भजन 23:1-6

दाविद का सुरीला गीत। 23  यहोवा मेरा चरवाहा है।+ मुझे कोई कमी नहीं होगी।+   वह मुझे हरे-भरे चरागाहों में बिठाता है,झील के किनारे आराम की जगह* ले चलता है।+   वह मुझे तरो-ताज़ा करता है।+ अपने नाम की खातिर नेकी की डगर पर ले चलता है।+   चाहे मैं काली अँधेरी घाटी से गुज़रूँ,+तो भी मुझे कोई डर नहीं,+क्योंकि तू मेरे साथ रहता है,+तेरी छड़ी और लाठी मुझे हिम्मत* देती है।   तू मेरे दुश्‍मनों के सामने मेरे लिए मेज़ सजाता है।+ मेरे सिर पर तेल डालकर मुझे ताज़गी देता है,*+मेरा प्याला लबालब भरा है।+   बेशक, भलाई और अटल प्यार ज़िंदगी-भर मेरे साथ रहेंगे+और मैं सारी उम्र यहोवा के भवन में निवास करूँगा।+

कई फुटनोट

या शायद, “शांत जल के सोतों के पास।”
या “दिलासा।”
या “तेल मलता है।”

अध्ययन नोट

तसवीर और ऑडियो-वीडियो