इस जानकारी को छोड़ दें

सैकेंडरी मैन्यू को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

हिंदी

ऑनलाइन बाइबल | पवित्र शास्त्र का नयी दुनिया अनुवाद

यशायाह 16:1-14

सारांश

  • मोआब को संदेश सुनाना जारी (1-14)

16  देश के शासक को एक मेढ़ा भेजो,उस मेढ़े को सेला से लो और वीराने के रास्ते से होते हुए,उसे सिय्योन की बेटी के पहाड़ पर पहुँचाओ।   अरनोन के घाट पर मोआब के लोग ऐसे दिखेंगे,+जैसे किसी चिड़िया को उसके घोंसले से भगा दिया हो।+   “सलाह दो, फैसले को अंजाम दो,भरी दोपहरी में छाँव बनकर हिफाज़त दो,ऐसी छाँव जो रात के अँधेरे जितनी घनी हो। तितर-बितर हुए लोगों को छिपा लो, भागनेवालों को दुश्‍मनों के हवाले मत करो।   हे मोआब, तू तितर-बितर हुए मेरे लोगों को अपने बीच रहने दे,उनके लिए छिपने की जगह बन जा कि वे नाश करनेवाले से बच जाएँ।+ ज़ुल्म ढानेवाले का नाश हो जाएगा,तबाही का अंत हो जाएगा,दूसरों को कुचलनेवाले धरती से मिट जाएँगे।   इसके बाद एक राजगद्दी कायम की जाएगी, जिसकी बुनियाद अटल प्यार होगी। दाविद के तंबू में जो उस राजगद्दी पर बैठेगा वह विश्‍वासयोग्य होगा,+वह सच्चा न्याय करेगा और नेक काम करने के लिए तत्पर रहेगा।”+   हमने मोआब के घमंड के बारे में सुना है, वह बड़ा मगरूर है,+हमने उसकी हेकड़ी, उसके घमंड और गुस्से के बारे में सुना है,+लेकिन उसकी बड़ी-बड़ी बातें खोखली निकलेंगी।   मोआब अपनी तबाही पर रोएगा,वहाँ के सभी निवासी ज़ोर-ज़ोर से रोएँगे,+ मार खानेवाले लोग कीर-हरासत की किशमिश की टिकियों को याद करके आहें भरेंगे।+   हेशबोन+ के सीढ़ीनुमा खेत सूख गए,राष्ट्रों के शासकों ने सिबमा+ की बेलों को,उसकी लाल-लाल बेलों* को रौंद डाला,जो याजेर तक पहुँच चुकी थीं,+वीराने तक बढ़ गयी थीं। उसकी डालियाँ दूर समुंदर तक फैल गयी थीं।   इसलिए जैसे मैं याजेर की बेलों के लिए रोया, सिबमा की बेलों के लिए भी रोऊँगा। हे हेशबोन और एलाले, मैं तुम्हें अपने आँसुओं से भिगो दूँगा,+क्योंकि तुम्हारे यहाँ गरमियों की फसल का शोर, फलों की कटाई का शोर बंद हो गया।* 10  बागों से खुशियों और जश्‍न का माहौल छीन लिया गया,अंगूरों के बाग में कोई गीत नहीं गा रहा, कोई खुशी से नहीं झूम रहा,+ दाख-मदिरा के लिए हौद में अंगूर नहीं रौंदे जा रहे,क्योंकि मैंने उनका शोर-शराबा बंद कर दिया।+ 11  इसलिए मेरा मन मोआब के लिए तड़प उठा,+मैं अंदर-ही-अंदर कीर-हरासत के लिए तड़प उठा,मानो किसी ने सुरमंडल के तार छेड़ दिए हों।+ 12  मोआब चाहे ऊँची जगहों पर जाकर खुद को थका दे, चाहे अपने पवित्र-स्थान में जाकर दुआएँ माँगे, फिर भी उसकी नहीं सुनी जाएगी।+ 13  मोआब के बारे में यह संदेश यहोवा ने पहले ही दे दिया था। 14  अब यहोवा कहता है, “ठीक तीन साल के अंदर* मोआब की शान धूल में मिल जाएगी। चारों तरफ हाहाकार मचेगा। उसमें बस गिने-चुने लोग रह जाएँगे, जो न के बराबर होंगे।”+

कई फुटनोट

या “लाल-लाल अंगूरों से लदी बेलों।”
या शायद, “गरमियों की फसल और फलों की कटाई के वक्‍त तुम्हारे यहाँ युद्ध की ललकार सुनायी दे रही है।”
शा., “तीन साल, जैसे मज़दूरों के होते हैं।” मज़दूरी का समय पहले से तय होता था, एक भी दिन घटाया-बढ़ाया नहीं जाता था।