादा अहमियत रखनेवाली बातें क्या हैं।’ (फिलिप्पियों 1:10) आप कैसे पहचानेंगे कि आपके रोज़ के कामों में कौन-से काम ज़्यादा ज़रूरी हैं? ऐन कहती है, ‘मैं अपने पास सारे कामों की एक सूची रखती हूँ, जिसमें लिखा होता है कि कौन-से काम किस तारीख पर होने हैं। लेकिन उस सूची में, मैं यह भी लिखती हूँ कि हर काम मुझे कब शुरू करना है और कब खत्म करना है।

क्या ऐसा करना बंदिश लगता है? ज़रा फिर सोचिए। जब आप शेड्यूल बनाते हैं, तो वक्‍त आपके हाथ में रहता है, न कि आप वक्‍त के हाथ में। इससे आपका तनाव कम हो सकता है। कैली कहती है, ‘किसी काम के बारे में पहले से सोच लेने से मैं हड़बड़ी में नहीं रहती और बाकी कामों के लिए भी एक सही योजना बना पाती हूँ।

  • ध्यान भटकाने वाली बातों से बचिए। जेनिफर कहती है, “मैं अपने घर में हर किसी को बता देती हूँ कि मैं कब अपना काम शुरू करनेवाली हूँ। मैं उनसे यह भी कहती हूँ कि अगर उन्हें मुझसे कुछ करवाना है, तो मेरा काम शुरू होने से पहले ही मुझे बता दें। मैं अपना फोन और ई-मेल अलर्ट भी बंद कर देती हूँ।

सुझाव जब तक आप अपने काम पूरे नहीं कर लेंगे, उनसे आपका पीछा नहीं छूटेगा। उनके बारे में सोच-सोचकर परेशान होने के बजाय उन्हें खत्म कीजिए। इससे आपका बाकी दिन चैन से कटेगा।”—जॉर्डन।