दूसरों के बारे में बात करते-करते शायद हम उनकी बुराई करने लगें। हम इस खतरे से कैसे बच सकते हैं?