“जिस घर में नफरत हो वहाँ दावत उड़ाने से अच्छा है, उस घर में सादा खाना खाना जहाँ प्यार हो।”

नीतिवचन 15:17

“मैं ही तेरा परमेश्‍वर यहोवा हूँ, जो तुझे तेरे भले के लिए सिखाता हूँ और जिस राह पर तुझे चलना चाहिए उसी पर तुझे ले चलता हूँ।”

यशायाह 48:17

“सुखी हैं वे जिनमें परमेश्‍वर से मार्गदर्शन पाने की भूख है क्योंकि स्वर्ग का राज उन्हीं का है।”

मत्ती 5:3

“तुम अपने पड़ोसी से वैसे ही प्यार करना जैसे तुम खुद से करते हो।”

मत्ती 22:39

“ठीक जैसा तुम चाहते हो कि लोग तुम्हारे साथ करें, तुम भी उनके साथ वैसा ही करो।”

लूका 6:31

“सुखी हैं वे जो परमेश्‍वर का वचन सुनते हैं और उस पर चलते हैं!”

लूका 11:28

 “चाहे इंसान के पास बहुत कुछ हो, तो भी उसकी दौलत उसे ज़िंदगी नहीं दे सकती।”

लूका 12:15

“इसलिए अगर हमारे पास खाने और पहनने को है, तो हमें उसी में संतोष करना चाहिए।”

1 तीमुथियुस 6:8

“लेने से ज़्यादा खुशी देने में है।”

प्रेषितों 20:35