सोलोमन द्वीप समूह

कनाडा

दक्षिण अफ्रीका

शाखा दफ्तर एक या एक-से-ज़्यादा देशों में हो रहे प्रचार काम की देखरेख करता है। इस काम में मदद करने के लिए बेथेल परिवार के सदस्य अलग-अलग विभागों में सेवा करते हैं। वे अनुवाद करने, पत्रिकाएँ छापने, किताबों पर जिल्द चढ़ाने, साहित्य का भंडार सँभालने, ऑडियो/वीडियो बनाने या शाखा दफ्तर के इलाके की दूसरी ज़रूरतों का ध्यान रखने में मदद देते हैं।

शाखा समिति सारे काम की निगरानी करती है। शासी निकाय, हर शाखा दफ्तर के काम की देखरेख शाखा समिति को सौंपता है। यह समिति तीन या उससे ज़्यादा काबिल और तजुरबेकार प्राचीनों से बनी होती है। यह अपने इलाके में हो रहे साक्षियों के काम के बारे में शासी निकाय को इत्तला करती रहती है और अगर कोई समस्या खड़ी होती है तो उस बारे में भी उन्हें खबर देती है। इन रिपोर्टों से शासी निकाय को यह तय करने में मदद मिलती है कि आनेवाले साहित्य में, सभाओं और सम्मेलनों में किस तरह के विषयों पर चर्चा की जानी चाहिए। अलग-अलग शाखाओं का दौरा करने और शाखा समितियों को अपनी ज़िम्मेदारी सँभालने में मदद देने के लिए, शासी निकाय अपने नुमाइंदों को नियमित तौर पर भेजता रहता है। (नीतिवचन 11:14) इस दौरान उस शाखा के क्षेत्र में रहनेवाले लोगों की हौसला-अफज़ाई के लिए एक खास कार्यक्रम रखा जाता है, जिसमें मुख्यालय प्रतिनिधि का एक भाषण भी शामिल होता है।

शाखा दफ्तर अपने इलाके की मंडलियों को सहयोग देता है। अगर कोई नयी मंडली बनायी जानी है, तो इसकी मंज़ूरी शाखा दफ्तर के ज़िम्मेदार भाई देते हैं। इसके अलावा, वे शाखा दफ्तर के इलाके में सेवा करनेवाले पायनियरों, मिशनरियों और सर्किट निगरानों को निर्देशन भी देते हैं। वे सम्मेलनों और अधिवेशनों का आयोजन करते हैं, नए राज-घरों के निर्माण काम की देखरेख करते हैं और इस बात का ध्यान रखते हैं कि मंडलियों की ज़रूरत के हिसाब से उन्हें साहित्य भेजा जाए। शाखा दफ्तर में जो भी काम किया जाता है, उससे प्रचार काम को अच्छे इंतज़ाम के मुताबिक करने में मदद मिलती है।—1 कुरिंथियों 14:33, 40.

  • शाखा समिति किस तरह शासी निकाय को सहयोग देती है?

  • शाखा दफ्तर में कौन-कौन-से काम किए जाते हैं?