इस जानकारी को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

भाषा चुनें हिंदी

भजन 114:1-8

सारांश

  • मिस्र से इसराएल का छुटकारा

    • सागर भाग गया (5)

    • पहाड़ मेढ़ों की तरह उछले (6)

    • चकमक चट्टान सोते में बदली (8)

114  जब इसराएल मिस्र से बाहर निकला,+याकूब का घराना दूसरी भाषा बोलनेवालों के बीच से निकला,   तब यहूदा उसका पवित्र-स्थान बना,इसराएल उसका राज्य बना।+   यह देखकर सागर भाग गया,+यरदन उलटी दिशा बहने लगी।+   पहाड़ मेढ़ों की तरह उछलने लगे,+पहाड़ियाँ मेम्नों की तरह उछलने लगीं।   हे सागर, तू क्यों भागा?+ हे यरदन, तू क्यों उलटी दिशा बहने लगी?+   हे पहाड़ो, तुम क्यों मेढ़ों की तरह उछले?हे पहाड़ियो, तुम क्यों मेम्नों की तरह उछलीं?   हे धरती, प्रभु के कारण थर-थर काँप,याकूब के परमेश्‍वर के कारण काँप,+   जो चट्टान को नरकटोंवाले तालाब में बदल देता है,चकमक चट्टान को पानी के सोतों में बदल देता है।+

कई फुटनोट