इस जानकारी को छोड़ दें

सैकेंडरी मैन्यू को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

हिंदी

ऑनलाइन बाइबल | पवित्र शास्त्र का नयी दुनिया अनुवाद

पहला इतिहास 24:1-31

सारांश

  • याजकों के 24 दल (1-19)

  • बाकी लेवियों के काम (20-31)

24  हारून के वंशजों को जिन दलों में बाँटा गया था वे ये थे: हारून के बेटे थे नादाब, अबीहू,+ एलिआज़र और ईतामार।+  मगर नादाब और अबीहू अपने पिता से पहले ही मर गए+ और उन दोनों का कोई बेटा नहीं था। मगर एलिआज़र+ और ईतामार याजकों के नाते सेवा करते रहे।  दाविद ने एलिआज़र के बेटों में से सादोक+ और ईतामार के बेटों में से अहीमेलेक के साथ मिलकर हारून के वंशजों को सेवा के अलग-अलग दल में बाँटा।  एलिआज़र के बेटों में ईतामार के बेटों से ज़्यादा मुखिया थे इसलिए उन्होंने इस तरह उन्हें दलों में बाँटा: एलिआज़र के बेटों में उनके पिताओं के घराने के 16 मुखिया थे और ईतामार के बेटों में उनके पिताओं के घराने के 8 मुखिया थे।  इसके अलावा, उन्होंने चिट्ठियाँ डालकर+ दोनों समूहों को अलग-अलग दल में बाँटा क्योंकि पवित्र जगह के प्रधान और सच्चे परमेश्‍वर की सेवा करनेवाले प्रधान दोनों समूहों में थे यानी एलिआज़र और ईतामार के बेटों में।  फिर नतनेल के बेटे शमायाह ने, जो लेवियों का सचिव था, राजा, हाकिमों, सादोक+ याजक, अबियातार+ के बेटे अहीमेलेक+ और याजकों और लेवियों के पिताओं के घरानों के प्रधानों के सामने उनके नाम लिखे। चिट्ठी डालकर एलिआज़र के समूह से एक पिता का घराना चुना जाता और एक पिता का घराना ईतामार के समूह से चुना जाता।  पहली चिट्ठी यहोयारीब के नाम पड़ी, दूसरी यदायाह के नाम,  तीसरी हारीम के नाम, चौथी सोरीम के नाम,  पाँचवीं मल्कियाह के नाम, छठी मियामीन के नाम, 10  सातवीं हक्कोस के नाम, आठवीं अबियाह के नाम,+ 11  नौवीं येशू के नाम, दसवीं शकन्याह के नाम, 12  11वीं एल्याशीब के नाम, 12वीं याकीम के नाम, 13  13वीं हुप्पा के नाम, 14वीं येसेबाब के नाम, 14  15वीं बिलगा के नाम, 16वीं इम्मेर के नाम, 15  17वीं हेजीर के नाम, 18वीं हप्पिसेस के नाम, 16  19वीं पतहयाह के नाम, 20वीं यहेजकिएल के नाम, 17  21वीं याकीन के नाम, 22वीं गामूल के नाम, 18  23वीं दलायाह के नाम और 24वीं माज्याह के नाम। 19  इन लेवियों के लिए यही कायदा ठहराया गया था और वे इसी क्रम से यहोवा के भवन में आते और उस इंतज़ाम के मुताबिक सेवा करते थे+ जो उनके पुरखे हारून ने ठहराया था, ठीक जैसे इसराएल के परमेश्‍वर यहोवा ने उसे आज्ञा दी थी। 20  बाकी लेवी ये थे: अमराम+ के बेटों में से शूबाएल,+ शूबाएल के बेटों में से येहदयाह, 21  रहबयाह+ के बेटों में से प्रधान यिश्‍शायाह, 22  यिसहारियों में से शलोमोत,+ शलोमोत के बेटों में से यहत, 23  हेब्रोन के बेटों में से प्रधान यरीयाह,+ दूसरा अमरयाह, तीसरा यहजीएल और चौथा यकमाम, 24  उज्जीएल के बेटों में से मीका, मीका के बेटों में से शामीर। 25  मीका का भाई यिश्‍शायाह था और यिश्‍शायाह के बेटों में से जकरयाह। 26  मरारी+ के बेटे थे महली और मूशी, याजियाह के बेटों में से बिनो, 27  मरारी के बेटे ये थे: याजियाह के वंशजों में से बिनो, शोहम, जक्कूर और इब्री। 28  महली के वंशजों में से एलिआज़र जिसका कोई बेटा नहीं था,+ 29  कीश के वंशजों में से यरहमेल 30  और मूशी के बेटे थे महली, एदेर और यरीमोत। ये अपने पिताओं के घरानों के मुताबिक लेवियों के बेटे थे। 31  इन्होंने भी अपने भाइयों यानी हारून के बेटों की तरह राजा दाविद, सादोक, अहीमेलेक और याजकों और लेवियों के पिताओं के घरानों के प्रधानों के सामने चिट्ठियाँ डालीं।+ उनके पिताओं के सभी घराने बराबर माने गए, फिर चाहे वे बड़े थे या छोटे।

कई फुटनोट