इस जानकारी को छोड़ दें

सैकेंडरी मैन्यू को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

हिंदी

नौजवानों के सवाल

क्या मुख मैथुन (ओरल सेक्स) सच में सेक्स है?

क्या मुख मैथुन (ओरल सेक्स) सच में सेक्स है?

यू.एस. सेन्टर्स फॉर डिज़ीज़ कंट्रोल एंड प्रिवेन्शन के मुताबिक कुछ लड़के-लड़कियों का इंटरव्यू लिया गया, जिनकी उम्र 15-19 साल के बीच थी। उनमें से करीब आधे लोग मुख मैथुन (ओरल सेक्स) कर चुके थे। * शार्लीन एज़म, जिन्होंने ओरल सेक्स इज़ द न्यू गुडनाइट किस नाम की किताब लिखी, कहती हैं, “अगर आप किशोर उम्र के लड़के-लड़कियों से [मुख मैथुन के बारे में] बात करेंगे, तो वह कहेंगे कि इसमें कोई बड़ी बात नहीं है। असल में वे इसे सेक्स मानते ही नहीं हैं।”

 आप क्या सोचते हैं?

नीचे दिए गए सवालों के जवाब हाँ या नहीं में दीजिए।

  1. क्या एक लड़की मुख मैथुन से गर्भवती हो सकती है?

    1. क) हाँ

    2. ख) नहीं

  2. क्या मुख मैथुन से कोई बीमारी लग सकती है?

    1. क) हाँ

    2. ख) नहीं

  3. क्या मुख मैथुन सच में सेक्स है?

    1. क) हाँ

    2. ख) नहीं

 इस बारे में सच्चाई क्या है?

अपने जवाब को नीचे दी गयी जानकारी से मिलाकर देखिए।

  1. क्या एक लड़की मुख मैथुन से गर्भवती हो सकती है?

    जवाब: नहीं। इस वजह से कई लोगों को लगता है कि मुख मैथुन से कोई नुकसान नहीं होता।

  2. क्या मुख मैथुन से कोई बीमारी लग सकती है?

    जवाब: हाँ। जो कोई मुख मैथुन करता है, उसे मुख मैथुन से हेपेटाइटिस (ए या बी), जननांग मस्सा, सूजाक (गनोरिया), दाद (हरपीज़), एच.आई.वी और उपदंश (सिफलिस) जैसी बीमारियाँ हो सकती हैं।

  3. क्या मुख मैथुन सच में सेक्स है?

    जवाब: हाँ। ऐसा कुछ भी करना जिसमें दूसरों के जननांग शामिल हों, उसे सेक्स माना जाता है। इसमें न सिर्फ साधारण तौर पर लैंगिक संबंध रखना, बल्कि मुख मैथुन, गुदा मैथुन और दूसरे व्यक्‍ति का हस्त मैथुन करना भी शामिल है।

 यह क्यों मायने रखता है?

आइए गौर करें कि पवित्र शास्त्र बाइबल में ऐसी कौन-सी आयतें हैं, जिनमें दिए सिद्धांत मुख मैथुन से जुड़े हैं।

पवित्र शास्त्र में लिखा है: ‘परमेश्‍वर की मरज़ी यही है कि तुम व्यभिचार से दूर रहो।’—1 थिस्सलुनीकियों 4:3.

शास्त्र में जिस शब्द का अनुवाद “नाजायज़ यौन-संबंध” किया गया है, उसमें वे सभी लैंगिक अनैतिकता के काम शामिल हैं जो लोग शादी से पहले या शादी के बाद अपने साथी के अलावा किसी और के साथ करते हैं। जैसे, लैंगिक संबंध रखना, मुख मैथुन, गुदा मैथुन और दूसरे व्यक्‍ति का हस्त मैथुन करना। जो व्यक्‍ति नाजायज़ यौन-संबंध रखता है, उसे इसका बुरा अंजाम भुगतना पड़ सकता है। सबसे बुरी बात तो यह होगी कि परमेश्‍वर के साथ उसकी दोस्ती टूट सकती है।—1 पतरस 3:12.

पवित्र शास्त्र में लिखा है: “जो व्यभिचार में लगा रहता है वह अपने ही शरीर के खिलाफ पाप कर रहा है।”—1 कुरिंथियों 6:18.

मुख मैथुन से सेहत खराब हो सकती है, परमेश्‍वर के साथ हमारा रिश्‍ता बिगड़ सकता है और बहुत दुख भी हो सकता है। बच्चों से सेक्स के बारे में बात करना (अँग्रेज़ी) नाम की किताब में लिखा है कि किसी के साथ नाजायज़ लैंगिक संबंध बनाने से एक व्यक्‍ति बहुत बुरा महसूस करता है। जैसे, उसे लगता है कि अब वह किसी के लायक नहीं रहा, वह अपने किए पर पछताता है और बहुत दुखी होता है। एक व्यक्‍ति को नाजायज़ यौन-संबंध बनाने से जो दुख होता है, वही दुख किसी भी तरह से लैंगिक अनैतिक काम करने से हो सकता है, जैसे मुख मैथुन। ये सभी काम सेक्स ही हैं।”

पवित्र शास्त्र में लिखा है: “मैं ही तेरा परमेश्‍वर यहोवा हूँ जो तुझे तेरे लाभ के लिये शिक्षा देता हूँ।”—यशायाह 48:17.

क्या आपको यकीन है कि सेक्स के बारे में दिए परमेश्‍वर के नियमों से आपको फायदा होता है? या आपको ये बंदिश लगते हैं? इन सवालों के जवाब पाने के लिए एक हाईवे के बारे में सोचिए, जिस पर बहुत-सी गाड़ियाँ हैं, गति सीमा के बोर्ड हैं, ट्रैफिक सिग्नल हैं और रुकने की निशानियाँ हैं। आपको क्या लगता है, ये बोर्ड और निशानियाँ आपके लिए बंदिश हैं या इनसे आपकी सुरक्षा होती है? अगर आप और दूसरे गाड़ीवाले इन पर ध्यान न दें, तो क्या होगा?

यातायात के नियम आपकी आज़ादी पर बंदिश ज़रूर लगाते हैं, पर उनसे आपकी सुरक्षा होती है। उसी तरह परमेश्‍वर के नियम आप पर बंदिश ज़रूर लगाते हैं, पर वे आपकी हिफाज़त के लिए हैं

ऐसा ही परमेश्‍वर के स्तरों के साथ है। अगर आप इन स्तरों पर ध्यान न दें, तो आप वही काटेंगे, जो आप बोएँगे। (गलातियों 6:7) सेक्स स्मार्ट नाम की किताब में लिखा है, “जितना ज़्यादा आप अपने विश्‍वास और नैतिक स्तरों को नज़रअंदाज़ करते जाएँगे और ऐसे काम करेंगे जो आपको सही नहीं लगते, उतना ही आप अपनी नज़रों में गिरते जाएँगे।” लेकिन अगर आप परमेश्‍वर के स्तरों के मुताबिक जीएँगे, तो आपका चालचलन अच्छा माना जाएगा। इससे भी बढ़कर, आपका ज़मीर शुद्ध रहेगा।—1 पतरस 3:16.

^ पैरा. 3 मुख मैथुन का मतलब है, ऐसा काम जिसमें किसी के जननांगों को जीभ या मुँह से सहलाकर उत्तेजित किया जाता है।