इस जानकारी को छोड़ दें

सैकेंडरी मैन्यू को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

हिंदी

जब मुझ पर सेक्स के लिए दबाव आता है, तब मैं क्या करूँ?

जब मुझ पर सेक्स के लिए दबाव आता है, तब मैं क्या करूँ?

“दबाव आने पर हाँ कहने में क्या बुराई है?” आप शायद सोचें कि “जब हर कोई करता है तो मैं क्यों न करूँ?”

कोई कदम उठाने से पहले, ज़रा सोचिए!

हकीकत: हर कोई यह नहीं कर रहा है।

हो सकता है आपने पढ़ा हो कि बहुत से नौजवान सेक्स करते हैं। उदाहरण के लिए, अमरीका की एक रिपोर्ट बताती है कि हर 3 में से 2 नौजवान, हाई स्कूल पूरा करने से पहले सेक्स कर चुके होते हैं। लेकिन इसका मतलब यह भी है कि हर 3 में से 1 नौजवान एैसा नहीं करता यानी ऐसे बहुत से नौजवान हैं, जो सेक्स नहीं करते।

मगर उन नौजवानों के बारे में क्या जो सेक्स करते हैं? खोजकर्ताओं ने यह जाना है कि उनमें से बहुत से नौजवानों को किसी-न-किसी तरह के कड़वे अनुभव होते हैं जैसे आगे दिए गए हैं।

दुख। ज़्यादातर नौजवान जिन्होंने शादी से पहले सेक्स किया उन्हें इस बात का बहुत पछतावा है।

शादी से पहले सेक्स करना एक खूबसूरत पेंटिंग को पायदान की तरह इस्तेमाल करने जैसा है

भरोसा उठ जाना। सेक्स करने के बाद अकसर लड़का-लड़की एक दूसरे के बारे में ऐसा सोचते हैं, ‘पता नहीं और किसके साथ इसने सेक्स किया होगा?’

निराशा। असल में बहुत-सी लड़कियाँ ऐसे लड़के को पसंद करती हैं जो उनकी हिफाज़त करते हैं, न कि उनका फायदा उठाते हैं। और बहुत-से लड़कों का ऐसी लड़की की तरफ खिंचाव कम हो जाता है जो उनके साथ सेक्स कर चुकी होती है।

सौ बात की एक बात: सेक्स, परमेश्वर की तरफ से मिला एक तोहफा है, इसकी कदर कीजिए। शादी से पहले सेक्स न करके आप दिखाएँगे कि आप अपने उसूलों के पक्के हैं और इस बारे में परमेश्वर ने जो आज्ञा दी है आप उसे मानते हैं। जब बाद में आपकी शादी होगी तब आप सेक्स का आनंद उठा सकते हैं और तब आपको किसी बात का पछतावा नहीं होगा और न ही कोई डर या चिंता सताएगी।—नीतिवचन 7:22, 23; 1 कुरिंथियों 7:3.