इस जानकारी को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

पवित्र शास्त्र का नयी दुनिया अनुवाद (अध्ययन बाइबल)

ख12-ख

धरती पर यीशु की ज़िंदगी का आखिरी हफ्ता (भाग 2)

नीसान 12

सूरज ढलना (यहूदियों का दिन सूरज ढलने से शुरू होकर अगले दिन सूरज ढलने पर खत्म होता था)

सूरज उगना

  • चेलों के साथ अकेले में वक्‍त बिताता है

  • यहूदा, यीशु को पकड़वाने की बात करके आता है

सूरज ढलना

नीसान 13

सूरज ढलना

सूरज उगना

  • पतरस और यूहन्‍ना फसह की तैयारी करते हैं

  • यीशु और दूसरे प्रेषित दोपहर के बाद पहुँचते हैं

सूरज ढलना

नीसान 14

सूरज ढलना

  • प्रेषितों के साथ फसह का खाना खाता है

  • प्रेषितों के पैर धोता है

  • यहूदा को बाहर भेज देता है

  • प्रभु के संध्या-भोज की शुरूआत करता है

  • गतसमनी बाग में उसके साथ विश्‍वासघात; उसकी गिरफ्तारी

  • प्रेषित भाग जाते हैं

  • कैफा के घर पर महासभा मुकदमा चलाती है

  • पतरस यीशु को जानने से इनकार करता है

सूरज उगना

  • दोबारा महासभा के सामने लाया जाता है

  • पहले पीलातुस के, फिर हेरोदेस के और दोबारा पीलातुस के सामने लाया जाता है

  • मौत की सज़ा सुनायी जाती है और गुलगुता में मार डाला जाता है

  • दोपहर करीब तीन बजे दम तोड़ता है

  • यीशु की लाश काठ से उतारी जाती है, कब्र में रखी जाती है

सूरज ढलना

नीसान 15 (सब्त)

सूरज ढलना

सूरज उगना

  • पीलातुस, यीशु की कब्र पर पहरा बिठाने की मंज़ूरी देता है

सूरज ढलना

नीसान 16

सूरज ढलना

  • लाश पर लगाने के लिए और भी मसाले खरीदे जाते हैं

सूरज उगना

  • ज़िंदा हो जाता है

  • चेलों को दिखायी देता है

सूरज ढलना