इस जानकारी को छोड़ दें

सैकेंडरी मैन्यू को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

हिंदी

बाइबल से सीखें अनमोल सबक

 पाठ 91

यीशु को ज़िंदा किया गया

यीशु को ज़िंदा किया गया

यीशु की मौत के बाद, यूसुफ नाम के एक अमीर आदमी ने पीलातुस से पूछा कि क्या वह यीशु की लाश काठ से उतारकर ले जा सकता है। यूसुफ ने लाश को मसालों के साथ बढ़िया मलमल में लपेटा और एक नयी कब्र में रखा। उसने कब्र के द्वार पर एक बड़ा पत्थर लुढ़काकर रख दिया। प्रधान याजकों ने पीलातुस से कहा, ‘हमें डर है कि यीशु के कुछ चेले आकर उसकी लाश ले जाएँगे और कहेंगे कि वह ज़िंदा हो गया है।’ तब पीलातुस ने उनसे कहा, ‘कब्र को अच्छी तरह बंद कर दो और पहरेदारों को खड़ा कर दो।’

तीन दिन बाद, सुबह-सुबह कुछ औरतें कब्र के पास गयीं। उन्होंने देखा कि कब्र से पत्थर हटा दिया गया है। कब्र के अंदर एक स्वर्गदूत था जिसने औरतों से कहा, ‘डरो मत। यीशु को ज़िंदा कर दिया गया है। जाओ जाकर उसके चेलों को बताओ कि वे उससे मिलने गलील जाएँ।’

मरियम मगदलीनी, पतरस और यूहन्‍ना को ढूँढ़ने फौरन निकल पड़ी। उसने उनसे कहा, ‘कोई यीशु की लाश उठाकर ले गया है!’ पतरस और यूहन्‍ना भागकर कब्र के पास गए। जब उन्होंने देखा कि कब्र खाली है तो वे अपने घर लौट गए।

जब मरियम कब्र लौटी तो उसने देखा कि उसके अंदर दो स्वर्गदूत हैं। उसने उनसे कहा, ‘मैं नहीं जानती कि वे मेरे प्रभु को कहाँ ले गए।’ फिर उसने एक आदमी को देखा और सोचा कि वह माली है। उसने उस आदमी से कहा, ‘भाई, मुझे बता तू उसे कहाँ ले गया।’ मगर जब उस आदमी ने उसे “मरियम!” कहकर पुकारा तो वह पहचान गयी कि वह आदमी यीशु है। वह चिल्ला उठी, “गुरु!” और वह यीशु को पकड़े रही। यीशु ने उससे कहा, ‘जाकर मेरे भाइयों को बता कि तूने मुझे देखा है।’ मरियम भागकर चेलों के पास गयी और उसने उन्हें बताया कि उसने यीशु को देखा है।

उसी दिन बाद में दो चेले यरूशलेम से इम्माऊस जा रहे थे। रास्ते में एक आदमी उनके साथ-साथ चलने लगा और उसने उनसे पूछा कि वे किस बारे में बात कर रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘क्या तूने नहीं सुना? तीन दिन पहले प्रधान याजकों ने यीशु को मार डाला था। अब कुछ औरतें कह रही हैं कि वह ज़िंदा है!’ उस आदमी ने पूछा, ‘क्या तुम्हें भविष्यवक्‍ताओं की बात पर यकीन नहीं है? उन्होंने कहा था कि मसीह मर  जाएगा और फिर उसे ज़िंदा किया जाएगा।’ वह उन्हें शास्त्र में लिखी बातें समझाता रहा। जब वे इम्माऊस पहुँचे तो चेलों ने उससे कहा कि वह उनके साथ आए। शाम के खाने के वक्‍त जब उसने रोटी के लिए प्रार्थना की तब उन्होंने पहचान लिया कि वह यीशु है। फिर यीशु गायब हो गया।

दोनों चेले फौरन यरूशलेम में उस घर में गए जहाँ प्रेषित इकट्ठा थे और जो-जो हुआ वह सब उन्हें बताया। जब वे घर के अंदर थे तो यीशु उन सबको दिखायी दिया। पहले तो प्रेषितों को यकीन नहीं हुआ कि वह यीशु है। तब यीशु ने उनसे कहा, ‘मेरे हाथ देखो और मुझे छूओ। शास्त्र में लिखा है कि मसीह को मरे हुओं में से ज़िंदा किया जाएगा।’

“मैं ही वह राह, सच्चाई और जीवन हूँ। कोई भी पिता के पास नहीं आ सकता, सिवा उसके जो मेरे ज़रिए आता है।”—यूहन्‍ना 14:6