इस जानकारी को छोड़ दें

सैकेंडरी मैन्यू को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

हिंदी

बाइबल से सीखें अनमोल सबक

 पाठ 22

लाल सागर के पास चमत्कार

लाल सागर के पास चमत्कार

जैसे ही फिरौन ने सुना कि इसराएली मिस्र छोड़कर चले गए हैं, उसे अफसोस हुआ कि उसने उन्हें क्यों जाने दिया। उसने अपने सैनिकों को हुक्म दिया, ‘सभी युद्ध-रथों को तैयार करो। हम उनका पीछा करेंगे।’ फिर वह और उसके आदमी इसराएलियों का पीछा करने लगे।

यहोवा अपने लोगों को रास्ता दिखाकर ले जा रहा था। वह उन्हें दिन को बादल से और रात को आग से रास्ता दिखाता था। वह उन्हें लाल सागर के पास ले गया और वहाँ उनसे तंबू खड़ा करने के लिए कहा।

फिर इसराएलियों ने देखा कि फिरौन अपनी सेना लेकर उनके पीछे आ रहा है। वे फँस गए क्योंकि आगे सागर था और पीछे मिस्री सेना। वे चिल्लाकर मूसा से कहने लगे, ‘तू हमें मिस्र से क्यों ले आया? अब देखना, हम सब मारे जाएँगे!’ मगर मूसा ने कहा, ‘डरो मत। बस देखो कि यहोवा हमें कैसे बचाता है।’ सच, मूसा को यहोवा पर कितना भरोसा था!

यहोवा ने इसराएलियों से कहा कि वे तंबू उठाकर आगे बढ़ें। उस रात यहोवा ने बादल को सामने से हटाकर मिस्रियों और इसराएलियों के बीच रख दिया। अब मिस्रियों की तरफ अँधेरा था और इसराएलियों की तरफ उजाला।

 यहोवा ने मूसा से कहा कि वह अपना हाथ सागर पर बढ़ाए। फिर यहोवा ने सारी रात एक तेज़ हवा चलायी। इससे सागर दो हिस्सों में बँट गया और पानी दोनों तरफ दीवार की तरह खड़ा हो गया। बीच में एक रास्ता बन गया। लाखों इसराएली उस सूखी ज़मीन पर चलते हुए सागर के उस पार चले गए।

फिरौन की सेना, इसराएलियों का पीछा करती हुई सूखी ज़मीन पर उतर पड़ी। तब यहोवा ने सेना को गड़बड़ी में डाल दिया। उनके रथों से पहिए निकलने लगे। सैनिक चिल्लाकर एक-दूसरे से कहने लगे, ‘भागो यहाँ से! यहोवा उनकी तरफ से लड़ रहा है।’

यहोवा ने मूसा से कहा, “अपना हाथ सागर पर बढ़ा।” ऐसा करते ही जो पानी दीवार की तरह खड़ा था वह मिस्री सेना पर गिर पड़ा। फिरौन और उसके सभी आदमी मर गए। एक भी ज़िंदा नहीं बचा!

सागर के उस पार लोगों की बड़ी भीड़ ने परमेश्‍वर की तारीफ में गीत गाया, ‘यहोवा के लिए गीत गाओ क्योंकि उसने शानदार जीत हासिल की है। घोड़े के साथ घुड़सवारों को उसने समुंदर में फेंक दिया है।’ जब लोग गा रहे थे तब औरतें नाचने लगीं और डफलियाँ बजाने लगीं। सब लोग बहुत खुश थे कि अब वे सचमुच आज़ाद हो गए हैं।

“इसलिए हम पूरी हिम्मत रखें और यह कहें, ‘यहोवा मेरा मददगार है, मैं नहीं डरूँगा। इंसान मेरा क्या कर सकता है?’”—इब्रानियों 13:6