इस जानकारी को छोड़ दें

सैकेंडरी मैन्यू को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

हिंदी

परमेश्वर का पैगाम—आपके नाम

बाइबल की जाँच करना क्यों ज़रूरी है?

बाइबल की जाँच करना क्यों ज़रूरी है?

क्या आप पवित्र शास्त्र, बाइबल के बारे में जानते हैं? बाइबल एक बेजोड़ किताब है। यह अब तक की सबसे ज़्यादा बाँटी जानेवाली किताब है। इसमें दिए पैगाम से हर संस्कृति के लोगों को दिलासा और उम्मीद मिलती है। यही नहीं, इसमें दी सलाहें रोज़मर्रा की ज़िंदगी के लिए फायदेमंद साबित हुई हैं। मगर आज ज़्यादातर लोग बाइबल के बारे में बहुत कम जानते हैं। चाहे आप ईश्वर पर विश्वास रखते हों या नहीं, पर हो सकता है आपको बाइबल के बारे में जानने में दिलचस्पी हो। इस सिलसिले में यह ब्रोशर आपकी मदद कर सकता है। इसे इसलिए तैयार किया गया है, ताकि आप पूरी बाइबल का सारांश जान सकें।

इससे पहले कि आप बाइबल पढ़ना शुरू करें, अच्छा होगा आप इसकी रचना के बारे में कुछ जान लें। बाइबल 66 छोटी-छोटी किताबों से बनी है। इसकी पहली किताब का नाम है, उत्पत्ति और आखिरी किताब का नाम है, प्रकाशितवाक्य।

बाइबल का रचनाकार कौन है? यह बड़ा दिलचस्प सवाल है। बाइबल को कुछ 40 अलग-अलग लोगों ने 1,600 से ज़्यादा सालों के दौरान लिखा था। लेकिन उनमें से किसी ने भी कभी यह दावा नहीं किया कि वह उसका रचनाकार है। इसके बजाय, बाइबल के एक लेखक ने लिखा: “पूरा शास्त्र परमेश्वर की प्रेरणा से लिखा गया है।” (2 तीमुथियुस 3:16) एक दूसरे लेखक ने कहा: ‘यहोवा की पवित्र शक्‍ति मेरे ज़रिए बोली और उसका वचन मेरी ज़ुबान पर था।’ (2 शमूएल 23:2, NW) इन आयतों से साफ ज़ाहिर है कि लेखकों ने पूरे जहान के मालिक और परमेश्वर को ही बाइबल का रचनाकार बताया। उस परमेश्वर का नाम यहोवा है। उन्होंने यह भी कहा कि यहोवा हम इंसानों के करीब आना चाहता है।

बाइबल को समझने के लिए एक और बात जानना ज़रूरी है। वह क्या? पूरी बाइबल का एक मूल-विषय है: यहोवा अपने राज के ज़रिए हमेशा के लिए साबित कर देगा कि इंसानों पर हुकूमत करने का अधिकार सिर्फ उसे है। इस ब्रोशर में आप पाएँगे कि बाइबल की सारी किताबों को कैसे इस मूल-विषय के साथ पिरोया गया है।

इन बातों को ध्यान में रखते हुए आइए देखें कि दुनिया की सबसे जानी-मानी किताब, बाइबल में हमारे लिए क्या पैगाम दिया गया है।

^ पैरा. 9 तारीख लिखने के अलग-अलग तरीके हैं। इस ब्रोशर में ई.पू. यानी ईसा पूर्व और ई. यानी ईसवी या ईसवी सन्‌ इस्तेमाल किया गया है। तारीख लिखने का यही तरीका आप हर पेज के नीचे दी समय-रेखा में देख सकते हैं।