इस जानकारी को छोड़ दें

सैकेंडरी मैन्यू को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

हिंदी

बाइबल में दर्ज़ इतिहास सन्‌ 1914 के बारे में क्या बताता है?

बाइबल में दर्ज़ इतिहास सन्‌ 1914 के बारे में क्या बताता है?

शास्त्र से जवाब

बाइबल में दर्ज़ इतिहास के मुताबिक 1914 में परमेश्वर का राज स्वर्ग में शुरू हुआ था। यह हमें बाइबल की दानिय्येल नाम की किताब के चौथे अध्याय में लिखी भविष्यवाणी से पता चलता है।

भविष्यवाणी पर एक नज़र। परमेश्वर ने बैबिलोन के राजा नबूकदनेस्सर को एक सपना दिखाया, जो कि एक भविष्यवाणी थी। इस सपने में एक विशाल पेड़ को काट डाला गया। उसकी ठूँठ को “सात काल” के लिए बाँध दिया गया, ताकि उस दौरान वह पेड़ बढ़ न सके। उसके बाद ठूँठ को खोल दिया गया।—दानिय्येल 4:1, 10-16.

भविष्यवाणी की पहली पूर्ति। यह विशाल पेड़ राजा नबूकदनेस्सर को दर्शाता था। (दानिय्येल 4:20-22) सात साल के लिए राजा पागल हो जाता है, जिस वजह से वह अपनी राजगद्दी पर नहीं बैठ पाता, इस मायने में राजा नबूकदनेस्सर यानी यह विशाल पेड़ ‘काट डाला’ जाता है। (दानिय्येल 4:25) जब परमेश्वर ने उसके पागलपन को ठीक किया और उसको राजगद्दी वापस की, तब नबूकदनेस्सर ने यह माना कि परमेश्वर ही इस धरती पर हुकूमत करने का हकदार है।—दानिय्येल 4:34-36.

भविष्यवाणी की पूर्ति बड़े पैमाने पर हुई, इसके सबूत। इस पूरी भविष्यवाणी का मकसद था, “कि समस्त प्राणी जान लें कि मनुष्यों के राज्य में परमप्रधान शासन करता है और इसे जिसको चाहता है उसको देता है, वरन्‌ नम्र से नम्र पुरुष को उस पर नियुक्‍त कर देता है।” (दानिय्येल 4:17, अ न्यू हिन्दी ट्रांस्लेशन) परमेश्वर अपने राज का राजा क्या घमंडी नबूकदनेस्सर को बनाना चाहता था? नहीं। क्योंकि परमेश्वर ने पहले ही नबूकदनेस्सर को एक सपने में बता दिया था कि वह न तो नबूकदनेस्सर को न ही किसी दूसरे राजनैतिक शासक को अपने राज का राजा बनाएगा। इसके बजाय, परमेश्वर खुद “एक ऐसा राज्य उदय करेगा जो अनन्तकाल तक न टूटेगा।”—दानिय्येल 2:31-44.

बीते समय में इसराएल राष्ट्र पर जो राजा हुकूमत करते थे, वह दरअसल परमेश्वर की तरफ से ठहराए गए थे और धरती पर उसकी हुकूमत को दर्शाते थे। इसराएली राजा परमेश्वर के वफादार नहीं रहे, इसलिए परमेश्वर ने उनके राज को “उलट पुलट” या नाश होने की इजाज़त दी। लेकिन परमेश्वर ने यह भी भविष्यवाणी की कि वह यह राज एक कानूनी “अधिकारी” को सौंपेगा। (यहेजकेल 21:25-27) बाइबल बताती है कि परमेश्वर के राज का अधिकारी यीशु मसीह है। (लूका 1:30-33) और यह भी बताती है कि यीशु मसीह, घमंडी नबूकदनेस्सर के जैसा नहीं होगा, बल्कि “दिल से दीन” होगा।—मत्ती 11:29.

दानिय्येल अध्याय 4 में बताया विशाल पेड़ किसे दर्शाता है? बाइबल में कभी-कभी पेड़ हुकूमत को दर्शाते हैं। (यहेजकेल 17:22-24; 31:2-5) दानिय्येल अध्याय 4 में बतायी भविष्यवाणी की बड़ी पूर्ति में विशाल पेड़ परमेश्वर की हुकूमत को दर्शाता है।

पेड़ के काट डाले जाने का क्या मतलब है? जिस तरह से पेड़ का काट डालना इस बात की निशानी थी कि नबूकदनेस्सर का राज थोड़े समय के लिए रोक दिया जाएगा, उसी तरह वह इस बात की भी निशानी थी कि धरती पर परमेश्वर की हुकूमत कुछ समय के लिए रोक दी जाएगी। यरूशलेम की राजगद्दी “यहोवा के सिंहासन” या हुकूमत को दर्शाती थी। लेकिन जब नबूकदनेस्सर ने यरूशलेम का नाश किया, तब परमेश्वर की हुकूमत धरती पर कुछ समय के लिए रुक गयी।—1 इतिहास 29:23.

“सात काल” का क्या मतलब है? “सात काल” उस वक्त को दर्शाता है जब इस धरती पर परमेश्वर की हुकूमत कुछ समय के लिए रोक दी गयी थी। उस दौरान परमेश्वर ने इंसानों को हुकूमत करने की इजाज़त दी। बाइबल के इतिहास के अनुसार “सात काल” ईसा पूर्व 607 अक्टूबर में शुरू हुआ, जब नबूकदनेस्सर ने यरूशलेम का नाश किया। *2 राजा 25:1, 8-10.

यह “सात काल” कितने लंबे समय का था? नबूकदनेस्सर के मामले में यह “सात काल” सचमुच के सात साल थे। लेकिन जब भविष्यवाणी बड़े पैमाने पर पूरी हुई, तब यह सिर्फ सात साल नहीं थे। यह हम यीशु मसीह की कही एक बात से समझ सकते हैं। उसने बताया कि “जब तक इन राष्ट्रों [इंसान की सरकारों] के लिए तय किया हुआ वक्‍त पूरा न हो जाए, तब तक यरूशलेम [परमेश्वर की हुकूमत] इन राष्ट्रों के पैरों तले रौंदा जाएगा।” (लूका 21:24) ‘राष्ट्रों के लिए तय किए गए वक्त’ के दौरान परमेश्वर ने अपनी हुकूमत को ‘इंसान की सरकारों के पैरों तले रौंदे’ जाने की इजाज़त दी। यह वक्त ही दानिय्येल अध्याय 4 में बताया गया “सात काल” है। यानी ये “सात काल” तब भी जारी थे, जब यीशु धरती पर था।

बाइबल हमें “सात काल” की लंबाई समझने में मदद करती है। वह बताती है कि साढ़े तीन “समय” या काल 1,260 दिन के बराबर है। साढ़े तीन काल का दुगना “सात काल” हुआ यानी 2,520 दिन। (प्रकाशितवाक्य 12:6, 14) भविष्यवाणी के नियम के मुताबिक “एक दिन एक वर्ष” है, तो 2520 दिन 2520 साल हुए। इस तरह “सात काल” या 2520 साल अक्टूबर 1914 में पूरे हुए।—गिनती 14:34 (ईज़ी-टू-रीड वर्शन); यहेजकेल 4:6.

^ पैरा. 10 हम ईसा पूर्व 607 की तारीख का इस्तेमाल क्यों कर रहे हैं, यह जानने के लिए बाइबल असल में क्या सिखाती है किताब के पेज 215-218 पर दिया अतिरिक्‍त लेख “सन्‌ 1914—बाइबल की भविष्यवाणी का अहम साल” देखिए। इसके अलावा, अँग्रेज़ी में अक्टूबर 1, 2011 की प्रहरीदुर्ग के पेज 26-31 पर “प्राचीन यरूशलेम का विनाश कब हुआ—भाग 1” और नवंबर 1, 2011 की प्रहरीदुर्ग के पेज 22-28 पर “प्राचीन यरूशलेम का विनाश कब हुआ—भाग 2” लेख भी देखिए।