इस जानकारी को छोड़ दें

सैकेंडरी मैन्यू को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

हिंदी

प्रहरीदुर्ग  |  अंक 4 2017

शुरूआत

शुरूआत

क्या आपने कभी इस बारे में सोचा है?

क्या यह परमेश्वर की मरज़ी थी कि इंसान कुछ साल जीए और फिर मर जाए? पवित्र शास्त्र में लिखा है, [परमेश्वर] उनकी आँखों से हर आँसू पोंछ देगा और न मौत रहेगी, न मातम, न रोना-बिलखना, न ही दर्द रहेगा।”प्रकाशितवाक्य 21:4.

ज़िंदगी और मौत के बारे में पवित्र शास्त्र में क्या बताया गया है? प्रहरीदुर्ग के इस अंक से जानिए।