इस जानकारी को छोड़ दें

सैकेंडरी मैन्यू को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

हिंदी

प्रहरीदुर्ग—अध्ययन संस्करण  |  दिसंबर 2015

परमेश्वर के वचन का जीता-जागता अनुवाद

परमेश्वर के वचन का जीता-जागता अनुवाद

“परमेश्वर का वचन जीवित है।”इब्रा. 4:12.

गीत: 37, 43

1. (क) यहोवा ने आदम को क्या ज़िम्मेदारी सौंपी थी? (ख) तब से परमेश्वर के लोग भाषा का कैसे इस्तेमाल कर रहे हैं?

यहोवा परमेश्वर ने इंसानों को भाषा के रूप में एक खूबसूरत तोहफा दिया है। इसी तोहफे से जुड़ी परमेश्वर ने आदम को एक ज़िम्मेदारी सौंपी थी। उसे सभी जानवरों के नाम रखने थे। आदम ने हर जानवर का ऐसा नाम रखा, जिसका कोई मतलब था। (उत्प. 2:19, 20) तब से परमेश्वर के लोग, यहोवा की महिमा करने और दूसरों को उसके बारे में बताने के लिए भाषा का इस्तेमाल करते आ रहे हैं। कुछ सालों से परमेश्वर के लोग इस तोहफे का इस्तेमाल करके बाइबल का अनुवाद कर रहे हैं, ताकि ज़्यादा-से-ज़्यादा लोग यहोवा के बारे में सीख सकें।

2. (क) नयी दुनिया बाइबल अनुवाद समिति ने किन सिद्धांतों को लागू करने का फैसला किया था? (ख) हम इस लेख में क्या सीखेंगे?

2 बाइबल के हज़ारों अनुवाद हैं, लेकिन कुछ अनुवाद दूसरे अनुवादों के मुकाबले ज़्यादा सही हैं। बाइबल का सही-सही अनुवाद करने के लिए, नयी दुनिया बाइबल अनुवाद समिति ने आगे दिए 3 सिद्धांतों को लागू करने का फैसला किया। (1) परमेश्वर के वचन में उसका नाम उन सभी जगहों पर डालना, जहाँ-जहाँ यह सबसे पुराने शास्त्र में आया है। और इस तरह उसके नाम का आदर करना। (मत्ती 6:9 पढ़िए।) (2) जहाँ मुमकिन हो, वहाँ मूल पाठ में जो कहा गया है, उसका शब्द-ब-शब्द अनुवाद करना। और जहाँ मुमकिन न हो, वहाँ उसका सही-सही मतलब  अनुवाद करना। (3) ऐसी भाषा इस्तेमाल करना जो पढ़ने और समझने में आसान हो। * (फुटनोट देखिए।) (नहेमायाह 8:8, 12 पढ़िए।) इन 3 सिद्धांतों को 130 से भी ज़्यादा भाषाओं में लागू किया गया है। इस लेख में हम सीखेंगे कि ये सिद्धांत कैसे 2013 में अँग्रेज़ी में निकाली गयी नयी दुनिया अनुवाद बाइबल पर भी लागू होते हैं और कैसे दूसरी भाषाओं के अनुवादक भी इन्हें लागू करते हैं।

परमेश्वर के नाम का आदर करना

3, 4. (क) परमेश्वर के नाम के चार इब्रानी अक्षर कहाँ पाए जाते हैं? (ख) बाइबल के बहुत-से अनुवादों में परमेश्वर के नाम के साथ क्या किया गया?

3 परमेश्वर का नाम इब्रानी भाषा के चार अक्षरों में लिखा गया है। ये चार अक्षर कई पुरानी इब्रानी हस्तलिपियों में पाए जाते हैं, जैसे मृत सागर के पास मिले खर्रों में। हमें ये चार अक्षर यूनानी सेप्टुआजेंट की कुछ कॉपियों में भी मिलते हैं। इनमें से कुछ कॉपियाँ मसीह से 200 साल पहले की हैं और कुछ उसके 100 साल बाद की हैं। कई लोग यह देखकर हैरान रह जाते हैं कि परमेश्वर का नाम पुरानी हस्तलिपियों में कितनी बार आया है।

4 इससे साफ पता चलता है कि बाइबल में परमेश्वर का नाम ज़रूर होना चाहिए। फिर भी कई अनुवादों में परमेश्वर का नाम नहीं है। उदाहरण के लिए, अँग्रेज़ी में मसीही यूनानी शास्त्र का नयी दुनिया अनुवाद निकाले जाने के दो साल बाद ही यानी सन्‌ 1952 में अमेरिकन स्टैंडर्ड वर्शन बाइबल में भी कुछ बदलाव करके उसे निकाला गया। बदलाव करने से पहले इस बाइबल में परमेश्वर का नाम था। यह बाइबल 1901 में निकाली गयी थी, लेकिन 1952 में दोबारा निकाली गयी इस बाइबल में से यह नाम हटा दिया गया। ऐसा क्यों? क्योंकि अमेरिकन स्टैंडर्ड वर्शन के अनुवादकों को परमेश्वर का नाम इस्तेमाल करना “बिलकुल सही नहीं लगा।” इसके बाद जितने भी अनुवाद किए गए उन सभी में ऐसा ही किया गया, फिर चाहे अँग्रेज़ी में हों या दूसरी भाषाओं में।

5. बाइबल में परमेश्वर का नाम इस्तेमाल करना क्यों ज़रूरी है?

5 क्या यह बात मायने रखती है कि अनुवादक बाइबल के अनुवाद में परमेश्वर का नाम इस्तेमाल करते हैं या नहीं? हाँ, मायने रखती है! क्योंकि बाइबल को लिखवानेवाला यहोवा चाहता है कि लोग उसका नाम जानें। एक अच्छे अनुवादक को पता होना चाहिए कि लेखक उससे क्या चाहता है और उस आधार पर उसे अनुवाद करना चाहिए। बहुत-सी आयतों में बताया गया है कि परमेश्वर का नाम बहुत अहमियत रखता है और उसका आदर किया जाना चाहिए। (निर्ग. 3:15; भज. 83:18; 148:13; यशा. 42:8; 43:10; यूह. 17:6, 26; प्रेषि. 15:14) और यहोवा ने बाइबल लिखनेवालों को प्रेरित किया कि वे उसका नाम हज़ारों बार इस्तेमाल करें। (यहेजकेल 38:23 पढ़िए।) इसलिए जब अनुवादक बाइबल से परमेश्वर का नाम निकाल देते हैं, तो वे यहोवा का अनादर कर रहे होते हैं।

6. सन्‌ 2013 में अँग्रेज़ी में निकाली गयी नयी दुनिया अनुवाद बाइबल में परमेश्वर का नाम और 6 बार क्यों आता है?

6 आज इस बात के और भी कई सबूत हैं कि हमें परमेश्वर का नाम इस्तेमाल करना चाहिए। सन्‌ 2013 में अँग्रेज़ी में निकाली गयी नयी दुनिया अनुवाद बाइबल में परमेश्वर का नाम 7,216 बार आता है। इससे पहले निकाली गयी बाइबल के मुकाबले इसमें परमेश्वर का नाम 6 बार ज़्यादा आया है। उनमें से पाँच आयतों में यह नाम इसलिए जोड़ा गया, क्योंकि हाल ही में मृत सागर के पास मिले खर्रों में परमेश्वर का नाम पाया गया है। * (फुटनोट देखिए।) ये पाँच आयतें हैं 1 शमूएल 2:25; 6:3; 10:26; 23:14, 16. साथ ही, भरोसेमंद पुरानी हस्तलिपियों का अच्छी तरह अध्ययन करने पर इस नाम को न्यायियों 19:18 में भी जोड़ा गया है।

7, 8. यहोवा के नाम का क्या मतलब है?

 7 सच्चे मसीही इस बात को समझते हैं कि परमेश्वर के नाम का मतलब पूरी तरह समझना कितना ज़रूरी है। उसके नाम का मतलब है, “वह बनने का कारण होता है।” * (फुटनोट देखिए।) पहले हमारी किताबों-पत्रिकाओं में परमेश्वर के नाम का मतलब समझाने के लिए निर्गमन 3:14 इस्तेमाल किया जाता था, जहाँ लिखा है, “मैं जो हूँ सो हूँ।” सन्‌ 1984 के बाइबल अनुवाद में समझाया गया था कि यहोवा अपने वादे को पूरा करने के लिए खुद वह बन जाता है, जो वह बनना चाहता है। * (फुटनोट देखिए।) लेकिन 2013 में अँग्रेज़ी में निकाली गयी नयी दुनिया अनुवाद बाइबल में समझाया गया है, “हालाँकि यहोवा के नाम में यह मतलब शामिल हो सकता है, लेकिन उसके नाम का मतलब सिर्फ यहीं तक सीमित नहीं है कि वह जो बनना चाहता है, वह खुद बन जाता है। इसमें यह भी शामिल है कि अपनी सृष्टि के सिलसिले में और अपने मकसद को पूरा करने के सिलसिले में जो ज़रूरी है, वह उसे करवाता है।”

8 यहोवा अपनी सृष्टि को वह बनाता है, जो वह चाहता है। उदाहरण के लिए, परमेश्वर ने नूह को जहाज़ बनानेवाला बनाया, बसलेल को ऊँचे दर्ज़े का कारीगर बनाया, गिदोन को एक बड़ा योद्धा बनाया और पौलुस को एक मिशनरी बनाया। परमेश्वर के लोगों के लिए उसका नाम बहुत मतलब रखता है। और इसलिए नयी दुनिया बाइबल अनुवाद समिति ने इस अनुवाद में परमेश्वर का नाम डाला है।

9. दूसरी भाषाओं में बाइबल का अनुवाद करने पर क्यों इतना ज़ोर दिया गया है?

9 आजकल बाइबल के ज़्यादातर अनुवादों में परमेश्वर का नाम नहीं डाला जाता। इसके बजाय, “प्रभु” या किसी देवता का नाम डाला जाता है। खासकर इसी वजह से शासी निकाय ने इस बात को ज़रूरी समझा कि सभी भाषाओं के लोगों के पास ऐसी बाइबल हो जिससे परमेश्वर के नाम का आदर हो। (मलाकी 3:16 पढ़िए।) अब तक, नयी दुनिया अनुवाद बाइबल का 130 से ज़्यादा भाषाओं में अनुवाद किया जा चुका है और सभी में यहोवा का नाम डाला गया है और इस तरह परमेश्वर के नाम का आदर किया गया है।

बाइबल का ऐसा अनुवाद जो एकदम सही और साफ-साफ हो

10, 11. नयी दुनिया अनुवाद बाइबल का दूसरी भाषाओं में अनुवाद करते वक्‍त क्या-क्या मुश्किलें आयीं?

10 अँग्रेज़ी की नयी दुनिया अनुवाद बाइबल का दूसरी भाषाओं में अनुवाद करते वक्‍त कई मुश्किलें भी आयीं। उदाहरण के लिए, अँग्रेज़ी बाइबल में सभोपदेशक 9:10 और दूसरी आयतों में भी इब्रानी शब्द “शीओल” का इस्तेमाल किया गया है। यह शब्द अँग्रेज़ी भाषा के दूसरे कई बाइबल अनुवादों में भी पाया जाता है। लेकिन कई भाषाओं में शब्द “शीओल” इस्तेमाल नहीं किया गया, क्योंकि उन भाषाओं को जाननेवाले लोग “शीओल” शब्द नहीं जानते। यह शब्द उन भाषाओं के शब्दकोश में भी नहीं है। और कुछ लोगों को तो लगा कि यह किसी जगह का नाम है। इन सभी वजह से अनुवादकों को इब्रानी शब्द “शीओल” और यूनानी शब्द “हेडिज़” की जगह शब्द “कब्र” अनुवाद करने की मंज़ूरी दी गयी। यह एक सही अनुवाद है और इससे आयतें और साफ समझ में आती हैं।

11 जिन इब्रानी और यूनानी शब्दों का अनुवाद अकसर प्राण किया जाता है, उनके लिए हर जगह एक ही शब्द रखना कई भाषाओं में मुश्किल है। क्यों? क्योंकि इनके लिए जो शब्द हैं, उनसे लोग सोच सकते हैं कि यह इंसान के अंदर की अमर आत्मा है या इससे लोगों के मन में भूत-प्रेत का खयाल आ सकता है। यह गलतफहमी न हो, इसके लिए बाइबल के अनुवादकों को आस-पास की आयतों के आधार पर इन शब्दों के जो अलग-अलग मतलब निकलते हैं, उनके मुताबिक अनुवाद करने की मंज़ूरी दी गयी। इन इब्रानी और यूनानी शब्दों के जो अलग-अलग मतलब हो सकते हैं, वे न्यू वर्ल्ड ट्रांस्लेशन ऑफ द होली  स्क्रिप्चर्स—विद रेफ्रेंसेज़ के अतिरिक्‍त लेख में पहले से ही समझाए गए हैं। सन्‌ 2013 में निकाली गयी अँग्रेज़ी बाइबल में इस बात पर खास ज़ोर दिया गया है कि बाइबल पढ़ते वक्‍त लोगों को वह आसानी से समझ में आए। साथ ही, इब्रानी और यूनानी शब्दों के बारे में ज़्यादा जानकारी फुटनोट में दी गयी है।

12. 2013 की अँग्रेज़ी बाइबल में कौन-से कुछ सुधार किए गए? (इस अंक में दिया लेख, “अँग्रेज़ी में 2013 की नयी दुनिया अनुवाद बाइबल” भी देखिए।)

12 अलग-अलग भाषाओं में बाइबल का अनुवाद करनेवाले जो सवाल भेजते हैं, उनसे यह बात समझ में आयी कि कुछ और गलतफहमियाँ भी हो सकती हैं। इसलिए सितंबर 2007 में, शासी निकाय ने अँग्रेज़ी बाइबल में कुछ सुधार करने की मंज़ूरी दी। ये सुधार करने के दौरान, समिति ने बाइबल अनुवादकों से मिले हज़ारों सवालों पर गौर किया। जो अँग्रेज़ी शब्द बहुत पुराने थे, उनकी जगह आज के ज़माने के शब्द डाले गए हैं, जिससे बाइबल को पढ़ना और समझना आसान हो गया है। लेकिन इस दौरान ध्यान रखा गया है कि बाइबल का सही-सही अनुवाद किया जाए। बाइबल का अनुवाद जिन दूसरी भाषाओं में किया जा चुका है, उसकी मदद से भी अँग्रेज़ी बाइबल में सुधार करने में मदद मिली है।नीति. 27:17.

कदरदानी-भरे शब्द

13. कई भाई-बहन 2013 में निकाली गयी बाइबल के बारे में कैसा महसूस करते हैं?

13 अँग्रेज़ी की नयी दुनिया अनुवाद बाइबल में किए गए सुधार के बाद कई लोगों का क्या कहना है? भाई-बहनों ने ब्रुकलिन में यहोवा के साक्षियों के मुख्यालय को बहुत-से खत भेजे। इन खतों में उन्होंने अपनी कदरदानी दिखायी। कई भाई-बहन इस बहन के जैसा महसूस करते हैं, जिसने लिखा, ‘बाइबल एक ऐसा संदूक है जो बेशकीमती जवाहरात से भरा हुआ है। जब हम 2013 में निकाली गयी बाइबल से यहोवा के शब्द पढ़ते हैं, जिनका मतलब एकदम साफ है, तो यह ऐसा है मानो हम एक-एक जवाहरात परख रहे हों। उसके हर पहलू को निहार रहे हों और देख रहे हों कि वह कितना साफ है, कितना रंगीन है और कितना खूबसूरत है! यह बाइबल आसान भाषा में होने से मुझे यहोवा को और अच्छी तरह जानने में मदद मिली है। वह ऐसा पिता है, जो मानो मुझे अपनी बाँहों में भरकर प्यार-भरी बातें पढ़कर सुना रहा हो।’

14, 15. जब लोगों को अपनी भाषा में नयी दुनिया अनुवाद बाइबल मिली, तो उन्हें कैसा लगा?

14 जो लोग अँग्रेज़ी के बजाय कोई और भाषा बोलते हैं, वे भी अपनी भाषा में मिली नयी दुनिया अनुवाद बाइबल के लिए बहुत शुक्रगुज़ार हैं। बल्गारिया देश के सोफिया शहर  के एक बुज़ुर्ग आदमी ने अपनी भाषा में यह बाइबल पाकर कहा, “मैं कई सालों से बाइबल पढ़ता आया हूँ, लेकिन मैंने ऐसा अनुवाद कभी नहीं पढ़ा जो समझने में आसान हो और जो दिल छू ले।” उसी तरह अल्बेनिया देश की एक बहन लिखती है, “अल्बेनियन भाषा में परमेश्वर का वचन पढ़कर बहुत अच्छा लगता है! यह हमारे लिए कितने बड़े सम्मान की बात है कि यहोवा हमसे हमारी भाषा में बात करता है!”

15 कई देशों में, बाइबल बहुत महँगी है या इतनी आसानी से नहीं मिलती। वहाँ एक बाइबल मिलना अपने आप में एक बहुत बड़ी आशीष है! रवांडा की एक रिपोर्ट में बताया गया है, “बहुत समय से हमारे भाई कुछ लोगों के साथ बाइबल अध्ययन कर रहे थे। उन्होंने सच्चाई के लिए कोई कदम नहीं उठाया था, क्योंकि उनके पास कोई बाइबल ही नहीं थी और न ही उनके पास इतने पैसे थे कि वे चर्च से बाइबल खरीद सकें। वे अकसर कुछ आयतों के मतलब साफ नहीं समझ पाते थे, जिस वजह से वे कोई कदम नहीं उठा पा रहे थे।” रवांडा के एक परिवार में चार नौजवान बच्चे हैं। उस परिवार को जब अपनी भाषा में नयी दुनिया अनुवाद बाइबल मिली, तो उस परिवार ने कहा, “यह बाइबल देने के लिए हम यहोवा को और विश्वासयोग्य और सूझ-बूझ से काम लेनेवाले दास को दिल से धन्यवाद देते हैं। हम बहुत गरीब हैं और हमारे पास परिवार के हर सदस्य के लिए बाइबल खरीदने के लिए पैसे नहीं हैं। लेकिन अब हममें से हरेक के पास अपनी खुद की बाइबल है। यहोवा को अपनी कदरदानी ज़ाहिर करने के लिए हम हर दिन साथ मिलकर बाइबल पढ़ते हैं।”

16, 17. (क) यहोवा अपने लोगों के लिए क्या चाहता है? (ख) हमें क्या करने की ठान लेनी चाहिए?

16 2013 में निकाली गयी नयी दुनिया अनुवाद बाइबल आगे चलकर और भी भाषाओं में मिलेगी। शैतान, बाइबल के अनुवाद काम को रोकने की कोशिश कर रहा है। लेकिन हम जानते हैं कि यहोवा चाहता है कि वह जिस तरह साफ और आसान भाषा में बात करता है, उसे उसके सभी लोग सुनें। (यशायाह 30:21 पढ़िए।) बहुत जल्द, “पृथ्वी यहोवा के ज्ञान से ऐसी भर जाएगी जैसा जल समुद्र में भरा रहता है।”यशा. 11:9.

17 आइए हम ठान लें कि हम यहोवा से मिले हर तोहफे का पूरा-पूरा फायदा उठाएँगे। इन तोहफों में नयी दुनिया अनुवाद बाइबल भी शामिल है, जिससे उसके नाम की महिमा होती है। हर दिन यहोवा को अपने वचन बाइबल के ज़रिए आपसे बात करने का मौका दीजिए। और आप भी उससे बात कीजिए, वह आपकी सारी प्रार्थनाएँ बड़े ध्यान से सुनने के काबिल है। ऐसी बातचीत से हम यहोवा को और भी अच्छी तरह जान पाएँगे और उसके लिए हमारा प्यार बढ़ता जाएगा।यूह. 17:3.

“यह हमारे लिए कितने बड़े सम्मान की बात है कि यहोवा हमसे हमारी भाषा में बात करता है!”

^ पैरा. 2 फुटनोट: अँग्रेज़ी की नयी दुनिया अनुवाद बाइबल में दिया अतिरिक्‍त लेख ए1 और 1 मई, 2008 की प्रहरीदुर्ग (अँग्रेज़ी) में दिया लेख “आप बाइबल का एक अच्छा अनुवाद कैसे चुन सकते हैं?” देखिए।

^ पैरा. 6 फुटनोट: मृत सागर के पास मिले खर्रे, इब्रानी मसोरा पाठ (यानी ‘इब्रानी शास्त्र की पुरानी हस्तलिपियाँ’) से 1,000 साल से भी ज़्यादा पुराने हैं। मसोरा पाठ से ही नयी दुनिया अनुवाद बाइबल का अनुवाद किया गया।

^ पैरा. 7 फुटनोट: कुछ किताबों में यह समझाया गया है, लेकिन सभी विद्वान यह नहीं मानते।

^ पैरा. 7 फुटनोट: न्यू वर्ल्ड ट्रांस्लेशन ऑफ द होली स्क्रिप्चर्स—विद रेफ्रेंसेज़ का अतिरिक्‍त लेख 1ए “इब्रानी शास्त्र में परमेश्वर का नाम” का पेज 1561 देखिए।