इस जानकारी को छोड़ दें

रिश्‍ते

दोस्त कैसे बनाएँ

अपनी ज़िंदगी बेहतर बनाइए​—⁠पारिवारिक और आपसी रिश्‍ते

अगर हम दूसरों के साथ अच्छा रिश्‍ता बनाए रखना चाहते हैं, तो हमें यह नहीं सोचना चाहिए कि वे हमारे लिए क्या कर सकते हैं बल्कि यह कि हम उनके लिए क्या कर सकते हैं।

सच्चा दोस्त किसे कहते हैं?

झूठे दोस्त बड़ी आसानी से मिल जाते हैं, लेकिन आप एक सच्चा दोस्त कैसे पा सकते हैं?

पक्के दोस्त कैसे बनाएँ?

चार ऐसे तरीके जानिए, जिन्हें अपनाकर आप अपनी दोस्ती को पक्की दोस्ती में बदल सकते हैं।

क्या मुझे दोस्ती का दायरा बढ़ाना चाहिए?

कुछ ही लोगों से दोस्ती बनाए रखना हमें अच्छा लग सकता है, मगर यह हमेशा फायदेमंद नहीं। क्यों?

अकेलापन

अकेलेपन को कैसे दूर करें

हमेशा अकेला रहने से होनेवाला नुकसान एक दिन में 15 सिगरेट पीने से होनेवाले नुकसान के बराबर है। आप अकेलापन से कैसे लड़ सकते हैं?

टेकनॉलजी का इस्तेमाल

टेकनॉलजी का सही इस्तेमाल कैसे करें?

टेकनॉलजी के इस्तेमाल से पति-पत्नी का रिश्‍ता मज़बूत हो सकता है या फिर कमज़ोर। आपकी शादीशुदा ज़िंदगी पर इसका क्या असर हो रहा है?

ऑनलाइन फोटो शेयर करने के बारे में मुझे क्या पता होना चाहिए?

अपनी मनपसंद फोटो दोस्तों और परिवारवालों के साथ शेयर करने का आसान तरीका है उन्हें ऑनलाइन पोस्ट करना। लेकिन इसके कुछ खतरे भी हैं।

सोशल मीडिया​—ज़रा सँभलकर

इसके ज़रिए अपने दोस्तों से जुड़े रहिए, लेकिन इसका इस्तेमाल ज़रा सँभलकर कीजिए।

मुझे मैसेज करने के बारे में क्या पता होना चाहिए?

मैसेज का अपकी दोस्ती और आपकी इज़्ज़त पर असर पड़ सकता है। जानिए कैसे।

डेटिंग

क्या मैं डेटिंग के लिए तैयार हूँ?

पाँच बातें जिनसे आप जान पाएँगे कि आप डेटिंग और शादी के लिए तैयार हैं या नहीं।

क्या इश्‍कबाज़ी बस मज़ाक है?

इश्‍कबाज़ी का क्या मतलब है? कुछ लोग यह क्यों करते हैं? इसके क्या अंजाम हो सकते हैं?

दोस्ती या प्यार?—भाग 1: उसके मैसेज से मुझे क्या इशारा मिल रहा है?

कुछ सुझावों की मदद से आप जान सकते हैं कि सामनेवाला आपको सिर्फ एक दोस्त समझता है या उससे ज़्यादा।

दोस्ती या प्यार?—भाग 2: मेरे मैसेज से उसे क्या इशारा मिल रहा है?

कहीं उस लड़की को ऐसा तो नहीं लग रहा कि आप उसे सिर्फ दोस्त ही नहीं समझते बल्कि उसे चाहते भी हैं? तो ज़रा इन सुझावों पर गौर कीजिए।

यह प्यार है या दीवानापन?

दीवानापन और सच्चे प्यार का मतलब जानिए।

यहोवा के साक्षी डेटिंग करते समय किन बातों का ध्यान रखते हैं?

क्या डेटिंग सिर्फ मज़े करने के लिए की जाती है? या शादी करने के लिए?

क्या हमें अपना रिश्‍ता तोड़ देना चाहिए? (भाग 1)

शादी एक अटूट बंधन है। इसलिए अगर आपको लगे कि जिस व्यक्‍ति के साथ आप डेटिंग कर रहे हैं, वह सही जीवन-साथी साबित नहीं होगा, तो अपनी भावनाओं को नज़रअंदाज़ मत कीजिए!

क्या हमें अपना रिश्‍ता तोड़ देना चाहिए? (भाग 2)

अपने रिश्‍ते को तोड़ना का फैसला लेना कभी आसान नहीं होता। ऐसा करने का सबसे बढ़िया तरीका कौन-सा है?

मैं ब्रेकअप का दर्द कैसे दूर कर सकता हूँ?

ब्रेकअप का दर्द दूर करके ज़िंदगी में आगे बढ़ना सीखिए।

जब अनबन हो जाए

एक-दूसरे को कैसे माफ करें

माफी माँगना क्यों इतना मुश्‍किल लग सकता है? जानिए बाइबल की सलाह कैसे आपकी मदद कर सकती है।

खुशी की राह​—माफी

गुस्सा और कड़वाहट मन का चैन छीन लेते हैं और सेहत के लिए ठीक नहीं है।

Prejudice and Discrimination

कहीं आप भेदभाव तो नहीं करते?

लोग सदियों से भेदभाव करते आए हैं। बाइबल में दी सलाह मानिए और भेदभाव को अपने दिल में पनपने मत दीजिए।

भेदभाव​—दुनिया-भर में फैली एक बीमारी

हम भेदभाव कर रहे हैं या नहीं, यह हम कैसे पता लगा सकते हैं?

नफरत करना कैसे छोड़ें? सबको बराबर समझें

ईश्‍वर की तरह सबको बराबर समझिए और मन से नफरत निकाल दीजिए।

भेदभाव​—दोस्ती का दायरा बढ़ाइए

जानिए कि ऐसे लोगों से दोस्ती करने के क्या फायदे हैं जिनकी पसंद-नापसंद हमारी जैसी नहीं है।

क्या ऐसा कभी होगा कि सब लोगों को बराबर समझा जाए?​—इस बारे में पवित्र शास्त्र में क्या लिखा है?

आज लाखों लोग बाइबल से सीख रहे हैं कि कैसे सबके साथ आदर से पेश आएँ और किसी को छोटा-बड़ा ना समझें।

अटल प्यार नफरत पर कब जीत हासिल करेगा?

भेदभाव को जड़ से निकालना बहुत मुश्‍किल होता है। जानिए कि एक यहूदी और फलस्तीनी आदमी ने अपने मन से भेदभाव कैसे निकाला।

जॉनी और गिडियन: पहले थे दुश्‍मन, अब हैं भाई

कई जगहों पर आए दिन लोगों के साथ रंग-भेद की वजह से ज़्यादती की जाती है। जानिए कि दक्षिण अफ्रीका के रहनेवाले दो आदमियों ने कैसे भेदभाव की दीवार तोड़ दी।

मैं अन्याय के खिलाफ लड़ना चाहती थी

रफीका अन्याय से लड़ने के लिए एक क्रांतिकारी गुट के साथ जुड़ गयी थी। लेकिन फिर उसने जाना कि बाइबल वादा करती है कि परमेश्‍वर के राज में हमें न्याय मिलेगा और हम शांति से रह पाएँगे।