इस जानकारी को छोड़ दें

सैकेंडरी मैन्यू को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

हिंदी

प्रहरीदुर्ग अंक 3 2016 | जब मौत किसी अपने को हमसे जुदा कर दे

हममें से कोई भी मौत के कहर से नहीं बच सकता। जब हमारे परिवार का कोई सदस्य या दोस्त हमसे बिछड़ जाता है, तो हम खुद को कैसे सँभाल सकते हैं?

पहले पेज का विषय

जब मौत किसी अपने को हमसे जुदा कर दे

हम इस दुख से कैसे उबर सकते हैं? क्या हम कभी उनसे दोबारा मिल सकते हैं, जो अब नहीं रहे?

पहले पेज का विषय

क्या रोना और दुखी होना गलत है?

अगर किसी को लगे कि आप हद-से-ज़्यादा दुखी हो रहे हैं, तो आप क्या करेंगे?

पहले पेज का विषय

अपनों से बिछड़ने के दुख का सामना करना

पवित्र शास्त्र में ऐसी कुछ सलाह दी गयी है, जिससे कई लोग अपना दुख कम कर पाए हैं।

पहले पेज का विषय

जो अपनों से बिछड़ गए हैं, उन्हें दिलासा दीजिए

कई बार अच्छे दोस्त भी उनकी ज़रूरतों को समझ नहीं पाते, जिन्होंने अपनों को खोया है।

पहले पेज का विषय

जो अब नहीं रहे, उन्हें ज़िंदा किया जाएगा!

क्या पवित्र शास्त्र में बतायी आशा पर यकीन किया जा सकता है?

क्या आप जानते थे?

यीशु कोढ़ियों से जिस तरह पेश आया, वह बाकी लोगों से अलग कैसे था? यहूदी धर्म गुरु किस आधार पर तलाक देने की मंज़ूरी देते थे?

पवित्र शास्त्र सँवारे ज़िंदगी

मैंने औरतों की और खुद की इज़्ज़त करनी सीखी

जोसफ एरेनबोगन ने पवित्र शास्त्र से कुछ ऐसा सीखा, जिससे उसकी पूरी ज़िंदगी ही बदल गयी।

क्या ऐसी दुनिया मुमकिन है, जहाँ हिंसा न हो?

कई लोगों की, जो पहले हिंसा करते थे, मदद की गयी जिससे वे अपने बुरे काम छोड़ पाए। जिस बात ने उन्हें बदलाव करने के लिए उभारा, वही बात दूसरों को भी बदलने में मदद कर सकती है।

जाँचिए, परखिए, फिर मानिए

आज कई तरह के ईसाई हैं, जो आपस-में अलग-अलग विचारधाराओं और नज़रिए के कारण बँट गए हैं। तो फिर आप यह कैसे पता लगा सकते हैं कि कौन सच्चाई सिखा रहा है?

क्या आपने कभी सोचा है?

क्या परमेश्वर का नाम लेना गलत है?