इस जानकारी को छोड़ दें

सैकेंडरी मैन्यू को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

हिंदी

सजग होइए‍!  |  अंक 2 2017

टोलेडो शहर में स्पेन के इतिहास और संस्कृति की खूबसूरत झलक मिलती है। सन्‌ 1986 में इसे विश्व-धरोहर का दर्जा दिया गया था। दूर-दूर से सैलानी यहाँ घूमने आते हैं

 देश और लोग

आओ चलें स्पेन!

आओ चलें स्पेन!

स्पेन में तरह-तरह के नज़ारे देखने को मिलते हैं। हर कहीं जैतून के पेड़, अंगूर की बेलें और गेहूँ के लहलहाते खेत नज़र आते हैं। यहाँ अलग-अलग संस्कृति के लोग रहते हैं। स्पेन के दक्षिणी इलाके से कोई 14 किलोमीटर दूर अफ्रीका महाद्वीप है। बीच में पानी है।

सदियों पहले यूरोप के इस दक्षिण-पश्‍चिमी इलाके में कई जगहों से लोग आकर बस गए थे, जैसे फीनीके, यूनान और उत्तर अफ्रीका के कार्थेज शहर से। फिर ईसा पूर्व तीसरी सदी में रोम ने यहाँ कब्ज़ा कर लिया और इसका नाम हिस्पैनिया रखा। बाद में विज़िगॉथ और मूर जाति के लोगों ने इस पर अपना कब्ज़ा जमा लिया। इन सबकी संस्कृति का स्पेन के लोगों पर बहुत असर पड़ा।

हाल ही में एक साल के अंदर करीब 6 करोड़ 80 लाख लोग स्पेन घूमने आए। ज़्यादातर लोग यहाँ के सुनहरे तटों पर घूमने,  खिली धूप का मज़ा लेने और यहाँ की कला, ऐतिहासिक धरोहर और खूबसूरत प्राचीन इमारतें देखने आते हैं। यहाँ का लज़ीज़ खाना भी लोगों का मन मोह लेता है। आम तौर पर यहाँ के खाने में मछली वगैरह, हैम, पौष्टिक स्ट्यू, सलाद और जैतून के तेल में बनी सब्ज़ियाँ होती हैं। यहाँ का ऑमलेट, पाएय्या (एक तरह की बिरयानी) और टापस पूरी दुनिया में मशहूर हैं।

मैरिस्कादा, यहाँ का जाना-माना व्यंजन (सीफूड)

फ्लेमेंको नृत्य

स्पेन के लोग काफी मिलनसार होते हैं। यहाँ के ज़्यादातर लोग रोमन कैथोलिक धर्म के माननेवाले हैं, लेकिन बहुत कम लोग चर्च जाते हैं। हाल ही में अफ्रीका, एशिया और लैटिन अमरीका से आकर लोग यहाँ बस गए हैं। इनमें से बहुत-से लोगों को अपने धर्म और संस्कृति के बारे में बातचीत करना पसंद है। इस वजह से यहाँ के यहोवा के साक्षियों की इनसे अच्छी बातचीत हुई है और उन्होंने इन लोगों को बाइबल से कई विषयों के बारे में जानकारी दी है।

सन्‌ 2015 में करीब 10,500 यहोवा के साक्षियों ने 70 राज-घर (जहाँ साक्षियों की सभाएँ होती हैं) बनाए या उनकी मरम्मत की। कुछ राज-घरों के लिए यहाँ की नगरपालिका ने ज़मीन दी है। यहोवा के साक्षियों की सभाएँ स्पैनिश भाषा के अलावा 30 और भाषाओं में होती हैं, ताकि दूसरे देशों से आए लोग भी अपनी भाषा में सभाओं का आनंद ले सकें। यहोवा के साक्षियों ने यीशु मसीह की कुरबानी याद करने के लिए 2016 में जो खास सभा रखी थी, उसमें करीब 1,86,000 लोग आए।