इस जानकारी को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

सेहत

सेहत

बाइबल कोई चिकित्सा की किताब नहीं है। फिर भी इसमें ऐसी सलाह दी गयी हैं जिन्हें मानने से हमारी सेहत काफी हद तक अच्छी रह सकती है। आइए कुछ बातों पर गौर करें।

अपने शरीर का खयाल रखिए

बाइबल की सलाह: “कोई भी आदमी अपने शरीर से कभी नफरत नहीं करता, बल्कि वह उसे खिलाता-पिलाता है और अनमोल समझता है।”—इफिसियों 5:29.

इसका क्या मतलब है? इस सलाह से हमें बढ़ावा मिलता है कि हम अपनी सेहत का अच्छा खयाल रखें। एक रिपोर्ट बताती है कि लोग जिस तरह की ज़िंदगी जीते हैं उस वजह से उन्हें सेहत से जुड़ी कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। लेकिन अगर वे अपने जीने के तरीके में कुछ फेरबदल करें तो उनकी सेहत अच्छी रह सकती है।

आप क्या कर सकते हैं?

  • पौष्टिक खाना। पौष्टिक खाना खाइए और खूब पानी पीजिए।

  • कसरत कीजिए। कसरत करने से आपकी सेहत अच्छी हो सकती है, फिर चाहे आपकी उम्र जो भी हो, आप ज़्यादा चल-फिर सकते न हों या आप लंबे समय से बीमार हों। आपका डाक्टर और आपके करीबी शायद आपको कसरत करने का बढ़ावा दें, लेकिन इससे फायदा पाने के लिए आपको खुद मेहनत करनी होगी।

  • अच्छी नींद लीजिए। लंबे समय से नींद न मिलने की वजह से गंभीर बीमारी हो सकती है। अपने जीने के तरीके की वजह से कई लोग समय पर नहीं सो पाते, इसलिए उन्हें उतनी नींद नहीं मिलती जितनी शरीर के लिए ज़रूरी होती है। लेकिन अगर आप समय पर सोएँ और पूरी नींद लें तो आपकी सेहत अच्छी रह सकती है।

बुरी आदतों से दूर रहिए

बाइबल की सलाह: “तो आओ हम तन और मन की हर गंदगी को दूर करके खुद को शुद्ध करें।”—2 कुरिंथियों 7:1.

इसका क्या मतलब है? अगर हम तंबाकू और दूसरी हानिकारक चीज़ों से खुद को दूर रखें, तो हमारी सेहत अच्छी रह  सकती है। आज इन्हीं चीज़ों की वजह से बहुत-से लोग बीमार होते हैं और कइयों की मौत हो जाती है।

आप क्या कर सकते हैं? अगर आपको ऐसी कोई आदत है, तो इसे छोड़ने के लिए एक दिन तय कीजिए। फिर एक दिन पहले सिगरेट, बीड़ी, तंबाकू, गुटखा, राखदानी (एश्‍ट्रे), लाइटर या माचिस निकालकर फेंक दीजिए। उन जगहों पर मत जाइए जहाँ लोग इन चीज़ों का इस्तेमाल करते हैं। अपने परिवारवालों और करीबी दोस्तों को अपने फैसले के बारे में बताइए ताकि वे आपकी मदद कर सकें।

बाइबल की कुछ और सलाह

अगर आपको एक बाइबल चाहिए, तो आप अपने इलाके के किसी भी यहोवा के साक्षी से इसकी गुज़ारिश कर सकते हैं

सुरक्षा का ध्यान रखिए।

“अगर तू एक नया घर बनाता है, तो छत पर मुँडेर ज़रूर बनाना ताकि ऐसा न हो कि कोई तेरे घर की छत से गिर जाए और उसके खून का दोष तेरे परिवार पर आए।”—व्यवस्थाविवरण 22:8.

गुस्से पर काबू रखिए।

“जो क्रोध करने में धीमा है वह पैनी समझ से मालामाल है, लेकिन जो उतावली करता है वह अपनी मूर्खता दिखाता है।”—नीतिवचन 14:29.

हद-से ज़्यादा मत खाइए।

‘उनके जैसा मत बन जो ठूँस-ठूँसकर गोश्‍त खाते हैं।’—नीतिवचन 23:20.