मत्ती के मुताबिक खुशखबरी 15:1-39

15  इसके बाद यरूशलेम से फरीसी और शास्त्री, यीशु के पास आए+ और कहने लगे,  “आखिर क्यों तेरे चेले हमारे पुरखों की परंपराओं को तोड़ते हैं? जैसे, खाना खाने से पहले वे हाथ नहीं धोते।”+  यीशु ने उन्हें जवाब दिया, “तुम क्यों अपनी परंपराओं की वजह से परमेश्‍वर की आज्ञा तोड़ते हो?+  मिसाल के लिए, परमेश्‍वर ने कहा था, ‘अपने पिता और अपनी माँ का आदर करना’+ और ‘जो कोई अपने पिता या अपनी माँ को बुरा-भला कहता है,* वह मार डाला जाए।’*+  मगर तुम कहते हो, ‘अगर एक आदमी अपने पिता या अपनी माँ से कहता है, “मेरे पास जो कुछ है जिससे तुझे फायदा हो सकता था, वह परमेश्‍वर के लिए रखी गयी भेंट है,”+  तो उसे अपने माता-पिता का आदर करने की कोई ज़रूरत नहीं।’ इस तरह तुमने अपनी परंपराओं की वजह से परमेश्‍वर के वचन को रद्द कर दिया है।+  अरे कपटियो, यशायाह ने तुम्हारे बारे में बिलकुल सही भविष्यवाणी की थी, जब उसने कहा,+  ‘ये लोग होंठों से तो मेरा आदर करते हैं, मगर इनका दिल मुझसे कोसों दूर रहता है।  ये बेकार ही मेरी उपासना करते रहते हैं क्योंकि ये इंसानों की आज्ञाओं को परमेश्‍वर की शिक्षाएँ बताकर सिखाते हैं।’”+ 10  तब यीशु ने भीड़ को अपने पास बुलाया और उनसे कहा, “सुनो और इस बात के मायने समझो:+ 11  जो मुँह में जाता है वह इंसान को दूषित नहीं करता, लेकिन जो उसके मुँह से निकलता है वही उसे दूषित करता है।”+ 12  फिर चेलों ने आकर उससे कहा, “क्या तू जानता है कि फरीसियों को तेरी बात चुभ गयी है?”+ 13  तब उसने कहा, “हर वह पौधा जिसे स्वर्ग में रहनेवाले मेरे पिता ने नहीं लगाया, जड़ से उखाड़ दिया जाएगा। 14  उन्हें रहने दो। वे खुद तो अंधे हैं, मगर दूसरों को राह दिखाते हैं। अगर एक अंधा अंधे को राह दिखाए, तो दोनों गड्ढे* में जा गिरेंगे।”+ 15  यह सुनकर पतरस ने उससे कहा, “हमें उस मिसाल का मतलब समझा।”+ 16  उसने कहा, “क्या तुम भी अब तक नहीं समझे?+ 17  क्या तुम नहीं जानते कि मुँह में जानेवाली हर चीज़ पेट से होते हुए जाती है और फिर मल-कुंड* में निकल जाती है? 18  मगर जो कुछ मुँह से निकलता है, वह दिल से निकलता है और यही सब एक इंसान को दूषित करता है।+ 19  जैसे दुष्ट विचार, हत्या, व्यभिचार, नाजायज़ यौन-संबंध, चोरी, झूठी गवाही और निंदा की बातें, ये दिल से निकलती हैं।+ 20  यही सब इंसान को दूषित करता है, मगर बिना हाथ धोए खाना खाना उसे दूषित नहीं करता।” 21  अब यीशु वहाँ से निकलकर सोर और सीदोन के इलाके में चला गया।+ 22  और देखो! उस इलाके की एक औरत जो फीनीके की रहनेवाली थी उसके पास आयी और चिल्लाकर कहने लगी, “हे प्रभु, दाविद के वंशज, मुझ पर दया कर। मेरी बेटी को एक दुष्ट स्वर्गदूत ने बुरी तरह काबू में कर लिया है।”+ 23  मगर यीशु ने उससे एक शब्द भी न कहा। इसलिए उसके चेले आए और बार-बार कहने लगे, “इसे भेज दे क्योंकि यह चिल्लाती हुई हमारे पीछे-पीछे आ रही है।” 24  तब उसने कहा, “मुझे इसराएल के घराने की खोयी हुई भेड़ों को छोड़ किसी और के पास नहीं भेजा गया।”+ 25  मगर वह औरत यीशु के पास आयी और उसे झुककर प्रणाम करके कहने लगी, “हे प्रभु, मेरी मदद कर!” 26  उसने कहा, “बच्चों की रोटी लेकर पिल्लों के आगे फेंकना सही नहीं है।” 27  तब औरत ने कहा, “सही कहा प्रभु, मगर फिर भी पिल्ले अपने मालिकों की मेज़ से गिरे टुकड़े तो खाते ही हैं।”+ 28  यह सुनकर यीशु ने उससे कहा, “तेरा विश्‍वास बहुत बड़ा है। जैसा तू चाहती है, तेरे लिए वैसा ही हो।” और उसी घड़ी उसकी बेटी ठीक हो गयी। 29  फिर यीशु उस इलाके से निकलकर गलील झील के पास आया+ और पहाड़ पर चढ़कर वहाँ बैठ गया। 30  तब भारी तादाद में लोग उसके पास आए और अपने साथ लूले-लँगड़े, अंधे, गूँगे और ऐसे बहुत-से लोगों को लाए और उसके पैरों के पास डाल दिया और उसने उन्हें ठीक किया।+ 31  जब भीड़ के लोगों ने देखा कि गूँगे बोल रहे हैं, लूले-लँगड़े ठीक हो रहे हैं और अंधे देख रहे हैं, तो वे दंग रह गए और उन्होंने इसराएल के परमेश्‍वर की महिमा की।+ 32  तब यीशु ने अपने चेलों को बुलाया और कहा, “मुझे इस भीड़ पर तरस आ रहा है+ क्योंकि इन्हें मेरे साथ रहते हुए तीन दिन बीत चुके हैं और इनके पास खाने को कुछ भी नहीं है। मैं इन्हें भूखा* नहीं भेजना चाहता, कहीं वे रास्ते में ही पस्त न हो जाएँ।”+ 33  मगर चेलों ने उससे कहा, “यहाँ इस सुनसान जगह में हम इतनी रोटियाँ कहाँ से लाएँ कि यह बड़ी भीड़ भरपेट खा सके?”+ 34  यीशु ने उनसे पूछा, “तुम्हारे पास कितनी रोटियाँ हैं?” उन्होंने कहा, “सात। और कुछ छोटी मछलियाँ भी हैं।” 35  तब उसने भीड़ को ज़मीन पर आराम से बैठने के लिए कहा 36  और उन सात रोटियों और मछलियों को लेकर प्रार्थना में धन्यवाद दिया। फिर वह उन्हें तोड़कर चेलों को देने लगा और चेलों ने इन्हें भीड़ में बाँट दिया।+ 37  सब लोगों ने जी-भरकर खाया और बचे हुए टुकड़े इकट्ठे किए गए जिनसे सात बड़े टोकरे भर गए।+ 38  खानेवालों में करीब 4,000 आदमी थे, उनके अलावा औरतें और बच्चे भी थे। 39  आखिर में उसने भीड़ को विदा किया, फिर वह नाव पर चढ़कर मगदन के इलाके में आया।+

कई फुटनोट

या “का अपमान करता है; को गाली देता है।”
या ”ज़रूर मर जाएगा।”
या “खाई।”
या ”शौचालय।”
या “बिना खिलाए; उपवास करते हुए।”

अध्ययन नोट

हाथ . . . धोते: यहाँ धर्म गुरु साफ-सफाई को ध्यान में रखकर नहीं बल्कि परंपरा मानने के खयाल से हाथ धोने की बात कर रहे थे। बाद में बैबिलोनी तलमूद (सोताह 4) में बताया गया कि बिना हाथ धोए खाना, वेश्‍या के साथ संबंध रखने जैसा है। तलमूद यह भी कहता है कि जो लोग हाथ धोने की बात को गंभीरता से नहीं लेते उन्हें “दुनिया से मिटा” दिया जाएगा।

परमेश्‍वर के लिए रखी गयी भेंट: शास्त्री और फरीसी सिखाते थे कि एक व्यक्‍ति जब पैसा, ज़मीन-जायदाद या कोई और चीज़ परमेश्‍वर को अर्पित कर देता है तो वह मंदिर की हो जाती है। फिर भी इस परंपरा के मुताबिक, वह उन चीज़ों को खुद के लिए इस्तेमाल कर सकता था, मगर माँ-बाप की देखभाल के लिए नहीं। इसलिए ज़ाहिर है कि कुछ लोग अपने माँ-बाप की देखभाल करने की ज़िम्मेदारी से बचने के लिए अपनी संपत्ति परमेश्‍वर को भेंट कर देते थे।​—मत 15:6.

कपटी: यूनानी शब्द हिपोक्रिटस पहले यूनान के (और बाद में रोम के) रंगमंच के अभिनेताओं के लिए इस्तेमाल होता था। ये अभिनेता ऐसे बड़े-बड़े मुखौटे पहनते थे जिनसे उनकी आवाज़ दूर तक सुनायी दे। आगे चलकर यह शब्द उन लोगों के लिए इस्तेमाल होने लगा जो अपने असली इरादे या अपनी शख्सियत छिपाने के इरादे से ढोंग या दिखावा करते हैं। यहाँ यीशु ने यहूदी धर्म गुरुओं को “कपटी” या ‘पाखंडी’ कहा।​—मत 6:5, 16.

कपटियो: मत 6:2 का अध्ययन नोट देखें।

मिसालें: या “नीति-कथाएँ।” यूनानी शब्द पैराबोले का शाब्दिक मतलब है, “के पास (या साथ-साथ) रखना।” इस शब्द का मतलब एक नीति-कथा, नीतिवचन या मिसाल भी हो सकता है। यीशु अकसर किसी बात को समझाने के लिए एक चीज़ को उससे मिलती-जुलती दूसरी चीज़ ‘के पास रखता’ यानी उससे तुलना करता था। (मर 4:30) उसकी मिसालें छोटी होती थीं और अकसर काल्पनिक कहानियाँ होती थीं, जिनसे कोई नैतिक शिक्षा या परमेश्‍वर के बारे में सच्चाई सीखने को मिलती थी।

मिसाल: या “नीति-कथा।”​—मत 13:3 का अध्ययन नोट देखें।

नाजायज़ यौन-संबंध: यूनानी शब्द पोर्निया का मतलब है, हर तरह का यौन-संबंध जो परमेश्‍वर के नियम के खिलाफ है। जैसे व्यभिचार, वेश्‍या के काम, दो कुँवारे लोगों के बीच यौन-संबंध जिनकी एक-दूसरे से शादी नहीं हुई, समलैंगिकता और जानवरों के साथ यौन-संबंध।​—शब्दावली देखें।

व्यभिचार: यूनानी में यहाँ “व्यभिचार” शब्द का बहुवचन (मोइखीया) इस्तेमाल हुआ है। इसका अनुवाद “व्यभिचार के काम” भी किया जा सकता है।​—शब्दावली देखें।

नाजायज़ यौन-संबंध: यहाँ यूनानी शब्द पोर्निया का बहुवचन इस्तेमाल हुआ है जिसका मतलब हो सकता है, कई बार नाजायज़ यौन-संबंध रखना।​—मत 5:32 का अध्ययन नोट और शब्दावली देखें।

देख!: इसका यूनानी शब्द आइडू है और इसका इस्तेमाल अकसर आगे की बात पर ध्यान खींचने के लिए किया गया है ताकि पढ़नेवाला बतायी जा रही घटना की कल्पना कर सके या उसकी बारीकी पर ध्यान दे सके। यह शब्द किसी बात पर ज़ोर देने के लिए या कोई नयी या हैरानी की बात बताने से पहले भी इस्तेमाल किया गया है। मसीही यूनानी शास्त्र में यह शब्द सबसे ज़्यादा बार मत्ती, लूका और प्रकाशितवाक्य की किताबों में आया है। इसी से मिलता-जुलता शब्द इब्रानी शास्त्र में भी अकसर इस्तेमाल हुआ है।

दाविद के वंश से: ये शब्द दिखाते हैं कि यीशु दाविद के खानदान से है और उस राज का वारिस है जिसके बारे में दाविद से करार किया गया था।

उसे झुककर प्रणाम करके: या “उसे दंडवत करके; उसका सम्मान करके।” जब इस गैर-यहूदी औरत ने यीशु को ‘दाविद का वंशज’ कहा (मत 15:22), तो ज़ाहिर है कि वह मान रही थी कि यीशु वादा किया हुआ मसीहा है। इसलिए उसने यीशु को परमेश्‍वर का प्रतिनिधि समझकर प्रणाम किया, न कि कोई ईश्‍वर या देवता मानकर।​—मत 2:2; 8:2; 14:33; 18:26 के अध्ययन नोट देखें।

देखो!: मत 1:23 का अध्ययन नोट देखें।

फीनीके की रहनेवाली: या “कनानी।” यूनानी में खनानाया। यीशु के दिनों में “फीनीके,” “कनान” के नाम से भी जाना जाता था क्योंकि वहाँ पहले नूह के पोते कनान के वंशज रहते थे।

दाविद के वंशज: मत 1:1; 15:25 के अध्ययन नोट देखें।

दंडवत करने: या “झुककर प्रणाम करने।” जब यूनानी क्रिया प्रोस्किनीयो किसी देवता या ईश्‍वर की पूजा के संबंध में इस्तेमाल हुई है तो उसका अनुवाद “उपासना” किया गया है और जब इंसानों को आदर देने के संबंध में हुई है तो उसका अनुवाद “दंडवत करना” या “झुककर प्रणाम करना” किया गया है। इस आयत में ज्योतिषियों ने पूछा, “यहूदियों का जो राजा पैदा हुआ है, वह कहाँ है?” इससे पता चलता है कि यहाँ किसी ईश्‍वर को नहीं बल्कि इंसानी राजा को दंडवत करने की बात की गयी है। कुछ ऐसा ही मतलब देने के लिए मर 15:18, 19 में यही यूनानी शब्द इस्तेमाल किया गया था। इन आयतों में बताया गया है कि सैनिकों ने यीशु का मज़ाक उड़ाने के इरादे से उसे “झुककर प्रणाम” किया और ‘यहूदियों का राजा’ पुकारा।​—मत 18:26 का अध्ययन नोट देखें।

झुककर उसे प्रणाम किया: या “उसे दंडवत किया; उसका आदर किया।” इब्रानी शास्त्र में बताए लोग भी जब भविष्यवक्‍ता, राजा या परमेश्‍वर के दूसरे प्रतिनिधियों से मिलते थे तो वे झुककर उन्हें प्रणाम करते थे। (1शम 25:23, 24; 2शम 14:4-7; 1रा 1:16; 2रा 4:36, 37) ज़ाहिर है कि यह कोढ़ी आदमी समझ गया कि वह परमेश्‍वर के प्रतिनिधि से बात कर रहा है, जिसमें लोगों को ठीक करने की ताकत है। इसलिए जब उसने यहोवा के ठहराए राजा का आदर करने के लिए झुककर प्रणाम किया तो उसने सही किया।​—मत 9:18; यहाँ इस्तेमाल हुए यूनानी शब्द के बारे में ज़्यादा जानने के लिए मत 2:2 का अध्ययन नोट देखें।

उसे झुककर प्रणाम किया: या “उसे दंडवत किया; उसका सम्मान किया।” ये लोग समझ गए कि यीशु, परमेश्‍वर का प्रतिनिधि है। उन्होंने उसे इसलिए झुककर प्रणाम किया कि वह “परमेश्‍वर का बेटा” है, न कि कोई ईश्‍वर या देवता।​—मत 2:2; 8:2; 18:26 के अध्ययन नोट देखें।

उसके सामने गिरकर: या “उसे दंडवत करके; उसका सम्मान करके।” जब यूनानी क्रिया प्रोस्किनीयो किसी देवता या ईश्‍वर की पूजा के संबंध में इस्तेमाल हुई है तो उसका अनुवाद “उपासना” किया गया है। लेकिन यहाँ यह क्रिया दिखाती है कि एक दास अपने अधिकारी का आदर कर रहा है और उसके अधीन है।​—मत 2:2; 8:2 के अध्ययन नोट देखें।

उसे झुककर प्रणाम करके: या “उसे दंडवत करके; उसका सम्मान करके।” जब इस गैर-यहूदी औरत ने यीशु को ‘दाविद का वंशज’ कहा (मत 15:22), तो ज़ाहिर है कि वह मान रही थी कि यीशु वादा किया हुआ मसीहा है। इसलिए उसने यीशु को परमेश्‍वर का प्रतिनिधि समझकर प्रणाम किया, न कि कोई ईश्‍वर या देवता मानकर।​—मत 2:2; 8:2; 14:33; 18:26 के अध्ययन नोट देखें।

बच्चों . . . पिल्लों: मूसा के कानून के मुताबिक कुत्तों को अशुद्ध माना जाता था, इसलिए बाइबल में अकसर यह शब्द नैतिक तौर से गिरे हुए लोगों के लिए इस्तेमाल हुआ है। (लैव 11:27; मत 7:6; फिल 3:2, फु.; प्रक 22:15) लेकिन मरकुस (7:27) और मत्ती ने जब यीशु की यह बातचीत लिखी तो उन्होंने कुत्तों के लिए अल्पार्थक संज्ञा इस्तेमाल की जिसका मतलब है, “पिल्ला” या “घर का कुत्ता।” इस तरह तुलना करने से किसी को ठेस नहीं पहुँचती। इससे शायद यह ज़ाहिर होता है कि यीशु ने वही शब्द इस्तेमाल किया जिससे गैर-यहूदी अपने पालतू जानवरों को प्यार से बुलाते थे। यीशु इसराएलियों की तुलना “बच्चों” से और गैर-यहूदियों की तुलना “पिल्लों” से करके शायद यह बताना चाहता था कि पहले किन पर ध्यान दिया जाना चाहिए। जब एक घर में बच्चे और कुत्ते दोनों होते हैं तो पहले बच्चों को खाना खिलाया जाता है।

लूले-लँगड़े ठीक हो रहे हैं: कुछ हस्तलिपियों में से ये शब्द निकाल दिए गए हैं, मगर ज़्यादातर प्राचीन और बाद की हस्तलिपियों में ये शब्द पाए जाते हैं।

तड़प उठा: इन शब्दों के लिए यूनानी क्रिया स्प्लैगख्नी-ज़ोमाइ इस्तेमाल हुई है, जो यूनानी शब्द स्प्लैगख्ना (मतलब “अंतड़ियों”) से संबंधित है। इसका मतलब एक ऐसी भावना है जो दिल की गहराइयों से उठती है। यूनानी में यह शब्द गहरी और कोमल करुणा के लिए इस्तेमाल होता है।

पर तरस आ रहा है: या “के लिए करुणा महसूस हो रही है।”​—मत 9:36 का अध्ययन नोट देखें।

टोकरियाँ: ये शायद खपच्चियों से बनी होती थीं और इनमें डोरी लगी होती थी ताकि लोग इन्हें लटकाकर सफर में ले जा सकें। माना जाता है कि इनका आयतन करीब 7.5 ली. था।​—मत 16:9, 10 के अध्ययन नोट देखें।

बड़े टोकरे: यहाँ यूनानी शब्द स्फिरिस इस्तेमाल हुआ है। यह शायद दिखाता है कि ये टोकरे उन टोकरियों से बड़े थे, जिनका इस्तेमाल उस वक्‍त किया गया जब यीशु ने करीब 5,000 लोगों को खाना खिलाया था। (मत 14:20 का अध्ययन नोट देखें।) दमिश्‍क में जब पौलुस को एक “बड़े टोकरे” में बिठाकर शहरपनाह में बनी एक खिड़की से नीचे उतारा गया, तो उस ब्यौरे में यही यूनानी शब्द इस्तेमाल हुआ है।​—प्रेष 9:25.

उनके अलावा औरतें और बच्चे भी: इस चमत्कार के बारे में बताते समय सिर्फ मत्ती ने औरतों और बच्चों का ज़िक्र किया। मुमकिन है कि चमत्कार से जिन लोगों को खाना खिलाया गया उनकी गिनती 12,000 से ज़्यादा रही होगी।

मगदन: आज गलील झील के आस-पास मगदन नाम की कोई जगह नहीं है। लेकिन कुछ विद्वान मानते हैं कि मगदन का दूसरा नाम मगदला था। माना जाता है कि मगदला आज खिरबत मजदाल (मिगदल) कहलाता है। यह तिबिरियास से करीब 6 कि.मी. (3.5 मील) दूर उत्तर-पश्‍चिम में है। इसके मिलते-जुलते ब्यौरे (मर 8:10) में इस जगह को दलमनूता कहा गया है।​—अति. ख10 देखें।

तसवीर और ऑडियो-वीडियो

टोकरी और टोकरा
टोकरी और टोकरा

बाइबल में अलग-अलग तरह की टोकरियों के लिए अलग-अलग शब्द इस्तेमाल हुए हैं। जब यीशु ने करीब 5,000 आदमियों को खाना खिलाया, तो बचा हुआ खाना 12 टोकरियों में इकट्ठा किया गया। इन टोकरियों के लिए जो यूनानी शब्द इस्तेमाल हुआ है, उसका मतलब हाथ से उठायी जानेवाली छोटी टोकरियाँ हो सकता है। लेकिन जब यीशु ने करीब 4,000 लोगों को खाना खिलाया था, तो जिन सात टोकरों में बचा हुआ खाना रखा गया, उनके लिए एक अलग यूनानी शब्द इस्तेमाल हुआ है, जिसका मतलब है, बड़े टोकरे। (मर 8:8, 9) यही यूनानी शब्द उस टोकरे के लिए इस्तेमाल हुआ, जिसमें पौलुस को बिठाकर दमिश्‍क की शहरपनाह से नीचे उतारा गया था।​—प्रेष 9:25.

गलील झील के किनारे मगदन
गलील झील के किनारे मगदन

करीब 4,000 आदमियों, साथ ही औरतों और बच्चों को खाना खिलाने के बाद, यीशु और उसके चेले नाव में बैठकर मगदन के इलाके में गए थे। यह इलाका गलील झील के पश्‍चिमी किनारे पर है। मरकुस के ब्यौरे में इस जगह को दलमनूता कहा गया है।​—मर 8:10; यीशु ने किन इलाकों में प्रचार किया, नक्शे में यह देखने के लिए अतिरिक्‍त लेख क7-घ देखें।