इस जानकारी को छोड़ दें

सैकेंडरी मैन्यू को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

हिंदी

ऑनलाइन बाइबल | पवित्र शास्त्र का नयी दुनिया अनुवाद

लूका के मुताबिक खुशखबरी 3:1-38

सारांश

  • यूहन्‍ना सेवा करना शुरू करता है (1, 2)

  • यूहन्‍ना बपतिस्मा लेने का प्रचार करता है (3-20)

  • यीशु का बपतिस्मा (21, 22)

  • यीशु मसीह की वंशावली (23-38)

3  सम्राट तिबिरियुस के राज के 15वें साल में, जिस दौरान पुन्तियुस पीलातुस, यहूदिया का राज्यपाल था और हेरोदेस*+ गलील का ज़िला-शासक था, साथ ही हेरोदेस का भाई फिलिप्पुस, इतूरैया और त्रखोनीतिस इलाके का ज़िला-शासक था और लिसानियास, अबिलेने इलाके का ज़िला-शासक था  और हन्‍ना एक प्रधान याजक और कैफा महायाजक था।+ उन्हीं दिनों परमेश्‍वर का संदेश जकरयाह के बेटे यूहन्‍ना+ के पास वीराने में पहुँचा।+  इसलिए यूहन्‍ना, यरदन नदी के आस-पास के सभी इलाकों में जाकर प्रचार करने लगा कि लोगों को बपतिस्मा लेना होगा, जो इस बात की निशानी ठहरेगा कि उन्होंने अपने पापों का पश्‍चाताप किया है और वे माफी पाना चाहते हैं,+  ठीक जैसा भविष्यवक्‍ता यशायाह की किताब में लिखा है, “सुनो! वीराने में कोई पुकार रहा है, ‘यहोवा* का रास्ता तैयार करो, उसकी सड़कें सीधी करो।+  हरेक घाटी भर दी जाए और हरेक पहाड़ और पहाड़ी सपाट कर दी जाए और टेढ़े-मेढ़े रास्ते सीधे और ऊबड़-खाबड़ जगह समतल कर दी जाएँ।  और सब इंसान देखेंगे कि परमेश्‍वर कैसे उद्धार करता है।’”*+  जो भीड़ यूहन्‍ना से बपतिस्मा लेने आती थी, वह उससे कहा करता था, “अरे साँप के सँपोलो, किसने तुम्हें आगाह कर दिया कि तुम आनेवाले कहर से भाग सकते हो?+  इसलिए पश्‍चाताप दिखानेवाले फल पैदा करो। खुद से यह मत कहो, ‘हम तो अब्राहम के वंशज हैं।’ क्योंकि मैं तुमसे कहता हूँ कि परमेश्‍वर इन पत्थरों से अब्राहम के लिए संतान पैदा कर सकता है।  वाकई, पेड़ों की जड़ पर कुल्हाड़ा रखा जा चुका है। हर वह पेड़ जो अच्छा फल नहीं देता, उसे काटकर आग में झोंक दिया जाएगा।”+ 10  तब भीड़ उससे पूछती थी, “तो हमें क्या करना चाहिए?” 11  वह उनसे कहता, “जिस आदमी के पास दो कपड़े हों, वह एक उसे दे दे जिसके पास एक भी नहीं है। जिसके पास खाने की चीज़ें हों वह भी ऐसा ही करे।”+ 12  कर-वसूलनेवाले भी यूहन्‍ना के पास बपतिस्मा लेने आए।+ उन्होंने उससे पूछा, “गुरु, हमें क्या करना चाहिए?” 13  उसने कहा, “जितना कर बनता है उससे ज़्यादा की माँग* मत करो।”+ 14  जो सेना में थे उन्होंने यूहन्‍ना से पूछा, “हमें क्या करना चाहिए?” उसने कहा, “किसी को मत सताओ* या किसी पर झूठा इलज़ाम मत लगाओ।+ मगर तुम्हें जो रोज़ी-रोटी* मिलती है उसी में खुश रहो।” 15  लोग मसीह के आने की बड़ी आस लगाए थे और सब लोग मन-ही-मन यूहन्‍ना के बारे में सोच रहे थे, “कहीं यही तो मसीह नहीं?”+ 16  यूहन्‍ना ने उन सबसे कहा, “मैं तो तुम्हें पानी से बपतिस्मा देता हूँ। मगर जो आनेवाला है वह मुझसे कहीं शक्‍तिशाली है। मैं उसकी जूतियों के फीते खोलने के भी लायक नहीं।+ वह तुम लोगों को पवित्र शक्‍ति से और आग से बपतिस्मा देगा।+ 17  उसके हाथ में अनाज फटकनेवाला बेलचा है, वह अपने खलिहान को पूरी तरह साफ करेगा और गेहूँ को इकट्ठा करके अपने गोदाम में रखेगा, मगर भूसी को उस आग में जला देगा जिसे बुझाया नहीं जा सकता।” 18  यूहन्‍ना लोगों को और भी कई सीख देता रहा और उन्हें खुशखबरी सुनाता रहा। 19  लेकिन जब यूहन्‍ना ने ज़िला-शासक हेरोदेस को फटकारा क्योंकि उसने अपने भाई की पत्नी हेरोदियास को रख लिया था और दूसरे कई दुष्ट काम किए थे, 20  तो हेरोदेस ने यूहन्‍ना को जेल में डलवा दिया और अपने दुष्ट कामों में एक काम और जोड़ लिया।+ 21  जब सब लोग बपतिस्मा ले रहे थे, तब यीशु ने भी बपतिस्मा लिया+ और जब वह प्रार्थना कर रहा था, तो आकाश खुल गया+ 22  और परमेश्‍वर की पवित्र शक्‍ति कबूतर जैसे आकार में उसके ऊपर उतरी और स्वर्ग से यह आवाज़ सुनायी दी: “तू मेरा प्यारा बेटा है। मैंने तुझे मंज़ूर किया है।”+ 23  जब यीशु+ ने अपनी सेवा शुरू की, तो वह करीब 30 साल का था।+ जैसा माना जाता थावह यूसुफ का बेटा था+और यूसुफ एली का, 24  एली मत्तात का,मत्तात लेवी का,लेवी मलकी का,मलकी यन्‍ना काऔर यन्‍ना यूसुफ का बेटा था। 25  यूसुफ मतित्याह का,मतित्याह आमोस का,आमोस नहूम का,नहूम असल्याह काऔर असल्याह नोगह का बेटा था। 26  नोगह मात का,मात मतित्याह का,मतित्याह शिमी का,शिमी योसेख काऔर योसेख योदाह का बेटा था। 27  योदाह योनान का,योनान रेसा का,रेसा जरुबाबेल+ का,जरुबाबेल शालतीएल का+और शालतीएल नेरी का बेटा था। 28  नेरी मलकी का,मलकी अद्दी का,अद्दी कोसाम का,कोसाम इलमोदाम काऔर इलमोदाम एर का बेटा था। 29  एर यीशु का,यीशु एलीएज़ेर का,एलीएज़ेर योरीम का,योरीम मत्तात काऔर मत्तात लेवी का बेटा था। 30  लेवी शिमौन का,शिमौन यहूदा का,यहूदा यूसुफ का,यूसुफ योनाम काऔर योनाम एल्याकीम का बेटा था। 31  एल्याकीम मलेआह का,मलेआह मिन्‍नाह का,मिन्‍नाह मत्तता का,मत्तता नातान+ काऔर नातान दाविद का बेटा था।+ 32  दाविद यिशै का,+यिशै ओबेद का,+ओबेद बोअज़+ का,बोअज़ सलमोन का+और सलमोन नहशोन का बेटा था।+ 33  नहशोन अम्मीनादाब का,अम्मीनादाब अरनी का,अरनी हेसरोन का,हेसरोन पेरेस का+और पेरेस यहूदा का बेटा था।+ 34  यहूदा याकूब+ का,याकूब इसहाक का,+इसहाक अब्राहम का,+अब्राहम तिरह का+और तिरह नाहोर का बेटा था।+ 35  नाहोर सरूग का,+सरूग रऊ का,+रऊ पेलेग का,+पेलेग एबेर का+और एबेर शेलह का बेटा था।+ 36  शेलह केनान का,केनान अरपक्षद का,+अरपक्षद शेम का,+शेम नूह का+और नूह लेमेक का बेटा था।+ 37  लेमेक मतूशेलह का,+मतूशेलह हनोक का,हनोक येरेद का,+येरेद महल-लेल का+और महल-लेल केनान का बेटा था।+ 38  केनान एनोश का,+एनोश शेत का,+शेत आदम का+और आदम परमेश्‍वर का बेटा था।

कई फुटनोट

यानी हेरोदेस अन्तिपास। शब्दावली देखें।
अति. क5 देखें।
या “उद्धार करने का परमेश्‍वर का ज़रिया देखेंगे।”
या “इकट्ठा।”
या “लूटो।”
या “मज़दूरी।”