इस जानकारी को छोड़ दें

सैकेंडरी मैन्यू को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

हिंदी

ऑनलाइन बाइबल | पवित्र शास्त्र का नयी दुनिया अनुवाद

नीतिवचन 18:1-24

सारांश

  • खुद को अलग करना मूर्खता और स्वार्थ है (1)

  • यहोवा का नाम मज़बूत मीनार है (10)

  • दौलत झूठी हिफाज़त है (11)

  • दोनों पक्षों की सुनना बुद्धिमानी है (17)

  • दोस्त भाई से बढ़कर वफा निभाता है (24)

18  खुद को दूसरों से अलग करनेवाला अपने स्वार्थ के पीछे भागता हैऔर ऐसी बुद्धि को ठुकरा देता* है, जो उसे फायदा पहुँचा सकती है।   मूर्ख को समझ की बातें अच्छी नहीं लगतीं,उसे तो बस अपने मन की कहना पसंद है।+   जहाँ दुष्ट होता है वहाँ तिरस्कार भी होता हैऔर अपमान के साथ-साथ बदनामी भी होती है।+   इंसान के मुँह की बातें गहरे पानी की तरह होती हैं,+ बुद्धि का सोता नदी की तरह उमड़ता रहता है।   दुष्ट का पक्ष लेना सही नहीं+और नेक को इंसाफ न देना गलत है।+   मूर्ख की बातें झगड़े पैदा करती हैं,+वह अपनी ही ज़बान की वजह से पिटता है।+   मूर्ख की ज़बान उसे तबाह कर डालती है,+उसके होंठ उसकी जान के लिए फंदा बन जाते हैं।   बदनाम करनेवाले की बातें लज़ीज़ खाने की तरह होती हैं,+जिसे निगलकर सीधे पेट में डाला जाता है।+   कामचोर और तबाही मचानेवाला,दोनों भाई-भाई हैं।+ 10  यहोवा का नाम एक मज़बूत मीनार है,+ जिसमें भागकर नेक जन हिफाज़त पाता है।*+ 11  रईस की दौलत उसके लिए किलेबंद शहर है,मन-ही-मन वह सोचता है यह शहरपनाह उसे बचाएगी।+ 12  विपत्ति से पहले मन में घमंड+और आदर से पहले नम्रता होती है।+ 13  जो सुनने से पहले ही जवाब देता है,वह मूर्खता का काम करता है और अपनी बेइज़्ज़ती कराता है।+ 14  इंसान की हिम्मत उसे बीमारी में भी सँभाल सकती है,+लेकिन कुचले हुए मन को कौन सँभाल सकता है?+ 15  समझदार अपने मन में ज्ञान की बातें भरता है+और बुद्धिमान के कान ज्ञान की बातों की ओर लगे रहते हैं। 16  तोहफा एक इंसान के लिए रास्ता खोल देता है+और उसे बड़े-बड़े लोगों के सामने ले जाता है। 17  जो मुकदमे में पहले बोलता है, उसकी बातें सही लगती हैं,+मगर जब दूसरा पक्ष सवाल-जवाब करता है, तब हकीकत सामने आती है।+ 18  चिट्ठियाँ डालने से झगड़ा खत्म हो जाता है+और दो कट्टर विरोधियों के बीच फैसला किया जाता है। 19  नाराज़ भाई को मनाना, मज़बूत शहर को जीतने से कहीं ज़्यादा मुश्‍किल है+और झगड़े किले के बंद दरवाज़े* जैसे होते हैं।+ 20  इंसान अपने मुँह की बातों से अपना पेट भरता है+और अपने होंठों की उपज से तृप्त होता है। 21  ज़िंदगी और मौत ज़बान के बस में है,+एक इंसान जैसी बातें करना पसंद करता है, उसे वैसा ही फल मिलता है।+ 22  जिसने अच्छी पत्नी पा ली, उसने कुछ अनमोल पा लिया+और उसे यहोवा की मंज़ूरी* मिलती है।+ 23  गरीब मदद के लिए गिड़गिड़ाता है,मगर रईस उसे रुखाई से जवाब देता है। 24  ऐसे भी साथी होते हैं, जो एक-दूसरे को बरबाद करने के लिए तैयार रहते हैं,+मगर ऐसा भी दोस्त होता है, जो भाई से बढ़कर वफा निभाता है।+

कई फुटनोट

या “को तुच्छ समझता।”
शा., “को ऊँचा उठाया जाता है,” यानी वह सुरक्षित है और उस तक कोई नहीं पहुँच सकता।
शा., “के बेड़े।”
या “की कृपा।”