इस जानकारी को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

भाषा चुनें हिंदी

होशे 13:1-16

सारांश

  • एप्रैम यहोवा को भूल गया (1-16)

    • “हे मौत, तेरा डंक कहाँ है?” (14)

13  “जब एप्रैम बोलता तो लोग काँप उठते थे,वह इसराएल में सबसे बड़ा था।+ मगर वह बाल की पूजा करके दोषी बन गया+ और मर गया।   अब वे और भी पाप करते हैं,अपनी चाँदी ढालकर मूरतें बनाते हैं,+उनके कारीगर हुनरमंदी से मूरतें बनाते हैं। वे कहते हैं, ‘बलिदान चढ़ानेवाले आकर बछड़ों को चूमें।’+   इसलिए वे सुबह के बादल की तरहऔर ओस की तरह बन जाएँगे जो जल्द ही गायब हो जाती है,भूसी की तरह बन जाएँगे जिसे आँधी खलिहान से उड़ा ले जाती है,धुएँ की तरह बन जाएँगे जो धुँआरे से निकल जाता है।   मगर मैं यहोवा तब से तेरा परमेश्‍वर हूँ जब इसराएल मिस्र में ही था,*+तू मुझे छोड़ किसी और परमेश्‍वर को नहीं जानता था,मेरे सिवा तेरा कोई और उद्धारकर्ता नहीं है।+   मैंने तुझे तब देखा जब तू वीराने में था,+ सूखे इलाके में था।   वे अपने चरागाहों से संतुष्ट हो गए,+ संतुष्ट होने पर उनका मन घमंड से भर गयाऔर वे मुझे भूल गए।+   मैं उनके लिए जवान शेर जैसा बन जाऊँगा,+एक चीते जैसा जो रास्ते में घात लगाए रहता है।   मैं ऐसी रीछनी की तरह उन पर टूट पड़ूँगा जिसके बच्चे खो गए हैं,मैं उनकी छाती* चीर दूँगा। एक शेर की तरह उन्हें वहीं खा जाऊँगा,मैदान का एक जंगली जानवर उनकी बोटी-बोटी कर देगा।   हे इसराएल, वह तुझे नाश कर देगा,क्योंकि तू मेरे खिलाफ हो गया है, अपने मददगार के खिलाफ। 10  कहाँ गया तेरा राजा जो तुझे सभी शहरों में बचाता?+कहाँ गए तेरे शासक?*उनके बारे में तूने कहा था, ‘मुझे एक राजा और हाकिम दे।’+ 11  मैंने गुस्से से भरकर तुझे एक राजा दिया+और अब जलजलाहट में आकर उसे ले लूँगा।+ 12  एप्रैम के गुनाहों की गठरी बाँधी गयी है,*उसका पाप सँभालकर रखा गया है। 13  उसे बच्चा जनने का सा दर्द उठेगा। मगर वह नासमझ बच्चा है,पैदा होने का समय आ गया है मगर वह बाहर नहीं आना चाहता। 14  मैं उन्हें कब्र* की गिरफ्त से छुड़ाऊँगा,मौत के चंगुल से छुड़ाकर उन्हें वापस लाऊँगा।+ हे मौत, तेरा डंक कहाँ है?+ हे कब्र, तेरी नाश करने की शक्‍ति कहाँ गयी?+ मैं तुझ पर बिलकुल दया नहीं करूँगा। 15  चाहे वह नरकटों के बीच खूब बढ़े,फिर भी पूरब से हवा चलेगी, यहोवा की तरफ से हवा चलेगी,यह रेगिस्तान से चलेगी, उसका कुआँ और सोता सुखा देगी। वह आकर उसकी सब अनमोल चीज़ों का खज़ाना लूट लेगा।+ 16  सामरिया को दोषी ठहराया जाएगा+ क्योंकि उसने अपने परमेश्‍वर से बगावत की है।+ वे तलवार से मारे जाएँगे,+उनके बच्चों को पटक-पटककर मार डाला जाएगाऔर उनकी गर्भवती औरतों का पेट चीर दिया जाएगा।”

कई फुटनोट

या “मिस्र से तेरा परमेश्‍वर हूँ।”
शा., “उनके दिल की झिल्ली।”
शा., “न्यायी।”
या “गुनाह सँभालकर रखे गए हैं।”
या “शीओल।” शब्दावली देखें।