इस जानकारी को छोड़ दें

सैकेंडरी मैन्यू को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

हिंदी

परमेश्वर की तरफ से खुशखबरी!

 पाठ 10

आप सच्चे धर्म को कैसे पहचान सकते हैं?

आप सच्चे धर्म को कैसे पहचान सकते हैं?

1. क्या सिर्फ एक ही सच्चा धर्म है?

“झूठे भविष्यवक्ताओं से खबरदार रहो।”—मत्ती 7:15.

यीशु ने अपने शिष्यों को एक ही धर्म के बारे में सिखाया था। यह वह रास्ता है जो हमेशा की ज़िंदगी की तरफ ले जाता है। इस रास्ते के बारे में यीशु ने कहा: “उसे पानेवाले थोड़े हैं।” (मत्ती 7:14) परमेश्वर सिर्फ ऐसी उपासना कबूल करता है जो उसके वचन, बाइबल पर आधारित हो। सच्चे धर्म के माननेवालों के बीच एकता होती है क्योंकि वे एक-जैसी शिक्षाओं पर विश्वास करते हैं।—यूहन्ना 4:23, 24; 14:6; इफिसियों 4:4, 5 पढ़िए।

2. यीशु ने किस बारे में आगाह किया था?

“वे परमेश्वर को जानने का सरेआम दावा तो करते हैं, मगर उनके काम दिखाते हैं कि वे परमेश्वर का इनकार करते हैं।”—तीतुस 1:16.

यीशु ने आगाह किया था कि कुछ लोग उसके शिष्य होने का दावा करेंगे और उसकी शिक्षाओं में मिलावट करेंगे। ऐसों को उसने झूठे भविष्यवक्ता कहा। शायद उन्हें देखकर लगे कि वे वाकई यीशु की बातों को मानते हैं, लेकिन आप उनकी असलियत पहचान सकते हैं। कैसे? यीशु के सच्चे शिष्य यानी सच्चे मसीही अपने गुणों और अपने कामों से पहचाने जा सकते हैं।—मत्ती 7:13-23 पढ़िए।

3. आप सच्चा धर्म माननेवालों को कैसे पहचान सकते हैं?

नीचे दी पाँच निशानियों पर गौर कीजिए:

  • सच्चा धर्म माननेवाले बाइबल को परमेश्वर की देन मानते हैं। वे बाइबल के सिद्धांतों के मुताबिक जीने की कोशिश करते हैं। सच्चा धर्म किसी इंसान के विचारों पर आधारित नहीं होता। (मत्ती 15:7-9) सच्चे उपासकों की कथनी और करनी में फर्क नहीं होता; वे जैसा सिखाते हैं, वैसा करते भी हैं।—यूहन्ना 17:17; 2 तीमुथियुस 3:16, 17 पढ़िए।

  •   यीशु के सच्चे शिष्य परमेश्वर के नाम, यहोवा का आदर करते हैं। यीशु ने भी ऐसा ही किया, इसीलिए उसने लोगों को परमेश्वर का नाम बताया और उसके बारे में सिखाया। उसने लोगों से यह भी कहा कि वे परमेश्वर का नाम पवित्र किए जाने के लिए प्रार्थना करें। (मत्ती 6:9) आप जहाँ रहते हैं, वहाँ कौन-सा धर्म सिखाता है कि परमेश्वर का नाम यहोवा है?—यूहन्ना 17:26; रोमियों 10:13, 14 पढ़िए।

  • मसीही लोगों को परमेश्वर के राज के बारे में बताते हैं। परमेश्वर ने यीशु को राज की खुशखबरी सुनाने के लिए भेजा था। सिर्फ परमेश्वर का राज इंसानों की परेशानियाँ दूर कर सकता है। यीशु ने मरते दम तक लोगों को इसके बारे में बताया। (लूका 4:43; 8:1; 23:42, 43) उसने कहा था कि जो वाकई उसका कहा मानते हैं, वे परमेश्वर के राज का ऐलान करेंगे। अगर कोई आपसे परमेश्वर के राज के बारे में बात करे, तो आपके हिसाब से वह किस धर्म का होगा?—मत्ती 24:14 पढ़िए।

  • सच्चा धर्म माननेवाले इस दुष्ट दुनिया का हिस्सा नहीं बनते। वे राजनैतिक मामलों या सामाजिक झगड़ों में शामिल नहीं होते। (यूहन्ना 17:16; 18:36) साथ ही, वे इस दुनिया के बुरे कामों, रवैयों और आदतों को नहीं अपनाते।—याकूब 4:4 पढ़िए।

  • सच्चा धर्म माननेवालों में गहरा प्यार होता है। वे बाइबल से सीखते हैं कि उन्हें भाषा या संस्कृति के आधार पर किसी तरह का भेदभाव नहीं करना चाहिए बल्कि सभी की इज़्ज़त करनी चाहिए। हालाँकि दुनिया के कई धर्म अकसर युद्धों को समर्थन देते हैं, लेकिन मसीही ऐसा नहीं करते। (मीका 4:1-3) वे बिना किसी स्वार्थ के अपना समय और साधन दूसरों की मदद करने और उनकी हिम्मत बढ़ाने के लिए इस्तेमाल करते हैं।—यूहन्ना 13:34, 35; 1 यूहन्ना 4:20 पढ़िए।

4. क्या आप सच्चे धर्म को पहचान सकते हैं?

वह कौन-सा धर्म है जिसकी सारी शिक्षाएँ परमेश्वर के वचन पर आधारित हैं, जो परमेश्वर के नाम की इज़्ज़त करता है और यह ऐलान करता है कि परमेश्वर का राज ही इंसानों की परेशानियाँ दूर करेगा? वे कौन-से लोग हैं, जो एक-दूसरे के लिए प्यार दिखाते हैं और युद्ध में हिस्सा नहीं लेते? आपको क्या लगता है?—1 यूहन्ना 3:10-12 पढ़िए।