इस जानकारी को छोड़ दें

शादीशुदा ज़िंदगी

कामयाबी का राज़

शादीशुदा ज़िंदगी को खुशहाल बनाने के लिए परमेश्वर से मदद माँगिए

दो आसान से सवालों की मदद से आप अपनी शादीशुदा ज़िंदगी में सुधार ला सकते हैं।

सुखी परिवार​—मिलकर काम करने का जज़्बा

क्या आप पति-पत्नी एक ही छत के नीचे अजनबियों की तरह रह रहे हैं?

शादी का पहला साल—बनाइए खुशहाल

क्या आप की हाल ही में शादी हुई है? बाइबल आपके शादी के बंधन को मज़बूत करने में आपकी मदद कर सकती है।

अपने साथी के साथ इज़्ज़त से पेश आना

एक पति या पत्नी कैसे एक-दूसरे से आदर से बात कर सकते हैं?

जताइए कि आपको अपने साथी की कदर है

जब पति-पत्नी एक-दूसरे की खूबियों पर ध्यान देते हैं और एक-दूसरे की तारीफ करते हैं, तो उनका रिश्ता मज़बूत होता है। आप यह कैसे कर सकते हैं?

अपने जीवन-साथी को प्यार कैसे जताएँ?

पति-पत्नी कैसे दिखा सकते हैं कि उन्हें एक-दूसरे की सच में परवाह है? बाइबल सिद्धांतों पर आधारित चार सुझाव उनके काम आ सकते हैं।

साथ निभाने के इरादे को कैसे पक्का करें

क्या साथ निभाने का इरादा करने से हम फँस जाते हैं जिसके बाद शादी करनी पड़ती है या यह इरादा लंगर की तरह है जिससे पति-पत्नी मुश्किलों का सामना कर पाते हैं।

अपने हमसफर का साथ निभाइए हर कदम

शादी का बंधन कैसे मज़बूत हो सकता है? यह कैसे कमज़ोर हो सकता है? आप अपने साथी का साथ कैसे निभा सकते हैं?

एक-दूसरे के वफादार बने रहिए

अपने साथी के वफादार बने रहने में क्या सिर्फ शादी के बाहर यौन-संबंध न रखना ही शामिल है?

खुशी की राह​—प्यार

दूसरों से प्यार करना और उनसे प्यार पाना खुशी के लिए बहुत ज़रूरी है।

बाइबल क्या सिखाती है

क्या पवित्र शास्त्र समलैंगिक शादी के बारे में कुछ बताता है?

शादी के इंतज़ाम की शुरूआत करनेवाला बेहतर जानता है कि शादी के बंधन को खुशहाल और अटूट कैसे बनाया जा सकता है।

क्या एक से ज़्यादा शादी करना सही है?

क्या यह विचार परमेश्‍वर का था? ध्यान दीजिए कि पवित्र शास्त्र एक से ज़्यादा शादी करने के बारे में क्या कहता है।

समस्या और समाधान

कैसे बनाएँ सास-ससुर के साथ अच्छा रिश्ता

सास-ससुर की समस्या आपकी शादीशुदा ज़िंदगी में समस्या न बन जाए, इसके लिए तीन तरीकों को आज़माकर देखिए।

अपने रिश्तेदारों के साथ शांति कैसे बनाए रखें

आप अपने शादीशुदा रिश्ते के साथ समझौता किए बगैर अपने माता-पिता का आदर कर सकते हैं।

जब जीवन-साथी को खास देखभाल की ज़रूरत हो

जब एक साथी को गंभीर बिमारी है तो ऐसे में शादी-शुदा जोड़ो की मदद के लिए तीन सुझाव पढ़िए।

जब पति-पत्नी की सोच मेल न खाए!

किस तरह पति-पत्नी समस्याओं को सुलझा सकते हैं और आपस में शांति बनाए रख सकते हैं?

अपनी शादीशुदा ज़िंदगी में साथ मिलकर झगड़े सुलझाएँ

किस वजह से झगड़े होते हैं? और आप क्या कर सकते हैं ताकि ये झगड़े आपकी शादीशुदा ज़िंदगी को तबाह न कर दें?

अपनी शादीशुदा ज़िंदगी में समस्याओं को सुलझाना

बाइबल के उसूलों को मानने से आप प्यार और आदर के साथ समस्याओं को हल कर सकेंगे। चार ज़रूरी कदम पर गौर करें।

क्या करें जब पसंद-नापसंद मिलती न हो

क्या आपको कभी ऐसा लगा है कि आपकी और आपके साथी की पसंद-नापसंद बिलकुल नहीं मिलती?

नाराज़गी कैसे दूर करें

जीवन-साथी को माफ करने का क्या यह मतलब है कि आप जीवन-साथी की गलती को कम आँकें या ऐसे पेश आएँ जैसे कुछ हुआ ही नहीं?

सुखी परिवार​—माफी

अपने साथी की खामियों को नज़रअंदाज़ करने के लिए आप क्या कर सकते हैं?

नन्हा मेहमान आया कई बदलाव लाया

जानिए कि कैसे माता-पिता बाइबल के सिद्धांत लागू करके इस नए बदलाव का सामना कर सकते हैं।

जब आपके बच्चे अलग रहने लगें

जब बच्चे बड़े होकर अलग रहने लगते हैं, तब माता-पिता के सामने बड़ी मुश्किलें खड़ी होती हैं। अपने खाली आशियाने में खुद को ढालने के लिए वे क्या कर सकते हैं?

अलग होने या तलाक लेने का फैसला

जब पति-पत्नी के बीच आ जाए दूरियाँ

क्या आपको लगता है कि आप दोनों रिश्तों की बेड़ियों में जकड़े हुए हैं। पाँच कदम आप दोनों की मदद करेंगे।

चाहे हमारा जीवन-साथी धोखा दे, फिर भी जीवन अनमोल है

जिन लोगों के जीवन-साथी ने उनसे बेवफाई की है, उन्हें बाइबल पढ़ने से अपने दुख से उबरने में बहुत मदद मिली है।

दोबारा भरोसा कायम करना

अगर व्यभिचार या किसी दूसरे गलत काम की वजह से आपकी शादी टूटने पर है और आप दोबारा भरोसा जीतने की कोशिश कर रहे हैं, तो हिम्मत मत हारिए, चुनौतियाँ ज़रूर आएँगी मगर आप कामयाब हो सकते हैं।

क्या पवित्र शास्त्र तलाक लेने की इजाज़त देता है?

जानिए कि परमेश्‍वर किस बात की इजाज़त देता है और किस बात से नफरत करता है।

यहोवा के साक्षी तलाक के बारे में क्या सोचते हैं?

क्या यहोवा के साक्षी ऐसे पति-पत्नियों की मदद करते हैं, जिनके बीच समस्याएँ होती हैं? अगर कोई यहोवा का साक्षी तलाक लेना चाहता है, तो क्या उसे प्राचीनों से इजाज़त लेनी होती है?