इस जानकारी को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

आप अपने कदमों को बहकने से रोक सकते हैं!

आप अपने कदमों को बहकने से रोक सकते हैं!

“मैं अश्‍लील तसवीर देखने के इरादे से नहीं बैठा था, लेकिन क्या करूँ, जैसे ही मैंने इंटरनेट खोला एक इश्तहार मेरे सामने आ गया और एक तसवीर भी, मैंने उस पर क्लिक कर दिया।”—कॉडी *

“नौकरी की जगह पर एक खूबसूरत लड़की मेरे साथ इश्कबाज़ी करने लगी। एक दिन उसने मुझसे कहा, ‘क्यों न हम दोनों किसी होटल में चलें?’ मैं समझ गया, उसका इरादा क्या है।”—डीलेन

“मैं सबकुछ कर सकता हूँ सिर्फ लुभाए जाने पर इनकार नहीं कर सकता।” यह बात साफ दिखाती है कि कुछ लोग गलत कामों के लिए लुभाए जाने पर कैसा महसूस करते हैं। वे दरअसल मन-ही-मन इसका मज़ा लेते हैं। कुछ और लोगों के लिए लुभाए जाना एक डरावने दुश्मन की तरह है जो हमेशा उनका पीछा करता रहता है, जिसे वे हराना चाहते हैं। आपको क्या लगता है? लुभाए जाने पर आप ना कहेंगे या हाँ?

माना कि लुभाए जानेवाली हर चीज़ बड़ी-बड़ी समस्याओं को न्यौता नहीं देती। जैसे, चुपके से थोड़ा-सा बिस्कुट खा लेने से ज़िंदगी बरबाद नहीं हो जाती। मगर लुभाए जानेवाली दूसरी चीज़ें खासकर अनैतिकता की तरफ ले जानेवाली चीज़ों के लिए हम ऐसा नहीं कह सकते। इनके लिए एक बार भी हामी भरना खतरे से खाली नहीं होगा। इसलिए बाइबल चेतावनी देती है: “परस्त्रीगमन करने वाला नासमझ है, क्योंकि वह ऐसा करने पर अपना ही सर्वनाश करता है।”—नीतिवचन 6:32, 33, वाल्द-बुल्के अनुवाद।

जब आप पर अचानक कोई अनैतिक काम करने का दबाव आता है, तो आपको किस तरह पेश आना चाहिए? बाइबल जवाब देती है: “परमेश्वर की मरज़ी यही है कि तुम पवित्र बनो, यानी तुम व्यभिचार से दूर रहो। और तुममें से हरेक जन पवित्रता और आदर के साथ अपने शरीर को वश में रखना जाने।” (1 थिस्सलुनीकियों 4:3, 4) आप ऐसा करने के लिए हिम्मत कैसे जुटा सकते हैं? ऐसे तीन कदमों पर गौर कीजिए जो आपकी मदद कर सकते हैं।

पहला कदम: अपनी आँखों को बुरी चीज़ें देखने से रोकिए

अगर आप लैंगिक तसवीरों पर अपनी आँखें टिकाए रखते हैं, तो आपके अंदर बुरी और गंदी इच्छाएँ ही पैदा होंगी। किसी चीज़ को देखने और उसे पाने की इच्छा रखने के बीच गहरा नाता है। यीशु ने इस बात को पक्का किया और चेतावनी देते हुए कहा: “हर वह आदमी जो किसी स्त्री को ऐसी नज़र से देखता रहता है जिससे उसके मन में स्त्री के लिए वासना पैदा हो, वह अपने दिल में उस स्त्री के साथ  व्यभिचार कर चुका।” इसलिए यीशु ने गुज़ारिश की: “अगर तेरी दायीं आँख तुझसे पाप करवा रही है, तो उसे नोंचकर निकाल दे और दूर फेंक दे।” (मत्ती 5:28, 29) इसका क्या मतलब है? इसका मतलब है, लुभाए जाने पर उसका विरोध करना यानी तुरंत कदम उठाना, अपनी आँखें लैंगिक चीज़ों को देखने से फेर लेना।

कुछ अश्‍लील दिखने पर तुरंत नज़रें फेर लीजिए

इसे समझने के लिए एक मिसाल लीजिए: कल्पना कीजिए कि आप एक मशीन की वेल्डिंग होते देख रहे हैं। क्या आप उसे एक टक देखते रहेंगे? बिलकुल नहीं! शायद आप अपनी आँखें बचाने के लिए तुरंत घूम जाएँ या फिर आँखें बंद कर लें। उसी तरह, अगर आपको पेपर, स्क्रिन या फिर सामने कुछ अश्‍लील दिख जाए तो तुरंत अपनी नज़रें हटा लीजिए। अपने दिलो-दिमाग को भ्रष्ट होने से बचाइए। वॉन जो पहले अश्‍लील तसवीर देखने का आदी था, कहता है: “जब मैं एक ऐसी औरत को देखता हूँ जो लोगों को अपनी तरफ आकर्षित करती है, तो अकसर मुझे उसे बार-बार देखने का मन करता है। इसलिए मैं ज़बरदस्ती उस पर से अपनी आँखें फेर लेता हूँ और खुद से कहता हूँ: ‘वॉन अभी-के-अभी यहोवा से प्रार्थना करो!’ प्रार्थना करने के बाद मेरी वह इच्छा धीरे-धीरे शांत हो जाती है।”—मत्ती 6:9, 13; 1 कुरिंथियों 10:13.

वफादार इंसान अय्यूब की मिसाल पर ध्यान दीजिए जिसने कहा “मैं ने अपनी आंखों के विषय वाचा बान्धी है, फिर मैं किसी कुंवारी पर क्योंकर आंखें लगाऊं?” (अय्यूब 31:1) क्यों न आप भी उसकी तरह कुछ कदम उठाने की ठान लें?

इसे आज़माइए: अगर आप अश्‍लील तसवीर की एक झलक भी देख लेते हैं, तो तुरंत अपनी नज़रें फेर लीजिए। बाइबल के एक लेखक की मिसाल पर चलिए जिसने प्रार्थना में कहा: “मेरी आंखों को व्यर्थ वस्तुओं की ओर से फेर दे।”—भजन 119:37.

दूसरा कदम: अपनी सोच बिगड़ने से बचाइए

हम सब असिद्ध हैं इसलिए हमें कई बार बुरी इच्छाओं से जूझना पड़ता है। बाइबल कहती है: “हर कोई अपनी ही इच्छाओं से खिंचकर परीक्षाओं के जाल में फँसता है। फिर इच्छा गर्भवती होती है और पाप को जन्म देती है।” (याकूब 1:14, 15) आप इस भँवर में फँसने कैसे बच सकते हैं?

जब आपके मन में बुरी इच्छाएँ आने लगें, तो रुकिए और प्रार्थना कीजिए

जब आपमें बुरी इच्छाएँ पनपती हैं, तो याद रखिए यह आप पर निर्भर करता है कि आप इन्हें पनपने देंगे या इन्हें उखाड़ फेंकेंगे। इन इच्छाओं के लिए खिलाफ लड़िए, अपने दिमाग से इन्हें निकाल फेंकिए। इस बारे में सोचने से दूर रहिए। ट्रॉय नाम का एक व्यक्‍ति जिसे इंटरनेट पर पोर्नोग्राफी देखने की लत थी कहता है: “मैं गलत इच्छाओं को अपने दिमाग से बाहर निकालने के लिए अच्छी बातों पर अपना ध्यान लगाता था। ऐसा करना मेरे लिए आसान नहीं था। मैं  कई बार चूक जाता था। आखिरकार मैं अपनी सोच पर काबू पाने में कामयाब हो पाया।” ऐलसा जिसे किशोर उम्र से ही लैंगिक इच्छाओं से लड़ना पड़ा था, कहती है, “खुद को व्यस्त रखने और लगातार यहोवा से प्रार्थना करने के ज़रिए मैं इन इच्छाओं को काबू कर पायी।”

इसे आज़माइए: जब आपके मन में बार-बार अनैतिक विचार उठें, तो तुरंत प्रार्थना कीजिए। इससे लड़ने के लिए अपने दिमाग को उन बातों से भरिए “जो बातें सच्ची हैं, जो बातें गंभीर सोच-विचार के लायक हैं, जो बातें नेकी की हैं, जो बातें पवित्र और साफ-सुथरी हैं, जो बातें चाहने लायक हैं, जो बातें अच्छी मानी जाती हैं, जो सद्गुण हैं और जो बातें तारीफ के लायक हैं।”—फिलिप्पियों 4:8.

तीसरा कदम: अपने कदमों को बुरी राह पर जाने से रोकिए

जब इच्छा, लुभाए जानेवाली चीज़ और मौका हाथ लगे तो गलती करते देर नहीं लगती। (नीतिवचन 7:6-23) आप इसके शिकार होने से कैसे बच सकते हैं?

“मैं तभी इंटरनेट का इस्तेमाल करता हूँ, जब कोई मेरे आस-पास होता है”

बाइबल बुद्धि-भरी सलाह देती है: “चतुर मनुष्य विपत्ति को आते देखकर छिप जाता है; परन्तु भोले लोग आगे बढ़कर दण्ड भोगते हैं।” (नीतिवचन 22:3) इसलिए अपने कदमों को बहकने से बचाइए। मुसीबत को न्यौता देनेवाले हालात पहले से भाँपिए और उनसे दूर रहिए। (नीतिवचन 7:25) फिलिप नाम का एक आदमी, जिसने पोर्नोग्राफी की अपनी आदत पर काबू पाया, कहता है: “मैं कंप्यूटर को ऐसी जगह ले आया जहाँ परिवार के सब लोग उसे देख सकते हैं और उसमें मैंने एक सॉफ्टवेयर डलवाया (इंटरनेट फिल्टर सॉफ्टवेयर) जो अश्‍लील वेब साइटों को पहले से ही रोक देता है। मैं तभी इंटरनेट का इस्तेमाल करता हूँ, जब कोई मेरे आस-पास होता है।” उसी तरह, ट्रॉय जिसका लेख में पहले ज़िक्र किया गया था, कहता है: “मैंने अश्‍लील फिल्में देखना छोड़ दिया, उन लोगों के साथ घुलना-मिलना भी बंद कर दिया जो अश्‍लील बातें करते हैं। मैं अपने आपको इस खतरे में नहीं डालना चाहता।”

इसे आज़माइए: ईमानदारी से अपनी कमज़ोरियों को जाँचिए और ऐसे हालात से दूर रहिए जो आपको लुभानेवाली चीज़ों का शिकार बना सकती हैं।—मत्ती 6:13.

हार मत मानिए!

तब क्या जब बहुत कोशिश करने पर भी आप कमज़ोर पड़ जाते हैं और गलत काम कर बैठते हैं? निराश मत होइए और अपनी कोशिश जारी रखिए। बाइबल कहती है: “धर्मी चाहे सात बार गिरे तौभी उठ खड़ा होता है।” (नीतिवचन 24:16) परमेश्वर यहोवा हमसे गुज़ारिश करता है कि हम ‘उठ खड़े हों।’ क्या आप उसकी दी मदद कबूल करेंगे? प्रार्थना में उससे मदद माँगना मत छोड़िए। उसके वचन बाइबल को पढ़ने के ज़रिए अपना विश्वास मज़बूत करते रहिए। मसीही सभाओं में आकर अपना फैसला और पक्का कीजिए। यहोवा के इस वादे से हिम्मत पाइए, “मैं तुझे दृढ़ करूंगा और तेरी सहायता करूंगा।”—यशायाह 41:10.

कॉडी जिसका लेख की शुरूआत में ज़िक्र किया गया, कहता है: “पोर्नोग्राफी की आदत छुड़ाना मेरे लिए आसान नहीं था, इसके लिए मुझे जद्दोजेहद करनी पड़ी। इस दौरान मैं कई बार चूक जाता था मगर परमेश्वर की मदद से आखिरकार मैं कामयाब हो पाया।” डीलेन जिसका पहले ज़िक्र किया गया, कहता है: “मेरे लिए अपने सहकर्मी के साथ लैंगिक रिश्ता रखना बहुत आसान था, मगर मैं अपने फैसले पर डटा रहा। इसलिए मैंने उससे कहा ‘नहीं!’ एक साफ ज़मीर होना बहुत बड़ी बात है। उससे भी बड़ी बात यह है कि मैंने अपने फैसले से यहोवा का दिल खुश किया।”

जब आप डटे रहकर लुभाए जानेवाली चीज़ों के लिए ‘ना’ कहेंगे, तो यकीन रखिए उस वक्‍त परमेश्वर को आप पर गर्व होगा!—नीतिवचन 27:11. ▪ (w14-E 04/01)

^ पैरा. 2 इस लेख में नाम बदल दिए गए हैं।