इस जानकारी को छोड़ दें

सैकेंडरी मैन्यू को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

हिंदी

ऑनलाइन बाइबल | पवित्र शास्त्र का नयी दुनिया अनुवाद

नीतिवचन 15:1-33

सारांश

  • नरमी से जवाब देना क्रोध शांत करता है (1)

  • यहोवा की आँखें हर जगह लगी हैं (3)

  • वह सीधे इंसान की प्रार्थना से खुश होता है (8)

  • सलाह न करने से योजनाएँ नाकाम (22)

  • जवाब देने से पहले मन में सोच (28)

15  नरमी से जवाब देने पर क्रोध शांत हो जाता है,+लेकिन चुभनेवाली बात से गुस्सा भड़क उठता है।+   बुद्धिमान जो अच्छी बातें जानता है उन्हें ज़बान पर लाता है,+मगर मूर्ख अपने मुँह से मूर्खता की बातें उगलता है।   यहोवा की आँखें हर जगह लगी रहती हैं,अच्छे-बुरे दोनों को देखती रहती हैं।+   शांति देनेवाली* ज़बान जीवन का पेड़ है,+मगर टेढ़ी बातें मन को कुचल देती हैं।   मूर्ख अपने पिता की शिक्षा को तुच्छ जानता है,+मगर होशियार इंसान डाँट* को कबूल करता है।+   नेक जन का घर खज़ाने से भरा रहता है,मगर दुष्ट की कमाई उस पर आफत लाती है।+   बुद्धिमान के होंठ ज्ञान फैलाते हैं,+मगर मूर्ख का मन ऐसा करने की नहीं सोचता।+   दुष्ट के बलिदान से यहोवा घिन करता है,+मगर सीधे-सच्चे इंसान की प्रार्थना से वह खुश होता है।+   यहोवा को दुष्ट की चाल से घृणा है,+मगर नेकी का पीछा करनेवाले से वह प्यार करता है।+ 10  सही राह छोड़नेवाले को शिक्षा बुरी* लगती है+और डाँट से नफरत करनेवाला अपनी जान गँवा बैठता है।+ 11  जब कब्र* और विनाश की जगह* यहोवा से नहीं छिपी,+ तो फिर इंसान का दिल उससे कैसे छिपा रह सकता है!+ 12  हँसी उड़ानेवाले को वह इंसान पसंद नहीं जो उसे सुधारता* है,+ वह बुद्धिमान से कोई सलाह नहीं लेता।+ 13  जब दिल खुश हो तो चेहरा खिल उठता है,लेकिन जब मन दुखी हो, तो यह इंसान को अंदर से तोड़ देता है।+ 14  समझ रखनेवाला मन पूरी बात जानने की कोशिश करता है,+मगर मूर्ख अपना मुँह मूर्खता से भरता है।+ 15  दुखी इंसान के लिए सब दिन बुरे होते हैं,+मगर जिसका मन खुश रहता है, उसके लिए तो हर दिन दावत है।+ 16  बहुत दौलत होने और चिंता में डूबे रहने से अच्छा है,+कम में गुज़ारा करना और यहोवा का डर मानना।+ 17  जिस घर में नफरत हो वहाँ दावत* उड़ाने से अच्छा है,उस घर में सादा खाना* खाना जहाँ प्यार हो।+ 18  गरम मिज़ाजवाला झगड़ा बढ़ाता है,+मगर जो क्रोध करने में धीमा है वह झगड़ा शांत करता है।+ 19  आलसी की राह काँटों के बाड़े जैसी होती है,+मगर सीधे लोगों की राह राजमार्ग जैसी होती है।+ 20  बुद्धिमान बेटा अपने पिता को खुश करता है,+मगर मूर्ख अपनी माँ को तुच्छ जानता है।+ 21  जिसमें समझ ही नहीं उसे मूर्खता से खुशी मिलती है,+मगर पैनी समझ रखनेवाला सीधी राह पर बढ़ता जाता है।+ 22  सलाह-मशविरा न करने से योजनाएँ नाकाम हो जाती हैं,लेकिन बहुतों की सलाह से कामयाबी मिलती है।+ 23  सही जवाब देने पर एक इंसान खुश हो जाता है+और सही वक्‍त पर कही गयी बात क्या खूब होती है!+ 24  अंदरूनी समझ रखनेवाले को जीवन की राह ऊपर-ऊपर से ले जाती है,+ताकि वह नीचे कब्र में जाने से बचा रहे।+ 25  यहोवा घमंडी का घर ढा देगा,+मगर विधवा की ज़मीन* की हिफाज़त करेगा।+ 26  दुष्ट की साज़िशों से यहोवा को घिन है,+मगर मनभावनी बातें उसकी नज़रों में शुद्ध हैं।+ 27  बेईमानी से कमानेवाला अपने ही परिवार पर आफत* लाता है,+मगर जिसे घूस लेने से नफरत है वह जीवित रहेगा।+ 28  नेक इंसान जवाब देने से पहले मन में सोचता है,*+मगर दुष्ट अपने मुँह से बुरी-बुरी बातें उगलता है। 29  यहोवा दुष्ट से दूर रहता है,मगर वह नेक जन की प्रार्थना सुनता है।+ 30  आँखों में चमक देखकर दिल झूम उठता हैऔर अच्छी खबर हड्डियों में जान फूँक देती है।+ 31  जो जीवन देनेवाली डाँट सुनता है,उसकी गिनती बुद्धिमानों में होती है।+ 32  जो शिक्षा को ठुकराता है, वह अपने जीवन को तुच्छ समझता है,+लेकिन जो डाँट सुनकर सुधर जाता है, वह समझ हासिल करता है।+ 33  यहोवा का डर मानना, बुद्धि से काम लेना सिखाता है+और नम्र होने पर आदर मिलता है।+

कई फुटनोट

या “चंगा करनेवाली।”
या “सुधार के लिए दी गयी सलाह।”
या “कठोर।”
या “शीओल।” शब्दावली देखें।
या “और अबद्दोन।” शब्दावली देखें।
या “डाँटता।”
शा., “मोटा-ताज़ा बैल।”
शा., “थोड़ी-सी साग-सब्ज़ी।”
शा., “की सीमा।”
या “अपमान।”
या “ध्यान से सोचता है कि किस तरह जवाब दूँ।”