इस जानकारी को छोड़ दें

कम पैसों में कैसे करें गुज़ारा?

कम पैसों में कैसे करें गुज़ारा?

क्या तंगी की वजह से आपको कम पैसों में गुज़ारा करना पड़ रहा है? हो सकता है महामारी, बाढ़-भूकंप जैसे हादसे, राजनैतिक उथल-पुथल या युद्ध की वजह से अचानक आर्थिक मंदी छा जाए। अगर अचानक आपकी आमदनी बंद हो जाए, तो आप बहुत परेशान हो सकते हैं। ऐसे में बाइबल की बुद्धि-भरी सलाह मानने से आप कम पैसों में भी गुज़ारा कर पाएँगे।

1. इस बात को मान लीजिए कि अब आपको कम आमदनी से काम चलाना है।

बाइबल का सिद्धांत: ‘मैंने सीख लिया है कि भरा-पूरा होना कैसा होता है और तंगी झेलना कैसा होता है।’​—फिलिप्पियों 4:12.

भले ही आपके पास पहले से कम पैसे हों, फिर भी आप गुज़ारा करना सीख सकते हैं। जितनी जल्दी आप मान लेंगे कि आपके हालात बदल गए हैं, उतनी जल्दी आप गुज़ारा करना सीख जाएँगे। फिर आप और आपके परिवार के लोग इस मुश्‍किल का अच्छी तरह सामना कर पाएँगे।

जानिए कि सरकार या किसी समाज सेवी संगठन ने आर्थिक मदद देने के लिए क्या कुछ कार्यक्रम चलाए हैं। जल्दी से ऐसे कार्यक्रमों का फायदा उठाइए, क्योंकि ये सेवाएँ बस थोड़े समय के लिए दी जाती हैं।

2. परिवार के सब लोग मिलकर बात करें।

बाइबल का सिद्धांत: “सलाह-मशविरा न करने से योजनाएँ नाकाम हो जाती हैं, लेकिन बहुतों की सलाह से कामयाबी मिलती है।”​—नीतिवचन 15:22.

अपने साथी और बच्चों से बात कीजिए कि कम पैसों में कैसे गुज़ारा कर सकते हैं। खुलकर बातचीत करने से परिवार के सब लोग समझ पाएँगे कि फिलहाल आपकी आर्थिक स्थिति क्या है और सब लोग कैसे एक-दूसरे का साथ दे सकते हैं। अगर हर कोई सोचे कि वह कैसे थोड़े में काम चला सकता है, तो कोई भी पैसा बेकार में खर्च नहीं करेगा और जो चार पैसे आपके पास हैं, वे ज़्यादा दिन चलेंगे।

3. खर्च का हिसाब-किताब रखिए।

बाइबल का सिद्धांत: ‘बैठकर पहले खर्च का हिसाब लगाएँ।’​—लूका 14:28.

अगर आपको कम में गुज़ारा करना पड़ रहा है, तो ध्यान दीजिए कि आपका सारा पैसा कहाँ जाता है। बैठकर हिसाब लगाइए कि अब से आपको हर महीने कितने पैसे मिलेंगे। फिर लिखिए कि अब तक हर महीने आपके क्या-क्या खर्चे हैं और आपको क्या-क्या खरीदने की आदत है। अब आपको शायद कुछ आदतें बदलनी पड़ेंगी। यह भी लिखिए कि हर महीने के खर्च से आप कितने पैसे बचा सकते हैं ताकि अचानक अगर कोई मुश्‍किल आ जाए, तो वह आपके काम आए।

सुझाव: खर्च का हिसाब-किताब करते समय छोटे-मोटे खर्च के बारे में भी लिखिए। आप यह देखकर हैरान रह जाएँगे कि कभी-कभी छोटी-मोटी चीज़ें कितना पैसा खा जाती हैं। एक आदमी ने जब अपने साल-भर के खर्च का हिसाब लगाया, तो उसे एहसास हुआ कि वह हर साल हज़ारों रुपए चुइंगम पर खर्च कर रहा था।

4. अपनी ज़रूरतें समझिए, फालतू खर्च कम कीजिए।

बाइबल का सिद्धांत: ‘पहचानो कि ज़्यादा अहमियत रखनेवाली बातें क्या हैं।’—फिलिप्पियों 1:10.

देखिए कि आपकी आमदनी कितनी है और खर्चा कितना हो रहा है। सोचिए कि आप किन चीज़ों पर खर्च कम कर सकते हैं और किन चीज़ों के बिना रह सकते हैं। तब आप थोड़ी-सी आमदनी से भी गुज़ारा कर पाएँगे। आइए कुछ बातों पर गौर करें:

  • यातायात: अगर आपके पास एक से ज़्यादा गाड़ियाँ हैं, तो क्या आप एक गाड़ी बेच सकते हैं? अगर आपके पास महँगी गाड़ी है, तो क्या आप कोई छोटी या सस्ती कार ले सकते हैं? क्या आप बस, मैट्रो या साइकिल से आना-जाना कर सकते हैं? अगर आप ऐसा कर सकते हैं, तो अपने पास कोई भी गाड़ी मत रखिए।

  • मनोरंजन: क्या आप अपने घर से केबल या डिश टी.वी की सुविधा कुछ समय के लिए हटा सकते हैं? क्या आप मनोरंजन के लिए कुछ ऐसा कर सकते हैं जिसमें कम पैसा लगे?

  • ज़रूरी खर्चे: परिवार के साथ बैठकर चर्चा कीजिए कि आप पानी, बिजली और पेट्रोल का खर्च कैसे कम कर सकते हैं। जब ज़रूरत न हो, तो बत्ती बंद कर दीजिए और हो सके तो नहाने के लिए शावर के बजाय बाल्टी इस्तेमाल कीजिए। ऐसा करने से आप पैसे बचा सकेंगे।

  • खाना: हो सके तो रेस्तराँ में खाना कम कर दीजिए। खाना घर पर बनाइए। पहले से तय कीजिए कि घर पर क्या-क्या बनेगा और मुमकिन हो तो ऐसी चीज़ें ज़्यादा खरीदिए जो जल्दी खराब नहीं होतीं। हो सके तो एक साथ ज़्यादा खाना बनाइए और बचा हुआ खाना बाद में खा लीजिए। खरीदारी करने से पहले सामान की सूची बनाइए ताकि आप फिज़ूल में कुछ खर्च न करें। मौसम के हिसाब से जो ताज़ी चीज़ें मिलती हैं, वह खरीदिए क्योंकि वह सस्ती होती हैं। मसालेदार चीज़ें मत खरीदिए। और हो सके तो घर में सब्ज़ियाँ उगाइए।

  • कपड़े: अगर आपके कुछ कपड़े पुराने हो जाते हैं और पहनने लायक नहीं होते, तो उनके बदले ही नए कपड़े खरीदिए। सिर्फ यह देखकर मत खरीदिए कि यह नया फैशन है। कोशिश कीजिए कि आप कपड़े वहाँ से खरीदें जहाँ सेल लगती है और अच्छे कपड़े मिल जाते हैं। और हो सके तो कपड़े धूप में सुखाइए, इससे आपका बिजली का बिल भी कम आएगा।

  • भविष्य में होनेवाले खर्चे: कुछ भी खरीदने से पहले खुद से पूछिए कि क्या मेरे पास इसे खरीदने के लिए पैसे हैं? क्या वाकई मुझे इस चीज़ की ज़रूरत है? अगर ज़रूरी नहीं है, तो पुरानी चीज़ें मत बदलिए। जैसे मोबाइल, लैपटॉप या गाड़ी को। यह भी सोचिए कि क्या आप उन चीज़ों को बेच सकते हैं जिनकी ज़रूरत नहीं है? ऐसा करने आपके पास चार पैसे और जुड़ जाएँगे।

सुझाव: जब अचानक से आपकी आमदनी कम हो जाती है, तो यह एक अच्छा मौका है कि आप खुद में बदलाव करें और अपनी बुरी आदतें छोड़ दें। जैसे तंबाकू खाना, जुआ खेलना और ज़्यादा शराब पीना। ऐसे बदलाव करने से न सिर्फ आपके पैसे बचेंगे बल्कि आप एक बेहतर ज़िंदगी जी पाएँगे।

5. परमेश्‍वर को जानिए।

बाइबल का सिद्धांत: “सुखी हैं वे जिनमें परमेश्‍वर से मार्गदर्शन पाने की भूख है।”—मत्ती 5:3.

बाइबल बहुत ही अच्छी सलाह देती है: “जिस तरह पैसा हिफाज़त करता है, उसी तरह बुद्धि भी कई चीज़ों से हिफाज़त करती है। मगर ज्ञान और बुद्धि इस मायने में बढ़कर हैं कि वे अपने मालिक की जान बचाते हैं।” (सभोपदेशक 7:12) बाइबल में ऐसी बुद्धि-भरी सलाह मिलती है और बहुत-से लोगों ने पाया है कि यह सलाह मानने से उन्हें मदद मिली है, खासकर तब जब पैसे को लेकर ज़्यादा चिंता होने लगे।—मत्ती 6:31, 32.