यहोशू 13:1-33

13  अब यहोशू बहुत बूढ़ा हो गया था, उसकी उम्र ढल चुकी थी।+ यहोवा ने उससे कहा, “तू बूढ़ा हो गया है और तेरी उम्र ढल चुकी है। लेकिन अब भी इस देश के कई इलाकों पर कब्ज़ा करना* बाकी है।  जो इलाके रह गए हैं, वे ये हैं:+ पलिश्‍तियों और गशूरियों+ का सारा इलाका  (जो मिस्र के पूरब में* नील नदी की धारा* से लेकर उत्तर में एक्रोन की सीमा तक फैला है। इसे कनानी इलाका माना जाता था)।+ इसमें गाज़ा, अशदोद,+ अश्‍कलोन,+ गत+ और एक्रोन+ में रहनेवालों के इलाके भी आते हैं, जिन पर पलिश्‍तियों के पाँच सरदारों+ का राज है। अव्वी लोगों+ का इलाका  जो दक्षिण में पड़ता है, कनानियों का सारा इलाका, और माराह जो सीदोनियों+ के इलाके में आता है और दूर अपेक तक का इलाका जो एमोरियों की सरहद के पास है,  गबाली लोगों+ का इलाका और पूरब की तरफ लबानोन का सारा इलाका जो हेरमोन पहाड़ के नीचे बालगाद से लेकर लेबो-हमात+ तक है  और लबानोन+ से लेकर मिस्रपोत-मैम+ में रहनेवाले पहाड़ी प्रदेश के लोगों का और सीदोनियों+ का सारा इलाका। मैं यहाँ रहनेवाले सब लोगों को इसराएलियों के सामने से खदेड़ दूँगा।+ तू बस इस देश को इसराएलियों में बाँट देना, जैसा मैंने तुझे आज्ञा दी थी ताकि यह उनकी विरासत ठहरे।+  इसलिए अब तू नौ गोत्रों और मनश्‍शे के आधे गोत्र को उनके हिस्से की ज़मीन बाँट दे।”+  बाकी आधे गोत्र ने और रूबेनियों और गादियों ने विरासत की वह ज़मीन ली जो मूसा ने उन्हें यरदन के पूरब में दी थी। यहोवा के सेवक मूसा ने उन्हें ये इलाके दिए थे:+  अरनोन घाटी+ के किनारे अरोएर+ और घाटी के बीच के शहर से लेकर दीबोन तक फैला मेदबा का पठारी इलाका 10  और अम्मोनियों की सीमा तक वे सारे शहर जो हेशबोन में रहनेवाले एमोरियों के राजा सीहोन के इलाके में आते थे।+ 11  इसके अलावा गिलाद, गशूरी और माकाती लोगों का इलाका,+ हेरमोन पहाड़ और सलका तक+ पूरे बाशान का इलाका।+ 12  और बाशान के राजा ओग का सारा इलाका, जो अश्‍तारोत और एदरेई में राज करता था। (वह बचे हुए रपाई लोगों में से था।)+ मूसा ने उन राजाओं को हराया और उन्हें उनके इलाकों से खदेड़ दिया।+ 13  मगर इसराएलियों ने गशूरी और माकाती लोगों को नहीं खदेड़ा।+ और वे आज तक इसराएलियों के बीच रहते हैं। 14  उसने सिर्फ लेवी गोत्र को विरासत की कोई ज़मीन नहीं दी।+ क्योंकि उसने वादा किया था कि जो चढ़ावा इसराएल के परमेश्‍वर यहोवा को आग में अर्पित किया जाता है, वही उनकी विरासत होगा।+ 15  मूसा ने रूबेन गोत्र के सारे घरानों को उनके हिस्से की ज़मीन दी ताकि यह उनकी विरासत ठहरे। 16  उन्हें ये इलाके मिले: अरनोन घाटी के किनारे अरोएर शहर, साथ ही वह शहर जो घाटी के बीच में है, मेदबा का सारा पठारी इलाका, 17  हेशबोन और पठारी इलाके में आनेवाले सारे नगर,+ दीबोन, बामोत-बाल, बेत-बालमोन,+ 18  यहस,+ कदेमोत,+ मेपात,+ 19  किरयातैम, सिबमा,+ सेरेथ-शहर जो घाटी के पास पहाड़ पर है, 20  बेतपोर, पिसगा की ढलानें,+ बेत-यशिमोत,+ 21  साथ ही पठारी इलाके के सारे शहर और वह सारा इलाका* जो हेशबोन+ से राज करनेवाले एमोरियों के राजा सीहोन के राज में आता था। मूसा ने सीहोन को और मिद्यानी प्रधान एवी, रेकेम, सूर, हूर और रेबा को हराया,+ जो सीहोन के अधीन राज करते थे और उसी इलाके में रहते थे। 22  इसराएलियों ने ज्योतिषी बिलाम+ को जो बओर का बेटा था, बाकी लोगों के साथ तलवार से मार डाला। 23  रूबेनियों का इलाका यरदन तक था और यह इलाका और इसके सभी शहर और बस्तियाँ रूबेन गोत्र के सारे घरानों की विरासत थी। 24  मूसा ने गाद गोत्र के सारे घरानों को भी उनके हिस्से की ज़मीन दी ताकि यह उनकी विरासत ठहरे। 25  उन्हें ये इलाके मिले: याजेर+ और गिलाद के सारे शहर और अरोएर तक अम्मोनियों का आधा इलाका,+ जो रब्बाह+ के सामने पड़ता था। 26  और हेशबोन+ से लेकर रामत-मिस्पे और बतोनीम तक, महनैम+ से लेकर दबीर की सीमा तक 27  और घाटी में बेत-हारम, बेत-निमराह,+ सुक्कोत+ और सापोन का इलाका और हेशबोन के राजा सीहोन+ के राज्य का बचा हुआ इलाका। यह इलाका किन्‍नेरेत झील*+ के दक्षिणी हिस्से तक यरदन के पूरब में था जिसकी सीमा यरदन थी। 28  इस इलाके के सभी शहर और बस्तियाँ गाद गोत्र के सारे घरानों की विरासत थी। 29  फिर मूसा ने मनश्‍शे के आधे गोत्र के घरानों को उनके हिस्से की ज़मीन दी ताकि यह उनकी विरासत ठहरे।+ 30  उनका इलाका महनैम+ से लेकर पूरे बाशान यानी बाशान के राजा ओग के पूरे इलाके तक फैला था। उन्हें बाशान में याईर के सब कसबे,+ 60 नगर दिए गए। 31  गिलाद का आधा इलाका और बाशान के राजा ओग के शहर अश्‍तारोत और एदरेई,+ यह सब मनश्‍शे के बेटे माकीर के बेटों+ को यानी माकीर के आधे घराने को दिए गए। 32  यह वह ज़मीन है जो मूसा ने इसराएलियों को दी थी ताकि यह उनकी विरासत ठहरे। उसने ये इलाके उन्हें तब दिए थे, जब वे यरीहो के पूरब में यरदन के उस पार मोआब के बंजर इलाके में थे।+ 33  मगर मूसा ने लेवी गोत्र को विरासत की कोई ज़मीन नहीं दी।+ क्योंकि इसराएल का परमेश्‍वर यहोवा उनकी विरासत है जैसा परमेश्‍वर ने उनसे वादा किया था।+

कई फुटनोट

या “को जीतना।”
शा., “के सामने।”
या “शीहोर।”
यहाँ शायद सीहोन के राज के उस हिस्से की बात की गयी है जिसमें आय. 15-20 में बताए इलाके आते हैं। आय. 27 देखें।
यानी गन्‍नेसरत झील या गलील झील।

अध्ययन नोट

तसवीर और ऑडियो-वीडियो