इस जानकारी को छोड़ दें

सैकेंडरी मैन्यू को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

हिंदी

ऑनलाइन बाइबल | मसीही यूनानी शास्त्र पवित्र शास्त्र का नयी दुनिया अनुवाद देखिए

मत्ती 1:1-25

1  इस किताब में यीशु के जीवन का इतिहास है, जो मसीह* है। वह अब्राहम के वंश से, और उसके वंशज दाविद के वंश से था। पेश है यीशु की वंशावली:   अब्राहम से इसहाक पैदा हुआइसहाक से याकूब;याकूब से यहूदा और उसके भाई पैदा हुए;   यहूदा से पेरेस और ज़ेरह पैदा हुए जिनकी माँ तामार थी;पेरेस से हेस्रोन;हेस्रोन से एराम पैदा हुआ;   एराम से अम्मीनादाब पैदा हुआ;अम्मीनादाब से नहशोन;नहशोन से सलमोन पैदा हुआ।   सलमोन से बोअज़ पैदा हुआ, बोअज़ की माँ राहाब थी।बोअज़ से ओबेद पैदा हुआ; ओबेद की माँ रूत थी।ओबेद से यिशै पैदा हुआ।   यिशै से राजा दाविद पैदा हुआ; दाविद से सुलैमान पैदा हुआ। सुलैमान उस स्त्री से पैदा हुआ जो पहले उरिय्याह की पत्नी थी;   सुलैमान से रहूबियाम पैदा हुआ;रहूबियाम से अबिय्याह पैदा हुआ;अबिय्याह से आसा पैदा हुआ;   आसा से यहोशापात पैदा हुआ;यहोशापात से यहोराम पैदा हुआ;यहोराम से उज़िय्याह पैदा हुआ।   उज़िय्याह से योताम पैदा हुआ;योताम से आहाज़ पैदा हुआ;आहाज़ से हिज़किय्याह पैदा हुआ। 10  हिज़किय्याह से मनश्‍शे पैदा हुआ।मनश्‍शे से आमोन पैदा हुआ;आमोन से योशिय्याह पैदा हुआ। 11  योशिय्याह से यकोन्याह और उसके भाई पैदा हुए। उस दौरान, यहूदियों को बंदी बनाकर बैबिलोनिया देश ले जाया गया। 12  बैबिलोनिया देश में यकोन्याह से शालतिएल पैदा हुआ;शालतिएल से ज़रुब्बाबेल पैदा हुआ; 13  ज़रुब्बाबेल से अबीहूद पैदा हुआ;अबीहूद से एल्याकीम पैदा हुआ;एल्याकीम से अज़ोर पैदा हुआ; 14  अज़ोर से सादोक पैदा हुआ;सादोक से अखीम पैदा हुआ;अखीम से एलीहूद पैदा हुआ; 15  एलीहूद से एलियाज़र पैदा हुआ;एलियाज़र से मत्तान पैदा हुआ;मत्तान से याकूब पैदा हुआ; 16  याकूब से यूसुफ पैदा हुआ जो मरियम का पति था। मरियम ने यीशु को जन्म दिया जो मसीह* कहलाता है। 17  अब्राहम से दाविद तक सारी पीढ़ियाँ मिलाकर चौदह पीढ़ियाँ हुईं। दाविद से लेकर यहूदियों को बैबिलोनिया देश ले जाए जाने के वक्‍त तक चौदह पीढ़ियाँ हुईं। बैबिलोनिया देश ले जाए जाने के वक्‍त से मसीह तक चौदह पीढ़ियाँ हुईं। 18  मगर, यीशु मसीह का जन्म इस तरह से हुआ। उसकी माँ मरियम की सगाई यूसुफ से हो चुकी थी। मगर उनकी शादी से पहले जब वह कुँवारी ही थी, तब परमेश्‍वर की पवित्र शक्‍ति* की ताकत से मरियम गर्भवती हुई। 19  उसका पति* यूसुफ एक नेक इंसान था। वह लोगों के सामने मरियम का तमाशा नहीं बनाना चाहता था। इसलिए उसने चुपके से मरियम को तलाक* देने का इरादा किया। 20  जब वह इन बातों के बारे में सोच-विचार करने के बाद सो गया, तो उसे सपने में अचानक यहोवा* का स्वर्गदूत दिखायी दिया। स्वर्गदूत ने उससे कहा: “यूसुफ, दाविद के वंशज, तू मरियम से शादी* करने से मत डर, क्योंकि जो उसके गर्भ में है वह परमेश्‍वर की पवित्र शक्‍ति की ताकत से है। 21  मरियम एक बेटे को जन्म देगी। तू उसका नाम यीशु* रखना, क्योंकि वह अपने लोगों का उनके पापों से उद्धार करेगा।” 22  यह सबकुछ इसलिए हुआ ताकि यहोवा का यह वचन पूरा हो, जो उसने अपने भविष्यवक्‍ता के ज़रिए कहा था: 23  “देखो, कुँवारी गर्भवती होगी और एक बेटे को जन्म देगी। वे उसका नाम इम्मानुएल रखेंगे,” जिसका मतलब है, “परमेश्‍वर हमारे साथ है।” 24  तब यूसुफ नींद से जाग उठा और उसने वैसा ही किया जैसा यहोवा के दूत ने उसे हिदायत दी थी। वह अपनी पत्नी को अपने घर ले आया। 25  मगर जब तक मरियम ने बेटे को जन्म न दिया, तब तक यूसुफ ने उसके साथ संभोग न किया। यूसुफ ने उस बच्चे का नाम यीशु रखा।

कई फुटनोट

मत्ती 1:1 बाइबल के यूनानी पाठ में शब्द ‘मसीह’ (इब्रानी में मसीहा), यीशु के लिए एक उपाधि के तौर पर इस्तेमाल हुआ है और इसका मतलब है, ‘अभिषिक्‍त जन’ यानी परमेश्‍वर का अभिषिक्‍त राजा। यह कोई नाम नहीं है।
मत्ती 1:16 यानी, “परमेश्‍वर का अभिषिक्‍त जन।”
मत्ती 1:18 यूनानी नफ्मा। अतिरिक्‍त लेख 7 देखें।
मत्ती 1:19 यहूदियों के रिवाज़ के मुताबिक मंगेतर को पति कहा जाता था।
मत्ती 1:19 यहूदियों के रिवाज़ के मुताबिक सगाई तोड़ने के लिए तलाकनामा देना ज़रूरी होता था।
मत्ती 1:20 यह उन 237 जगहों में से एक जगह है, जहाँ परमेश्‍वर का नाम, ‘यहोवा’ इस अनुवाद के मुख्य पाठ में पाया जाता है। अतिरिक्‍त लेख 2 देखें।
मत्ती 1:20 शाब्दिक, “तू अपनी पत्नी मरियम को अपने घर लाने से मत डर।”
मत्ती 1:21 इब्रानी भाषा में “येशुआ,” जिसका मतलब है “यहोवा उद्धार करता है।”