इस जानकारी को छोड़ दें

सैकेंडरी मैन्यू को छोड़ दें

यहोवा के साक्षी

हिंदी

ईश्वर इस धरती के हालात कैसे बदलेगा?

ईश्वर इस धरती के हालात कैसे बदलेगा?

आपको क्या लगता है . . .

  • अपने राज के ज़रिए?

  • इंसानों के ज़रिए?

  • किसी और के ज़रिए?

 इस बारे में पवित्र शास्त्र में क्या लिखा है?

“स्वर्ग का परमेश्वर एक ऐसा राज कायम करेगा जो कभी नाश नहीं किया जाएगा।”—दानिय्येल 2:44.

अगर ऊपर बतायी गयी बात सच है, तो हम क्या उम्मीद कर सकते हैं?

  • यही कि ईश्वर की सरकार न्याय से हुकूमत करेगी और हरेक व्यक्ति के फायदे के लिए काम करेगी।—यशायाह 48:17, 18.

  • उस वक्‍त कोई बीमारी नहीं होगी और सभी खुश रहेंगे।—प्रकाशितवाक्य 21:3, 4.

 हम इस बात पर क्यों यकीन कर सकते हैं?

ज़रा इन दो कारणों पर ध्यान दीजिए:

  • परमेश्वर का राज क्या-क्या करेगा, इसकी एक झलक शास्त्र में दी गयी है। शास्त्र में लिखा है कि हम प्रार्थना करें कि परमेश्वर का राज आए और धरती पर उसकी मरज़ी पूरी हो। (मत्ती 6:9, 10) यह प्रार्थना कैसे पूरी होगी, इसकी एक झलक परमेश्वर ने अपने सेवकों के ज़रिए दिखायी।

    शास्त्र में बताया है कि पुराने ज़माने में परमेश्वर ने अपने सेवकों को बड़े-बड़े काम करने की ताकत दी। उन्होंने हज़ारों को भरपेट खाना खिलाया, बीमारों को ठीक किया और कुछ लोगों को ज़िंदा भी किया। (मत्ती 15:29-38; यूहन्ना 11:38-44) इस तरह उसने यह दिखाया कि अपने राज में वह इंसानों के लिए क्या-क्या करेगा।

  • दुनिया की बिगड़ती हालत से साफ पता चलता है कि परमेश्वर का राज जल्द आनेवाला है। पवित्र शास्त्र में लिखा है कि इससे पहले कि परमेश्वर का राज धरती पर शांति लाए, इस दुनिया में चारों तरफ युद्ध होंगे, अकाल पड़ेंगे और भूकंप आएँगे।—मत्ती 24:3, 7.

    यह सबकुछ आज हम अपनी आँखों से देख रहे हैं, इसलिए हम यकीन कर सकते हैं कि परमेश्वर का राज बहुत जल्द ये सारी दुख-तकलीफें खत्म कर देगा।

 ज़रा सोचिए

परमेश्वर के राज में ज़िंदगी कैसी होगी?

इस सवाल का जवाब पवित्र शास्त्र की इन आयतों में दिया गया है: भजन 37:29 और यशायाह 65:21-23.