इस जानकारी को छोड़ दें

सैकेंडरी मैन्यू को छोड़ दें

विषय-सूची को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

हिंदी

परमेश्वर का पैगाम—आपके नाम

 भाग 26

धरती बनी फिरदौस!

धरती बनी फिरदौस!

यहोवा अपने राज के ज़रिए अपने नाम को पवित्र करेगा और यह साबित करेगा कि इंसानों पर हुकूमत करने का अधिकार सिर्फ उसे है। साथ ही, वह सारी दुष्टता का सफाया भी करेगा। इस राज का राजा, यीशु मसीह है

बाइबल की आखिरी किताब प्रकाशितवाक्य, सभी इंसानों में उम्मीद की किरण जगाती है। इस किताब का लेखक प्रेषित यूहन्ना है। इसमें ऐसे दर्शनों का ब्यौरा दिया गया है, जो उस वक्‍त पूरे होंगे जब यहोवा का मकसद अपने अंजाम तक पहुँचनेवाला होगा।

पहले दर्शन में यीशु कई मंडलियों की तारीफ करता है और यह भी बताता है कि उन्हें किन मामलों में सुधार करने की ज़रूरत है। अगले दर्शन में स्वर्ग में परमेश्वर का सिंहासन दिखाया गया है। और सिंहासन के आगे आत्मिक प्राणी खड़े होकर यहोवा की जयजयकार कर रहे हैं।

जब परमेश्वर के मकसद के पूरे होने का समय नज़दीक आता है, तो मेम्ने यानी यीशु मसीह को लिपटा हुआ एक परचा दिया जाता है। इस परचे को सात मुहरों से मुहरबंद किया गया है। जब चार मुहरें खोली जाती हैं, तो कुछ घुड़सवार प्रकट होते हैं। पहला घुड़सवार सफेद घोड़े पर बैठा और सिर पर ताज पहना है। यह यीशु है। इसके बाद, और भी दूसरे घुड़सवार आते हैं जो अलग-अलग रंग के घोड़ों पर बैठे हैं। वे युद्ध, अकाल और महामारी को दर्शाते हैं। ये सारी विपत्तियाँ, इस दुनिया की व्यवस्था के आखिरी दिनों में आती हैं। जब सातवीं मुहर खोली जाती है, तो सात तुरहियाँ बजती हैं। इन तुरहियों के बजने का मतलब है, परमेश्वर के न्याय का ऐलान किया जाना। इसके बाद, सात कहर टूटते हैं जो परमेश्वर का क्रोध दिखाने के अलग-अलग तरीके हैं।

परमेश्वर के राज को एक नए जन्मे लड़के से दर्शाया गया है। यह राज स्वर्ग में कायम होता है। इसके बाद, एक जंग छिड़ती है। शैतान और दूसरे दुष्ट स्वर्गदूतों को धरती पर फेंक दिया जाता है। फिर एक ज़ोरदार आवाज़ सुनायी देती है: ‘धरती पर हाय’! शैतान बड़े गुस्से में है, क्योंकि वह जानता है कि उसका बहुत कम वक्‍त बाकी रह गया है।—प्रकाशितवाक्य 12:12.

एक और दर्शन में यूहन्ना देखता है कि मेम्ने यानी यीशु के साथ 1,44,000 जन खड़े हैं। इन्हें इंसानों में से लिया गया है। वे ‘राजा बनकर यीशु के साथ राज करेंगे।’ इस तरह, प्रकाशितवाक्य की किताब खुलासा करती है कि 1,44,000 जन मिलकर वंश का दूसरा भाग बनेंगे।—प्रकाशितवाक्य 14:1; 20:6.

धरती के सभी शासक “सर्वशक्‍तिमान परमेश्वर के महान दिन के युद्ध,” हर-मगिदोन के लिए इकट्ठा होंगे। वे सफेद घोड़े पर सवार यीशु से लड़ेंगे, जिसकी कमान में स्वर्गदूतों की एक बड़ी सेना है। दुनिया के सभी शासकों का नामो-निशान मिटा दिया जाएगा। शैतान को बाँध दिया जाएगा। फिर यीशु और 1,44,000 जन, धरती पर “एक हज़ार साल” के लिए राज करेंगे। हज़ार साल के खत्म होने पर शैतान को हमेशा के लिए नाश कर दिया जाएगा।—प्रकाशितवाक्य 16:14; 20:4.

हज़ार साल की हुकूमत के दौरान आज्ञा माननेवाले इंसानों को क्या-क्या आशीषें मिलेंगी? इस बारे में यूहन्ना ने लिखा: “[यहोवा] उनकी आँखों से हर आँसू पोंछ देगा, और न मौत रहेगी, न मातम, न रोना-बिलखना, न ही दर्द रहेगा। पिछली बातें खत्म हो चुकी हैं।” (प्रकाशितवाक्य 21:4) जी हाँ, धरती एक बार फिर फिरदौस बन जाएगी!

वाकई, प्रकाशितवाक्य की किताब क्या ही खूबसूरत तरीके से बाइबल के पैगाम की कड़ियों को पूरी करती है! आखिरकार, मसीह के राज के ज़रिए यहोवा का नाम पवित्र किया जाएगा और यह साबित किया जाएगा कि इंसानों पर हुकूमत करने का अधिकार सिर्फ यहोवा को है।

—यह भाग प्रकाशितवाक्य की किताब पर आधारित है।