इस जानकारी को छोड़ दें

सैकेंडरी मैन्यू को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

हिंदी

सजग होइए‍!  |  अंक 5 2017

जानिए कि कैसे ऊर्जा बचाएँ

जानिए कि कैसे ऊर्जा बचाएँ

इंसान आज काफी हद तक ऊर्जा पर निर्भर है। ए.सी. या हीटर चलाना हो या गाड़ियाँ या फिर घर के ढेरों काम करना, बिना ऊर्जा के कुछ भी मुमकिन नहीं। लेकिन आज पूरी दुनिया में लोगों को ऊर्जा को लेकर मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।

दक्षिण अफ्रीका में रहनेवाले गैरी के लिए ईंधन की बढ़ती कीमत बड़ी समस्या बन गयी है। फिलीपींस की रहनेवाली जेनिफर बिजली की समस्या से परेशान है। वह कहती है, ‘जब देखो तब बिजली गुल हो जाती है।’ एल साल्वाडोर का रहनेवाला फर्नान्डो इस बात से चिंतित है कि जिस तरह दुनिया के कई हिस्सों में ऊर्जा तैयार की जाती है, उससे वातावरण में प्रदूषण फैल रहा है।

ऐसे में शायद आप सोचें, “ऊर्जा से जुड़ी ये समस्याएँ कम करने के लिए भला मैं क्या कर सकता हूँ?”

हम सब ऊर्जा का समझदारी से इस्तेमाल तो कर ही सकते हैं। ऊर्जा की बचत करने और समझदारी से इस्तेमाल करने से काफी फायदा होता है। इससे पैसा भी बचता है और वातावरण भी काफी हद तक अच्छा रहता है, क्योंकि कम खपत करने से ऊर्जा की माँग भी कम हो जाती है।

आइए ऐसे तीन पहलुओं पर ध्यान दें, जिनमें हम ऊर्जा का समझदारी से इस्तेमाल कर सकते हैं। वे हैं: घर, यातायात के साधन और रोज़मर्रा के काम।

घर

ए.सी. और हीटर का सोच-समझकर इस्तेमाल करें। ग्रेट ब्रिटेन में एक सर्वे लिया गया, जिसमें ऊर्जा की खपत कम करने के अलग-अलग तरीके अपनाए गए। इनमें से एक तरीका था, सर्दियों में हीटर का तापमान दो डिग्री कम करना। एक साल बाद देखा गया कि इस तरीके से बाकी तरीकों के मुकाबले ऊर्जा की सबसे कम खपत हुई। कनाडा में रहनेवाला डेरिक इस बात से सहमत है। वह अपने परिवार के बारे में कहता है, “सर्दियों में हीटर का तापमान बढ़ाने के बजाय हम स्वेटर पहनकर ऊर्जा बचाते हैं।”

यही बात गरमियों में ए.सी. के मामले में लागू होती है। फिलीपींस का रहनेवाला रोडॉल्फो ए.सी. का तापमान काफी सोच-समझकर तय करता है। वह कहता है “इससे हम पैसे के साथ-साथ ऊर्जा की भी बचत करते हैं।”

ए.सी. या हीटर चलाते वक्‍त खिड़की-दरवाज़े बंद रखें। * खिड़की-दरवाज़े बंद रखने से ठंडी या गरम हवा बाहर नहीं जाती। इस तरह हम ऊर्जा की काफी बचत कर सकते हैं। वहीं अगर दरवाज़ा खुला छोड़ दिया जाए, तो कमरे का तापमान बनाए रखने के लिए बहुत ज़्यादा ऊर्जा की खपत होती है।

इतना ही नहीं, कुछ लोगों ने तो ऐसी खिड़कियाँ लगवायी हैं, जिनसे हवा बिलकुल बाहर न जा सके। ऊर्जा की खपत कम करने के लिए कई लोगों ने यह तरीका अपनाया है।

कम ऊर्जा की खपत वाले बल्ब या ट्यूबलाइट लगाएँ। जेनिफर कहती है, ‘पुराने बल्ब निकालकर हमने कम ऊर्जा की खपत वाले बल्ब लगाए हैं। इनकी कीमत थोड़ी ज़्यादा है, लेकिन ऊर्जा की खपत कम  होने की वजह से वक्‍त के चलते आपका काफी पैसा बच जाता है।’

यातायात

हो सके तो बस या ट्रेन वगैरह से सफर कीजिए। ग्रेट ब्रिटेन का रहनेवाला ऐन्ड्रू कहता है, “जब भी मुमकिन होता है, मैं ट्रेन या साइकिल से काम पर जाता हूँ।” ऊर्जा पर अँग्रेज़ी में लिखी एक किताब में बताया गया है, “एक यात्री के लिए बस या लोकल ट्रेन में जितनी ऊर्जा की खपत होती है, कार या मोटरसाइकिल जैसी छोटी गाड़ियों में उससे करीब तीन गुना ज़्यादा ऊर्जा की खपत होती है।”

घर से निकलने से पहले योजना बनाइए। सोच-समझकर योजना बनाने से आपको बार-बार चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। इससे ऊर्जा की बचत तो होती है, साथ ही वक्‍त और पैसा भी बचता है।

फिलीपींस का रहनेवाला जेथ्रो हर महीने अपनी कार में ईंधन डलवाने के लिए कुछ पैसे अलग रखता है। वह कहता है, “इस वजह से मैं कहीं भी आने-जाने से पहले अच्छी योजना बना पाता हूँ।”

रोज़मर्रा के काम

गरम पानी कम इस्तेमाल करें। एक सर्वे के मुताबिक ऑस्ट्रेलिया में घरों में कुल जितनी ऊर्जा इस्तेमाल होती है, उसका एक-चौथाई से ज़्यादा भाग लोग पानी गरम करने में लगा देते हैं। यह ऑस्ट्रेलिया के शहरों में खपत होनेवाली कुल ऊर्जा का 1.3 प्रतिशत है।

पानी गरम करने में बहुत ऊर्जा खपत होती है, इसलिए गरम पानी कम इस्तेमाल करने से काफी ऊर्जा बचायी जा सकती है। दक्षिण अफ्रीका का रहनेवाला विक्टर कहता है, “हमारी कोशिश रहती है कि हम नहाते वक्‍त गरम पानी ज़्यादा इस्तेमाल न करें।” वैज्ञानिक स्टीवन केनवे का कहना है, ‘गरम पानी बचाने के फायदे ही फायदे हैं। ऊर्जा और पानी की खपत कम हो जाती है, पानी और ऊर्जा देनेवाली कंपनियों पर इन चीज़ों की माँग का ज़्यादा दबाव नहीं रहता और लोगों का पैसा भी बचता है।’

उपकरण बंद कर दीजिए। कई बार हम ट्यूब लाइट, टीवी-कंप्यूटर और घर में इस्तेमाल होनेवाले दूसरे उपकरण चला नहीं रहे होते हैं, फिर भी इनमें ऊर्जा की खपत होती है। वह इसलिए कि हम इन्हें पूरी तरह बंद नहीं करते। कुछ जानकार कहते हैं कि जब इनका इस्तेमाल न हो रहा हो, तब इनका प्लग निकाल देना चाहिए या फिर ऐसे एक्स्टेंशन बोर्ड इस्तेमाल करने चाहिए, जिनका स्विच बंद कर देने से उपकरण पूरी तरह बंद हो जाते हैं। इससे बिजली की और भी बचत होती है। फर्नान्डो ने ऐसा करने की आदत डाल ली है। वह कहता है, “जब ज़रूरत न हो, तो मैं लाइट बंद कर देता हूँ और जब कोई उपकरण इस्तेमाल नहीं करता, तो उसका प्लग निकाल देता हूँ।”

भले ही ऊर्जा की कीमत कम करना और इसे पैदा करने से वातावरण में जो प्रदूषण होता है, उसे रोकना आपके बस में न हो, लेकिन आप ऊर्जा का समझदारी से इस्तेमाल तो कर ही सकते हैं। आज पूरी दुनिया में लोग ऐसा करने के तरीके ढूँढ़ रहे हैं। माना कि ऊर्जा बचाने के लिए काफी सोचना पड़ता है और चौकस रहना पड़ता है, पर इसके ढेरों फायदे हैं। मेक्सिको की रहनेवाली वलेरीया के शब्दों में कहें तो, इससे हम ‘पैसा भी बचाते हैं और वातावरण भी अच्छा रख पाते हैं।’

^ पैरा. 10 ए.सी. और हीटर जैसे उपकरण अच्छी तरह चलाने के लिए उनकी कंपनी की हिदायतों पर ध्यान दीजिए। उदाहरण के लिए, कुछ उपकरण चलाते वक्‍त ताज़ी हवा अंदर आने और दूषित हवा बाहर जाने के लिए खास निर्देश होते हैं, जिसके लिए खिड़की या दरवाज़ा खुला रखना होता है।