यहोवा ने वादा किया है, ‘ऐसा वक्‍त आएगा जब न रोना-बिलखना होगा, न दर्द रहेगा, न बीमारी और न मौत रहेगी। मैं सबकी आँखों से आँसू पोंछ दूँगा। पहले जो कुछ बुरा हुआ था वह सब भुला दिया जाएगा।’

यहोवा ने आदम और हव्वा को अदन के बाग में इसलिए बसाया था ताकि वे शांति और खुशी से जीएँ। उन्हें स्वर्ग में रहनेवाले अपने पिता की उपासना करनी थी और बच्चे पैदा करने थे ताकि धरती लोगों से भर जाए। आदम और हव्वा ने यहोवा की बात नहीं मानी, फिर भी यहोवा का मकसद नहीं बदला है। इस किताब में हमने पढ़ा कि परमेश्‍वर जो भी वादा करता है वह पूरा होता है। उसके राज से धरती के लोगों को बहुत-सी आशीषें मिलेंगी, ठीक जैसे उसने अब्राहम से वादा किया था।

जल्द ही शैतान, उसके दुष्ट स्वर्गदूतों और सभी बुरे लोगों का नामो-निशान मिटा दिया जाएगा। तब दुनिया का हर इंसान यहोवा की उपासना करेगा। हम न बीमार होंगे, न ही मरेंगे। हर दिन सुबह जब हम उठेंगे तो हममें चुस्ती-फुर्ती होगी  और हम खुश होंगे कि हमें कितनी बढ़िया ज़िंदगी मिली है। पूरी धरती एक सुंदर बाग यानी फिरदौस बन जाएगी। सबके पास अच्छा खाना और रहने के लिए मज़बूत घर होंगे। सिर्फ अच्छे लोग होंगे। कोई किसी को नहीं मारेगा। न जंगली जानवर हमसे डरेंगे और न हम उनसे डरेंगे।

जब यहोवा मरे हुओं को ज़िंदा करेगा तो वह क्या ही खुशी का समय होगा! हम पुराने ज़माने के लोगों का स्वागत करेंगे, जैसे हाबिल, नूह, अब्राहम, सारा, मूसा, रूत, एस्तेर और दाविद का। वे हमारे साथ मिलकर इस धरती को फिरदौस बनाएँगे। हमारे पास हमेशा मज़ेदार काम होगा।

यहोवा चाहता है कि आप भी फिरदौस में रहें। वहाँ आप यहोवा के बारे में ऐसी बातें सीखेंगे जो आपने कभी सोची भी नहीं होगी। तो आइए हम हर दिन यहोवा के करीब आते जाएँ। ऐसा हम आज भी और हमेशा के लिए करते रहें!

“हे यहोवा, हमारे परमेश्‍वर, तू महिमा, आदर और शक्‍ति पाने के योग्य है क्योंकि तू ही ने सारी चीज़ें रची हैं।”—प्रकाशितवाक्य 4:11