इस जानकारी को छोड़ दें

क्या धूम्रपान करना पाप है?

क्या धूम्रपान करना पाप है?

शास्त्र से जवाब

बाइबल में धूम्रपान करने * या किसी और तरीके से तंबाकू का सेवन करने के बारे में नहीं बताया गया है। मगर इसमें दिए सिद्धांतों से पता चलता है कि परमेश्‍वर उन आदतों से खुश नहीं होता, जो गंदी हैं और जिनसे हमारे शरीर को नुकसान होता है। इससे हम समझ सकते हैं कि परमेश्‍वर धूम्रपान को पाप समझता है।

  • जीवन की कदर। ‘परमेश्‍वर सबको जीवन और साँसें देता है।’ (प्रेषितों 17:24, 25) जीवन परमेश्‍वर की तरफ से एक तोहफा है, इसलिए हमें सिगरेट पीने जैसी बुरी आदतों में नहीं पड़ना चाहिए, जिनकी वजह से हमारी जल्दी मौत हो सकती है। पूरी दुनिया में धूम्रपान एक बड़ी वजह है, जिससे लोगों की मौत होती है, जबकि लोग इस तरह की मौत से खुद को बचा सकते हैं।

  • लोगों के लिए प्यार। “अपने पड़ोसी से वैसे ही प्यार करना जैसे तुम खुद से करते हो।” (मत्ती 22:39) लेकिन धूम्रपान करने पर हम लोगों के लिए प्यार नहीं ज़ाहिर कर रहे होते हैं। जो बीमारियाँ धूम्रपान करनेवालों को लगती हैं, उनके लगने का ज़्यादा खतरा उन लोगों को रहता है, जो धूम्रपान तो नहीं करते, मगर धूम्रपान करनेवालों के आस-पास रहते हैं।

  • पवित्रता। “अपने शरीर को जीवित, पवित्र और परमेश्‍वर को भानेवाले बलिदान के तौर पर अर्पित करो।” (रोमियों 12:1) “आओ हम तन और मन की हर गंदगी को दूर करके खुद को शुद्ध करें और परमेश्‍वर का डर मानते हुए पूरी हद तक पवित्रता हासिल करें।” (2 कुरिंथियों 7:1) धूम्रपान करना स्वाभाविक नहीं है और ऐसा करने से इंसान पवित्र नहीं रहता यानी वह शारीरिक तौर पर साफ और शुद्ध नहीं रहता। वह इसलिए कि तंबाकू का सेवन करनेवाले अपने शरीर में ऐसा पदार्थ लेते हैं, जिसके बारे में वे जानते हैं कि वह शरीर के लिए हानिकारक है।

बाइबल के मुताबिक क्या मज़े के लिए गाँजा या दूसरे ड्रग्स लेना सही है या गलत?

बाइबल में चरस-गाँजा या दूसरे ड्रग्स का ज़िक्र नहीं है, मगर इसमें ऐसे सिद्धांत दिए गए हैं, जिनसे पता चलता है कि इन चीज़ों का नशा करना गलत है। हमने अब तक जिन सिद्धांतों के बारे में चर्चा की है, वे तो लागू होते ही हैं और आगे दिए गए सिद्धांत भी:

  • सोचने-समझने की शक्‍ति। ‘तुम अपने परमेश्‍वर यहोवा से अपने पूरे दिमाग से प्यार करना।’ (मत्ती 22:37, 38) “पूरे होश-हवास में रहो।” (1 पतरस 1:13) ड्रग्स लेने से एक व्यक्‍ति होश में नहीं रहता है। बहुत-से लोगों को इसकी लत पड़ जाती है। वे हर वक्‍त बस उसे पाने और उसका इस्तेमाल करने के बारे में सोचते रहते हैं, वे अच्छी बातें सोच नहीं पाते।​—फिलिप्पियों 4:8.

  • देश के कानून का पालन। “सरकारों और अधिकारियों के अधीन रहें।” (तीतुस 3:1) बहुत-से देशों में कुछ ड्रग्स के इस्तेमाल के बारे में सख्त नियम हैं। परमेश्‍वर को खुश करने के लिए ज़रूरी है कि हम अधिकारियों के नियमों को मानें।​—रोमियों 13:1.

^ पैरा. 1 यहाँ धूम्रपान करने में कई बातें शामिल हैं, जैसे, सिगरेट या सिगार पीना, हुक्का या चिलम पीना। मगर यहाँ बताए सिद्धांत तंबाकू चबाने, पान-सुपारी खाने, सुंघनी सूँघने, ई-सिगरेट पीने या दूसरे किसी ऐसे पदार्थ का सेवन करने पर भी लागू होते हैं, जिसमें निकोटीन होता है।