इस जानकारी को छोड़ दें

सैकेंडरी मैन्यू को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

हिंदी

बाइबल से सीखें अनमोल सबक

भाग 8 में क्या है

भाग 8 में क्या है

यहोवा ने सुलैमान को बहुत बुद्धि दी और मंदिर बनाने का खास सम्मान दिया। मगर धीरे-धीरे उसने यहोवा को छोड़ दिया। अगर आपके बच्चे हैं तो उन्हें समझाइए कि झूठी उपासना करनेवाले कैसे सुलैमान को परमेश्‍वर से दूर ले गए। इसराएल राज्य दो हिस्सों में बँट गया। बुरे राजाओं ने राष्ट्र को यहोवा से दूर कर दिया और मूर्तिपूजा की तरफ ले गए। उस दौरान यहोवा के कई वफादार भविष्यवक्‍ताओं को सताया गया और मार डाला गया। रानी इज़ेबेल ने उत्तरी राज्य को पूरी तरह यहोवा के खिलाफ कर दिया। इसराएल के इतिहास में यह बहुत ही बुरा समय था। मगर इसराएलियों में अब भी ऐसे कई लोग थे जो वफादारी से यहोवा की सेवा कर रहे थे, जैसे राजा यहोशापात और भविष्यवक्‍ता एलियाह।

इस भाग में

पाठ 44

यहोवा के लिए एक मंदिर

परमेश्‍वर राजा सुलैमान की बिनती सुनता है और उसे ढेरों आशीषें देता है।

पाठ 45

राज्य का बँटवारा

बहुत-से इसराएली यहोवा की सेवा करनी छोड़ देते हैं।

पाठ 46

करमेल पहाड़ पर एक परीक्षा

सच्चा परमेश्‍वर कौन है? यहोवा या बाल?

पाठ 47

यहोवा ने एलियाह को हिम्मत दी

आपको क्या लगता है, क्या वह आपको भी हिम्मत दे सकता है?

पाठ 48

एक विधवा का बेटा फिर से ज़िंदा हो गया

एक ही घर में दो चमत्कार!

पाठ 49

एक बुरी रानी को सज़ा मिली

इज़ेबेल, नाबोत का अंगूरों का बाग चुराने के लिए एक साज़िश करती है। यहोवा उसके बुरे काम को अनदेखा नहीं करता।

पाठ 50

यहोवा ने यहोशापात को बचाया

जब यहूदा देश को दुश्‍मनों से खतरा होता है तो अच्छा राजा यहोशापात परमेश्‍वर से मदद के लिए प्रार्थना करता है।