इस जानकारी को छोड़ दें

सैकेंडरी मैन्यू को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

हिंदी

ऑनलाइन बाइबल | पवित्र शास्त्र का नयी दुनिया अनुवाद

यहोशू 10:1-43

सारांश

  • इसराएल ने गिबोन की रक्षा की (1-7)

  • यहोवा इसराएल की तरफ से लड़ा (8-15)

    • भागते दुश्‍मनों पर ओले बरसे (11)

    • सूरज थम गया (12-14)

  • हमला करनेवाले पाँच राजा मारे गए (16-28)

  • दक्षिणी शहरों पर कब्ज़ा (29-43)

10  यरूशलेम के राजा अदोनी-सेदेक ने सुना कि यहोशू ने ऐ पर कब्ज़ा करके उसका नाश कर दिया है। और ऐ और उसके राजा का वही हश्र किया है+ जो उसने यरीहो और उसके राजा का किया था।+ उसने यह भी सुना कि गिबोन के लोगों ने इसराएलियों के साथ शांति का करार किया है+ और उनके बीच रहने लगे हैं।  यह सब सुनकर अदोनी-सेदेक की रातों की नींद उड़ गयी+ क्योंकि गिबोन भी उन शहरों जितना बड़ा और शक्‍तिशाली था, जिन पर राजा राज करते थे। गिबोन शहर, ऐ से भी ज़्यादा ताकतवर था+ और उसके सभी आदमी वीर योद्धा थे।  इसलिए यरूशलेम के राजा अदोनी-सेदेक ने हेब्रोन+ के राजा होहाम, यरमूत के राजा पिराम, लाकीश के राजा यापी और एगलोन के राजा+ दबीर को यह संदेश भेजा,  “मुझे तुम्हारी मदद चाहिए। गिबोनियों ने यहोशू और इसराएलियों के साथ शांति का करार कर लिया है,+ इसलिए आओ हम उन पर हमला बोल दें।”  तब यरूशलेम, हेब्रोन, यरमूत, लाकीश और एगलोन के राजा अपनी-अपनी सेनाओं के साथ इकट्ठा हुए। पाँचों एमोरी+ राजा निकल पड़े और उन्होंने गिबोन से लड़ने के लिए छावनी डाली।  तब गिबोन के आदमियों ने यहोशू को, जो गिलगाल में डेरा डाले हुए था,+ यह संदेश भेजा, “हमें बचा ले! पहाड़ी प्रदेश के सभी एमोरी राजा हमसे युद्ध करने के लिए इकट्ठा हो गए हैं। जल्दी आकर हमारी रक्षा कर, अपने दासों को बेसहारा मत छोड़।”*+  तब यहोशू अपने सभी सैनिकों और वीर योद्धाओं को साथ लेकर गिलगाल से रवाना हो गया।+  यहोवा ने यहोशू से कहा, “उनसे मत डर+ क्योंकि मैंने उनको तेरे हाथ कर दिया है।+ उनमें से कोई भी तेरे सामने नहीं टिक पाएगा।”+  यहोशू ने गिलगाल से रात-भर का सफर तय किया और अचानक दुश्‍मनों पर हमला बोल दिया। 10  यहोवा ने इसराएलियों के सामने उनके बीच खलबली मचा दी+ और इसराएलियों ने गिबोन में भारी तादाद में दुश्‍मनों को मार डाला। वे ऊपर बेत-होरोन की चढ़ाई पर उनका पीछा करते गए और उन्हें अजेका और मक्केदा तक मारते गए। 11  जब एमोरी, इसराएलियों से जान बचाकर बेत-होरोन से नीचे की तरफ भागने लगे, तो यहोवा ने आसमान से उन पर बड़े-बड़े ओले बरसाए। बेत-होरोन से अजेका तक उन पर ओले बरसते गए और वे मर गए। इसराएलियों ने तलवार से जितनों को मारा था उससे कहीं ज़्यादा लोग ओलों से मारे गए। 12  जिस दिन यहोवा ने इसराएलियों के सामने एमोरियों को हराया, उस दिन यहोशू ने यहोवा से कहा और इसराएलियों के सामने पुकारा, “हे सूरज, गिबोन पर थम जा,+हे चाँद, अय्यालोन घाटी पर ठहर जा।” 13  इसलिए सूरज और चाँद थम गए और तब तक ठहरे रहे जब तक कि इसराएलियों ने अपने दुश्‍मनों को हरा न दिया। क्या यह बात याशार की किताब+ में नहीं लिखी है कि सूरज आसमान के बीचों-बीच थम गया था और पूरे एक दिन तक नहीं डूबा? 14  न तो इससे पहले, न ही इसके बाद ऐसा कोई दिन आया, जब यहोवा ने एक इंसान की बात सुनकर ऐसा किया हो।+ क्योंकि यहोवा, इसराएल की तरफ से लड़ रहा था।+ 15  फिर यहोशू सभी इसराएलियों के साथ गिलगाल में अपनी छावनी में लौट आया।+ 16  इस बीच एमोरियों के पाँचों राजा भाग गए और जाकर मक्केदा+ में एक गुफा में छिप गए। 17  यहोशू को खबर दी गयी कि वे पाँचों राजा मक्केदा+ की एक गुफा में छिपे हुए हैं। 18  तब यहोशू ने कहा, “गुफा का मुँह बड़े-बड़े पत्थरों से बंद कर दो और कुछ आदमियों को पहरे पर बिठाओ। 19  बाकी सैनिक दुश्‍मनों का पीछा करें और पीछे से उन पर हमला करके उन्हें मार डालें।+ उन्हें अपने शहरों में घुसने का मौका मत दो। तुम्हारे परमेश्‍वर यहोवा ने उन्हें तुम्हारे हाथ में कर दिया है।” 20  यहोशू और इसराएलियों ने इतनी भारी तादाद में एमोरी सैनिकों को मारा कि उनकी सेना लगभग मिट गयी। बस चंद आदमी ज़िंदा बचे और वे मज़बूत गढ़वाले शहरों में भाग गए। 21  इसके बाद सभी इसराएली सही-सलामत यहोशू के पास मक्केदा की छावनी में लौट आए। किसी ने भी इसराएलियों के खिलाफ कुछ बोलने की जुर्रत नहीं की।* 22  फिर यहोशू ने आज्ञा दी, “गुफा के मुँह से पत्थर हटाओ और उन पाँचों राजाओं को बाहर मेरे पास लाओ।” 23  उन्होंने ऐसा ही किया। वे यरूशलेम, हेब्रोन, यरमूत, लाकीश और एगलोन के राजा+ को गुफा से निकालकर यहोशू के पास ले आए। 24  जब ये राजा यहोशू के पास लाए गए, तो उसने इसराएल के सभी आदमियों को बुलवाया और उन सेनापतियों से जो उसके साथ युद्ध में गए थे कहा, “तुम सब आगे बढ़ो और इन राजाओं की गरदन पर अपना पाँव रखो।” वे आगे आए और उन्होंने राजाओं की गरदन पर अपने पाँव रखे।+ 25  फिर यहोशू ने उनसे कहा, “तुम डरना मत और न ही खौफ खाना।+ हिम्मत से काम लेना और हौसला रखना। क्योंकि यहोवा तुम्हारे सभी दुश्‍मनों को जिनसे तुम युद्ध करोगे, इसी तरह तुम्हारे अधीन कर देगा।”+ 26  इसके बाद यहोशू ने उन राजाओं को मार डाला और उन्हें पाँच काठों* पर लटका दिया। उन सबकी लाशें शाम तक काठों पर ही रहीं। 27  सूरज डूबने पर यहोशू ने आदेश दिया कि उनकी लाशें काठों से उतार दो+ और उसी गुफा में फेंक दो जहाँ वे छिपे हुए थे। उनकी लाशें गुफा में फेंक दी गयीं और उसका मुँह बड़े-बड़े पत्थरों से बंद कर दिया गया। ये पत्थर आज भी वहीं हैं। 28  उसी दिन यहोशू ने मक्केदा पर भी कब्ज़ा कर लिया+ और तलवार से उसके राजा और उसके सभी लोगों को पूरी तरह खत्म कर दिया, किसी को भी ज़िंदा नहीं छोड़ा।+ उसने मक्केदा के राजा का वही हश्र किया+ जो उसने यरीहो के राजा का किया था। 29  फिर यहोशू सब इसराएलियों के साथ मक्केदा से लिब्ना की तरफ बढ़ा और उन्होंने लिब्ना से युद्ध किया।+ 30  यहोवा ने लिब्ना और उसके राजा+ को भी उनके हाथ कर दिया। उन्होंने लिब्ना के सभी लोगों को तलवार से मार डाला, किसी को भी ज़िंदा नहीं छोड़ा। उन्होंने लिब्ना के राजा का वही हश्र किया जो उन्होंने यरीहो के राजा का किया था।+ 31  लिब्ना के बाद यहोशू सब इसराएलियों को लेकर लाकीश+ की तरफ बढ़ा और उन्होंने वहाँ छावनी डाली और लाकीश से युद्ध किया। 32  यहोवा ने लाकीश को इसराएल के हाथ कर दिया और अगले दिन उन्होंने उस पर कब्ज़ा कर लिया। उन्होंने लाकीश के सभी लोगों को तलवार से मार डाला,+ ठीक जैसे उन्होंने लिब्ना के लोगों को मार डाला था। 33  गेजेर का राजा+ होराम, लाकीश की मदद करने आया था मगर यहोशू ने होराम और उसके लोगों को मार डाला, किसी को भी नहीं छोड़ा। 34  फिर यहोशू सब इसराएलियों के साथ लाकीश से एगलोन+ की तरफ बढ़ा। उन्होंने वहाँ छावनी डाली और एगलोन से युद्ध किया। 35  उस दिन उन्होंने एगलोन पर कब्ज़ा कर लिया और उसके सब लोगों को तलवार से खत्म कर दिया, ठीक जैसे उन्होंने लाकीश के लोगों को खत्म किया था।+ 36  फिर यहोशू सब इसराएलियों के साथ एगलोन से हेब्रोन+ की तरफ बढ़ा और उन्होंने हेब्रोन से युद्ध किया। 37  उन्होंने हेब्रोन पर कब्ज़ा कर लिया और उस शहर के राजा को, वहाँ के सभी लोगों और उसके आस-पास के नगरों के लोगों को तलवार से मार डाला, किसी को भी ज़िंदा नहीं छोड़ा। यहोशू ने हेब्रोन और उसके सभी लोगों को पूरी तरह मिटा दिया, ठीक जैसे उसने एगलोन को मिटाया था। 38  आखिर में यहोशू सब इसराएलियों के साथ दबीर+ की तरफ बढ़ा और उन्होंने दबीर से युद्ध किया। 39  यहोशू ने दबीर पर कब्ज़ा कर लिया और वहाँ के राजा, उसके लोगों और आस-पास के नगरों के लोगों को तलवार से पूरी तरह खत्म कर दिया,+ किसी को भी ज़िंदा नहीं छोड़ा।+ उसने दबीर और उसके राजा का वही हश्र किया जो उसने हेब्रोन और लिब्ना का और उनके राजाओं का किया था। 40  इस तरह यहोशू ने पूरे देश को यानी पहाड़ी प्रदेश, नेगेब, शफेलाह+ और ढलानों को और उनके राजाओं को जीत लिया और वहाँ किसी को भी ज़िंदा नहीं छोड़ा। उसने एक-एक को मार डाला,+ ठीक जैसा इसराएल के परमेश्‍वर यहोवा ने आज्ञा दी थी।+ 41  यहोशू ने कादेश-बरने+ से लेकर गाज़ा+ तक का इलाका, गोशेन+ का पूरा इलाका और गिबोन+ तक का इलाका अपने कब्ज़े में कर लिया। 42  यहोशू ने वहाँ के सभी राजाओं को एक-एक करके हरा दिया और उनका देश ले लिया क्योंकि इसराएल का परमेश्‍वर यहोवा उनकी तरफ से लड़ रहा था।+ 43  फिर यहोशू सभी इसराएलियों के साथ गिलगाल में अपनी छावनी में लौट आया।+

कई फुटनोट

शा., “पर से अपना हाथ मत हटा।”
या “जीभ तक न हिलायी।”
या “पेड़ों।”