इस जानकारी को छोड़ दें

सैकेंडरी मैन्यू को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

हिंदी

आज कौन यहोवा की मरज़ी पूरी कर रहे हैं?

 पाठ 5

हमारी मसीही सभाओं में आकर आप क्या महसूस करेंगे?

हमारी मसीही सभाओं में आकर आप क्या महसूस करेंगे?

अर्जण्टिना

सियर्रा लियोन

बेलजियम

मलेशिया

ऐसे बहुत-से लोग हैं जिन्होंने धार्मिक सभाओं में जाना बंद कर दिया है, क्योंकि वहाँ उन्हें न तो ज़िंदगी के अहम सवालों के जवाब मिलते हैं, न ही किसी तरह का सुकून। तो फिर, आपको यहोवा के साक्षियों की सभाओं में क्यों जाना चाहिए? वहाँ आप क्या महसूस करेंगे?

आप खुशी महसूस करेंगे कि आप ऐसे लोगों के बीच हैं, जो एक-दूसरे के लिए प्यार और परवाह दिखाते हैं। पहली सदी में मसीहियों को मंडलियों में संगठित किया गया था। और वे परमेश्वर की उपासना करने, शास्त्र का अध्ययन करने और एक-दूसरे का हौसला बढ़ाने के लिए सभाएँ रखते थे। (इब्रानियों 10:24, 25) मंडलियों के प्यार-भरे माहौल में आकर सभी महसूस कर पाते थे कि वे अपने सच्चे दोस्तों यानी मसीही भाई-बहनों के बीच हैं। (2 थिस्सलुनीकियों 1:3; 3 यूहन्ना 14) हम उन मसीहियों की मिसाल पर चलते हैं और वही खुशी महसूस करते हैं।

आप सीखेंगे कि बाइबल सिद्धांतों को कैसे अपनी ज़िंदगी में लागू करें। पुराने ज़माने की तरह आज भी स्त्री-पुरुष और बच्चे सभाओं के लिए इकट्ठा होते हैं। वहाँ काबिल शिक्षक, बाइबल से यह समझने में हमारी मदद करते हैं कि उसमें दिए सिद्धांतों को हम अपनी रोज़मर्रा ज़िंदगी में कैसे लागू कर सकते हैं। (व्यवस्थाविवरण 31:12; नहेमायाह 8:8) हाज़िर लोगों के साथ होनेवाली चर्चा में सभी लोग हिस्सा ले सकते हैं और गीत गा सकते हैं। इस तरह हम अपनी मसीही आशा का ऐलान कर पाते हैं।—इब्रानियों 10:23.

परमेश्वर पर आपका विश्वास मज़बूत होगा। प्रेषित पौलुस ने अपने दिनों की एक मंडली को लिखा: “मैं तुमसे मिलने के लिए तरस रहा हूँ ताकि . . . मैं और तुम अपने-अपने विश्वास के ज़रिए एक-दूसरे का हौसला बढ़ा सकें।” (रोमियों 1:11, 12) सभाओं में जब हम नियमित तौर पर अपने मसीही भाई-बहनों से मिलते हैं और उनसे बात करते हैं, तो हमारा विश्वास मज़बूत होता है और मसीही स्तरों के मुताबिक जीने का हमारा इरादा पक्का होता है।

तो क्यों न आप हमारी अगली सभा में आएँ और खुद इन बातों को महसूस करें? आपका दिल से स्वागत किया जाएगा। सभाओं में आने के लिए न तो पैसे लिए जाते हैं, न ही चंदा माँगा जाता है।

  • किसकी मिसाल को ध्यान में रखकर हमारी मसीही सभाएँ रखी जाती हैं?

  • मसीही सभाओं में हाज़िर होने से हमें क्या फायदे होते हैं?