इस जानकारी को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

भाषा चुनें हिंदी

यशायाह 46:1-13

सारांश

  • बैबिलोन के देवता; इसराएल का परमेश्‍वर (1-13)

    • यहोवा भविष्य की बातें बताता है (10)

    • पूरब से एक शिकारी पक्षी (11)

46  बेल देवता झुक गया,+ नबो नीचा किया गया, उनकी मूरतें जानवरों पर, बोझ ढोनेवाले जानवरों पर ऐसी लदी हैं,+जैसे थके हुए जानवरों पर ढेर सारा सामान लदा हो।   बेल और नबो झुक गए हैं, उन्हें नीचा किया गया है,उनका सामान* जा रहा है, पर वे उसे नहीं बचा सकते,न ही खुद को बँधुआई में जाने से रोक सकते हैं।   “हे याकूब के घराने, हे इसराएल के घराने के बचे हुओ,+ मेरी सुनो!मैं तुम्हें गर्भ से सँभाले हुए हूँ, तुम्हारे जन्म से तुम्हें उठाए हुए हूँ।+   तुम्हारे बुढ़ापे में भी मैं नहीं बदलूँगा,+चाहे तुम्हारे बाल पक जाएँ मैं तुम्हें उठाए रहूँगा, तुम्हें लिए फिरूँगा, तुम्हें सँभालूँगा और बचाऊँगा,जैसा मैंने अब तक किया है।+   तुम किससे मेरी तुलना करोगे या किसे मेरे बराबर ठहराओगे?+किसके बारे में कहोगे कि वह मेरे जैसा है?+   ऐसे लोग हैं जो थैली से सोना निकाल-निकालकर देते हैंऔर तराज़ू पर चाँदी तौलते हैं। वे सुनार को काम पर लगाते हैं और सुनार उससे देवता की एक मूरत बनाता है,+फिर वे उस मूरत के आगे दंडवत करते हैं, उसकी पूजा करते हैं।+   उसे कंधों पर उठाते हैं+और ले जाकर उसकी जगह पर उसे खड़ा कर देते हैं। वह वहीं खड़ी रहती है, अपनी जगह से हिलती तक नहीं।+ वे उसके आगे गिड़गिड़ाते हैं पर वह कोई जवाब नहीं देती,वह किसी को उसके दुखों से नहीं छुड़ा सकती।+   हे अपराधियो, उन बातों को याद करो, उन्हें अपने मन में बिठा लो कि तुम हिम्मत से काम ले सको,   बीती बातें याद करो,जान लो कि मैं परमेश्‍वर हूँ, मेरे सिवा और कोई नहीं। मैं ही परमेश्‍वर हूँ, मेरे जैसा और कोई नहीं।+ 10  अंत में क्या होगा यह मैं शुरू में ही बता देता हूँऔर जो बातें अब तक नहीं हुईं, उन्हें बहुत पहले से बता देता हूँ।+ मैं कहता हूँ, ‘मैंने जो तय* किया है वह होकर ही रहेगा+और मैं अपनी मरज़ी ज़रूर पूरी करूँगा।’+ 11  मैं पूरब से एक शिकारी पक्षी को बुला रहा हूँ,+दूर देश से एक आदमी को बुला रहा हूँ, जो मेरे मकसद* को अंजाम देगा।+ मैंने ही यह कहा है और उसे पूरा भी करूँगा,मैंने ही यह ठाना है और उसे करके रहूँगा।+ 12  हे मन के ढीठ लोगो, मेरी सुनो!तुम जो नेकी की राह से कोसों दूर हो, सुनो! 13  बहुत जल्द मैं अपनी नेकी दिखाऊँगा,वह दिन दूर नहीं। मैं उद्धार करने में देर न करूँगा,+मैं सिय्योन को उद्धार दिलाऊँगा, इसराएल को अपने वैभव से भर दूँगा।”+

कई फुटनोट

यानी जानवरों पर लदी मूरतें।
या “मकसद; फैसला।”
या “मैंने जो तय किया है; फैसला।”