(लूका 5:13)

  1. 1. प्यार का रूप लोगों ने देखा,

    यीशु जब धरती पे आया।

    सबके दुख को समझा,

    की सब पे कृपा,

    बोली और कामों में सदा।

    दीनों का रखा था खयाल,

    बीमारी से करके बहाल।

    उसने याह का किया हर एक काम खूब,

    कहा दिल से, हाँ, “चाहता हूँ।”

  2. 2. कोशिशें हैं हर दिन अपनी,

    चलें हम डगर यीशु की।

    जब मिलते लोगों से,

    सिखाते प्यार से,

    कथनी और करनी से अपनी।

    हो दुख में अनाथ या विधवा,

    या मुश्किल में दोस्त हो अपना,

    तो फिर देने मदद रह तैयार तू

    और बोल दिल से, हाँ, “चाहता हूँ।”