इस जानकारी को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

भाषा चुनें हिंदी

भजन 131:1-3

सारांश

  • दूध छुड़ाए बच्चे की तरह संतुष्ट

    • बड़ी चीज़ों की ख्वाहिश न रखना (1)

दाविद की रचना। चढ़ाई का गीत। 131  हे यहोवा, मेरा दिल मगरूर नहीं,न ही मेरी आँखें घमंड से चढ़ी हैं।+न मैं बड़ी-बड़ी चीज़ों की ख्वाहिश रखता हूँ,+न ही उन चीज़ों की लालसा करता हूँ, जिन्हें पाना मेरे लिए मुमकिन नहीं।   मैंने बेशक अपने जी को शांत किया है,अपने मन को चुप कराया है,+अब यह दूध छुड़ाए हुए बच्चे की तरह है जो अपनी माँ के पास शांत है।मैं एक दूध छुड़ाए बच्चे की तरह संतुष्ट हूँ।   इसराएल यहोवा का इंतज़ार करे,+अब से लेकर हमेशा-हमेशा तक।

कई फुटनोट