इस जानकारी को छोड़ दें

सैकेंडरी मैन्यू को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

हिंदी

ऑनलाइन बाइबल | मसीही यूनानी शास्त्र पवित्र शास्त्र का नयी दुनिया अनुवाद देखिए

फिलिप्पियों 4:1-23

4  इसलिए, मेरे प्यारे भाइयो, तुम जो मेरी खुशी और मेरे ताज हो और जिनसे मिलने के लिए मेरा मन तरस रहा है, तुम प्रभु में इसी तरह मज़बूती से खड़े रहो।  यूओदिया को मैं उकसाता हूँ और सुन्तुखे को भी कि वे प्रभु में एक ही मन रखें।  हाँ, मेरे सच्चे सहकर्मी, मैं तुझसे भी गुज़ारिश करता हूँ कि इन स्त्रियों की मदद करता रह, जिन्होंने खुशखबरी सुनाने में मेरे साथ और क्लेमेंस और मेरे बाकी सहकर्मियों के साथ जिनके नाम जीवन की किताब में हैं, कंधे-से-कंधा मिलाकर कड़ी मेहनत की है।  प्रभु में हमेशा खुश रहो। मैं एक बार फिर कहता हूँ, खुश रहो!  सब लोग यह जान जाएँ कि तुम लिहाज़ करनेवाले इंसान हो। प्रभु पास है।  किसी भी बात को लेकर चिंता मत करो, मगर हर बात में प्रार्थना और मिन्‍नतों और धन्यवाद के साथ अपनी बिनतियाँ परमेश्‍वर को बताते रहो।  और परमेश्‍वर की वह शांति जो हमारी समझने की शक्‍ति से कहीं ऊपर है, मसीह यीशु के ज़रिए तुम्हारे दिल के साथ-साथ तुम्हारे दिमाग की सोचने-समझने की ताकत की हिफाज़त करेगी।  आखिर में भाइयो, जो बातें सच्ची हैं, जो बातें गंभीर सोच-विचार के लायक हैं, जो बातें नेकी की हैं, जो बातें पवित्र और साफ-सुथरी हैं, जो बातें चाहने लायक हैं, जो बातें अच्छी मानी जाती हैं, जो सद्‌गुण हैं और जो बातें तारीफ के लायक हैं, लगातार उन्हीं पर ध्यान देते रहो।  जो बातें तुमने मुझसे सीखीं और स्वीकार कीं, साथ ही मुझसे सुनीं और मुझ में देखीं, उनका पालन करते रहो; और शांति का परमेश्‍वर तुम्हारे साथ रहेगा। 10  मैं प्रभु में बहुत खुश हूँ कि अब फिर से तुम मेरे भले के बारे में सोचने लगे हो। तुम पहले भी मेरे भले की चिंता करते थे, मगर तुम्हें यह दिखाने का मौका नहीं मिला था। 11  मैं यह इसलिए नहीं कह रहा क्योंकि मैं तंगी में हूँ, इसलिए कि मैं चाहे जैसे भी हाल में रहूँ उसी में संतोष करना मैंने सीख लिया है। 12  मैं जानता हूँ कि कम चीज़ों में गुज़ारा करना कैसा होता है, और यह भी जानता हूँ कि भरपूरी में जीना कैसा होता है। मैंने हर बात में और हर तरह के हालात में यह राज़ सीख लिया है कि भरपेट होना कैसा होता है और भूखे पेट होना कैसा होता है, भरा-पूरा होना कैसा होता है और तंगी झेलना कैसा होता है। 13  इसलिए कि जो मुझे ताकत देता है, उसी से मुझे सब बातों के लिए शक्‍ति मिलती है। 14  फिर भी, तुमने यह अच्छा काम किया कि मेरे दुःखों में मेरे साथ हिस्सेदार हुए। 15  फिलिप्पी के भाइयो, तुम असल में यह भी जानते हो कि जब मैंने खुशखबरी सुनानी शुरू की और मकिदुनिया से रवाना हुआ, तो सिर्फ तुम्हें छोड़ किसी भी मंडली ने न तो मेरी मदद की, और न मुझसे मदद ली, 16  क्योंकि थिस्सलुनीके में भी तुमने मेरी ज़रूरत को पूरा करने के लिए मुझे एक बार नहीं बल्कि दो बार कुछ भेजा था। 17  ऐसा नहीं है कि मैं तुमसे तोहफा पाने की कोशिश में लगा हूँ, बल्कि मैं वह फल पाने की कोशिश में जी-जान से लगा हूँ, जो तुम्हारे खाते में और अच्छाई जोड़ देगा। 18  मगर, मेरे पास सबकुछ है और भरपूर है। इपफ्रुदीतुस के हाथों तुम्हारी भेजी हुई चीज़ें पाकर मैं तृप्त हो गया हूँ। यह तोहफा परमेश्‍वर को भानेवाला ऐसा खुशबूदार बलिदान है जिससे वह बेहद खुश होता है। 19  इसके बदले में, मेरा परमेश्‍वर अपनी आशीषों की बेशुमार दौलत से तुम्हारी हर ज़रूरत को मसीह यीशु के ज़रिए पूरा करेगा। 20  हमारे परमेश्‍वर और पिता की महिमा हमेशा-हमेशा होती रहे। आमीन। 21  हर एक पवित्र जन को जो मसीह यीशु के साथ एकता में है, मेरा नमस्कार कहना। जो भाई मेरे साथ हैं वे तुम्हें नमस्कार कहते हैं। 22  सभी पवित्र जन, खासकर जो सम्राट* के घराने के हैं, तुम्हें नमस्कार कहते हैं। 23  हमारे प्रभु यीशु मसीह की महा-कृपा तुम्हारी उस भावना के साथ हो जो तुम दिखाते हो।

कई फुटनोट

फिलि 4:22 यूनानी में, “कैसर।”