इस जानकारी को छोड़ दें

सैकेंडरी मैन्यू को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

हिंदी

ऑनलाइन बाइबल | पवित्र शास्त्र का नयी दुनिया अनुवाद

लैव्यव्यवस्था 16:1-34

सारांश

  • प्रायश्‍चित का दिन (1-34)

16  यहोवा ने हारून के दो बेटों की मौत के बाद मूसा से बात की। हारून के ये बेटे यहोवा के सामने जाने की वजह से मर गए थे।+  यहोवा ने मूसा से कहा, “अपने भाई हारून से कहना कि वह परम-पवित्र जगह में परदे के अंदर,+ संदूक के ढकने के सामने यूँ ही किसी भी वक्‍त नहीं आ सकता।+ वरना वह मर जाएगा+ क्योंकि मैं उस ढकने के ऊपर बादल+ में प्रकट होऊँगा।+  हारून को परम-पवित्र जगह में आने से पहले पाप-बलि के लिए एक बैल+ और होम-बलि के लिए एक मेढ़े की बलि चढ़ानी होगी।+  उसे चाहिए कि वह परम-पवित्र जगह में आने से पहले नहाए,+ फिर मलमल का पवित्र कुरता+ और मलमल का जाँघिया+ पहने, कुरते के ऊपर मलमल की कमर-पट्टी+ बाँधे और सिर पर मलमल की पगड़ी+ पहने। यह पवित्र पोशाक+ है।  उसे इसराएलियों की मंडली से पाप-बलि के लिए बकरी के दो नर बच्चे और होम-बलि के लिए एक मेढ़ा लेना चाहिए।+  फिर हारून को पाप-बलि का बैल सामने लाना चाहिए, जो उसके अपने पापों के लिए होगा। वह अपने और अपने घराने के पापों के लिए प्रायश्‍चित करेगा।+  इसके बाद हारून बकरी के दोनों बच्चों को लेगा और उन्हें भेंट के तंबू के द्वार पर यहोवा के सामने खड़ा करेगा।  फिर वह दोनों के लिए चिट्ठियाँ डालेगा जिससे तय होगा कि कौन-सा बकरा यहोवा को अर्पित किया जाएगा और कौन-सा अजाजेल* के लिए होगा।  जिस बकरे पर यहोवा के नाम की चिट्ठी निकलती है+ उसकी वह पाप-बलि चढ़ाएगा। 10  और जिस बकरे पर अजाजेल के लिए चिट्ठी निकलती है उसे यहोवा के सामने ज़िंदा खड़ा किया जाए ताकि पापों का प्रायश्‍चित हो और उसे अजाजेल के लिए वीराने में ले जाकर छोड़ दिया जाए।+ 11  हारून पाप-बलि का बैल सामने लाएगा जो उसके अपने पापों के लिए होगा। वह अपने और अपने घराने के पापों के लिए प्रायश्‍चित करेगा। इसके बाद वह पाप-बलि का बैल हलाल करेगा।+ 12  इसके बाद वह आग उठाने का करछा लेगा+ जिसमें यहोवा के सामने रखी वेदी का जलता हुआ कोयला भरा होगा,+ साथ ही दो मुट्ठी बढ़िया सुगंधित धूप लेगा+ और यह सब लेकर परदे के अंदर जाएगा।+ 13  फिर वह यहोवा के सामने आग के ऊपर धूप डालेगा+ जिससे धूप का धुआँ गवाही के संदूक+ के ढकने पर छा जाएगा।+ ऐसा वह इसलिए करेगा ताकि वह मर न जाए। 14  वह बैल का थोड़ा खून लेगा+ और अपनी उँगली से संदूक के ढकने के सामने, पूरब की तरफ छिड़केगा। वह ढकने के सामने सात बार खून छिड़केगा।+ 15  फिर वह पाप-बलि का बकरा हलाल करेगा जो लोगों के लिए होगा।+ वह बकरे का खून+ लेकर परदे के अंदर जाएगा+ और उसे ठीक उसी तरह छिड़केगा जैसे वह बैल का खून छिड़कता है। उसे यह खून ढकने के सामने छिड़कना चाहिए। 16  हारून परम-पवित्र जगह के लिए प्रायश्‍चित करेगा ताकि वह इसराएलियों के अशुद्ध कामों, अपराधों और पापों की वजह से दूषित न हो जाए।+ उसे भेंट के तंबू के लिए भी प्रायश्‍चित करना होगा क्योंकि यह तंबू ऐसे लोगों के बीच है जो अशुद्ध काम करते हैं। 17  जब भी हारून प्रायश्‍चित करने के लिए परम-पवित्र जगह में जाएगा, तो उसके बाहर आने तक भेंट के तंबू में कोई और आदमी नज़र न आए। हारून अपने और अपने घराने+ के लिए और इसराएल की पूरी मंडली+ के लिए प्रायश्‍चित करेगा। 18  फिर वह बाहर उस वेदी के पास जाएगा+ जो यहोवा के सामने है और उस वेदी के लिए प्रायश्‍चित करेगा। वह बैल और बकरे का थोड़ा खून लेकर वेदी के सींगों पर लगाएगा। 19  साथ ही, अपनी उँगली से थोड़ा खून वेदी पर सात बार छिड़केगा और वेदी को इसराएलियों के अशुद्ध कामों से शुद्ध करेगा और पवित्र ठहराएगा। 20  जब वह परम-पवित्र जगह, भेंट के तंबू और वेदी के लिए प्रायश्‍चित कर लेगा+ तो इसके बाद वह ज़िंदा बकरे को सामने लाएगा।+ 21  हारून बकरे के सिर पर अपने दोनों हाथ रखेगा और इसराएलियों के सभी गुनाह, उनके सभी अपराध और पाप कबूल करेगा और यह सब बकरे के सिर पर डाल देगा।+ फिर वह बकरे को उस आदमी के हाथ वीराने में भेज देगा जो इस काम के लिए चुना जाता है।* 22  इस तरह हारून बकरे को वीराने में भेज देगा+ और वह बकरा लोगों के सारे पाप+ दूर वीराने में ले जाएगा।+ 23  फिर हारून भेंट के तंबू में जाएगा और अपनी मलमल की पोशाक उतार देगा जिसे पहनकर वह परम-पवित्र जगह में गया था। वह पोशाक उतारकर नीचे रखेगा। 24  फिर वह तंबू के आँगन में नहाएगा+ और अपनी दूसरी पोशाक पहनेगा।+ फिर वह अपनी होम-बलि+ और लोगों की होम-बलि चढ़ाएगा+ और अपने और लोगों के पापों का प्रायश्‍चित करेगा।+ 25  वह वेदी पर पाप-बलि की चरबी जलाएगा ताकि उसका धुआँ उठे। 26  जो आदमी अजाजेल के लिए बकरे को छोड़कर आएगा+ उसे अपने कपड़े धोने चाहिए और नहाना चाहिए। इसके बाद वह छावनी में आ सकता है। 27  पाप-बलि के उस बैल और बकरे को, जिनका खून प्रायश्‍चित के लिए परम-पवित्र जगह में ले जाया गया था, छावनी के बाहर ले जाया जाएगा और उनकी खाल, उनका गोश्‍त और गोबर आग में जला दिया जाएगा।+ 28  जो ये चीज़ें जलाता है, उसे अपने कपड़े धोने चाहिए और नहाना चाहिए। इसके बाद वह छावनी में आ सकता है। 29  तुम लोगों को यह नियम हमेशा के लिए दिया जाता है: साल के सातवें महीने के दसवें दिन तुम सबको अपने पापों के लिए दुख ज़ाहिर करना होगा।* इस दिन तुममें से किसी को भी कोई काम नहीं करना चाहिए,+ न किसी इसराएली को और न ही तुम्हारे बीच रहनेवाले किसी परदेसी को। 30  यह वह दिन होगा जब तुम्हारे लिए प्रायश्‍चित किया जाएगा+ ताकि तुम शुद्ध ठहराए जाओ। तुम यहोवा के सामने अपने सब पापों से शुद्ध हो जाओगे।+ 31  यह तुम्हारे लिए सब्त का दिन होगा, पूरे विश्राम का दिन। इस दिन तुम्हें अपने पापों के लिए दुख ज़ाहिर करना होगा।+ यह नियम हमेशा के लिए लागू रहेगा। 32  प्रायश्‍चित करने का काम वही याजक करेगा जिसका अभिषेक किया जाता है+ और जिसे अपने पिता की जगह+ याजकपद सौंपा जाता है।*+ वह पवित्र पोशाक+ यानी मलमल की पोशाक पहनेगा।+ 33  वह परम-पवित्र जगह,+ भेंट के तंबू+ और वेदी+ के लिए प्रायश्‍चित करेगा। वह याजकों और मंडली के सब लोगों के लिए भी प्रायश्‍चित करेगा।+ 34  यह नियम तुम्हें हमेशा के लिए दिया जा रहा है+ कि तुम साल में एक बार इसराएलियों के पापों के लिए प्रायश्‍चित करो।”+ उसने ठीक वैसा ही किया जैसा यहोवा ने मूसा को आज्ञा दी थी।

कई फुटनोट

शायद इसका मतलब है, “वह बकरा जो गायब हो जाता है।”
या “जो तैयार खड़ा रहता है।”
‘दुख ज़ाहिर करने’ का आम तौर पर यह मतलब समझा जाता है, खुद को कई चीज़ों से दूर रखना और इसमें उपवास करना शामिल है।
शा., “जिसका हाथ भरा जाता है।”